पोलैंड की ओल्गा टोकर्कज़ुक ने मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार प्राप्त किया

पोलैंड की साहित्यकार ओल्गा टोकर्कज़ुक ने 22 मई 2018 को प्रतिष्ठित मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार जीता. उन्हें यह पुरस्कार उनके फिक्शन उपन्यास ‘फ्लाइट्स’ के लिए दिया गया.  

‘फ्लाइट्स’ के साथ कुछ अन्य उपन्यास भी पुरस्कार की दौड़ में शामिल थे लेकिन ओल्गा ने सभी को पीछे छोड़ते हुए पुरस्कार हासिल किया. मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार के लिए नामांकित उपन्यासों में इराकी लेखक अहमद सदावी की हॉरर कहानी ‘फ्रैंकइंस्टीन इन बगदाद’ तथा दक्षिण कोरिया के लेखक हान कांग के उपन्यास ‘द वाइट बुक’ शामिल थे.

टोकर्कज़ुक का उपन्यास 17वीं शताब्दी के रचनात्मकता की कहानी के साथ आधुनिक-दिन की कथा यात्रा को जोड़ता है, जिसमें एक शरीररचना-वैज्ञानिक स्वयं अपनी विकलांग टांग को पृथक कर देता है तथा साथ ही संगीतकार फ्रेडरिक चोपिन की पेरिस से वॉरसॉ की यात्रा को प्रदर्शित करता है.

लेखक लिसा एपिनेंसेनी के नेतृत्व में निर्णय पैनल ने "फ्लाइट्स" को एक मजेदार, चंचल उपन्यास कहा, जिसमें "सतत द्वंद्व की समकालीन स्थिति" मृत्यु की निश्चितता को पूरा करती है.

यह भी पढ़ें: शीतांशु यशचंद्र को सरस्वती सम्मान के लिए चयनित किया गया

मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार

•    यह पुरस्कार अंग्रेजी भाषा के उपन्यासों के लिए मैन बुकर पुरस्कार के समकक्ष है और अंग्रेजी में अनुवादित किसी भी भाषा में पुस्तकों के लिए खुला है.

•    50,000 पौंड (67,000 डॉलर) पुरस्कार लेखक और उसके अनुवादक जेनिफर क्रॉफ्ट के बीच समान रूप से विभाजित होंगे.

•    मैन बुकर अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार पाठकों को बेहतरीन किताबों को पुरस्कृत करता है.

•    वर्ष 2016 से मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार को एक पुस्तक के लिए सालाना सम्मानित किया जाता है. इसका अनुवाद अंग्रेजी में किया गया हो और उसे यूके में प्रकाशित किया गया हो.

•    वर्ष 2018 में मैन बुकर पुरस्कारों ने अपने 50 वर्ष पूरे किये हैं. इस उपलक्ष्य में विश्व भर में साहित्यिक कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे.

 

 

Related Categories

Popular

View More