Jagranjosh Education Awards 2021: Click here if you missed it!
Next

पीएम मोदी ने पश्चिम बंगाल के हल्दिया में चार परियोजनाएं राष्ट्र को समर्पित की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 07 फरवरी 2021 को पश्चिम बंगाल के हल्दिया में 4700 करोड़ रुपये की चार बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को राष्ट्र को समर्पित किया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बंगाल में विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा से ठीक पहले राज्य में अपने दौरे के दौरान हल्दिया में तेल, गैस और आधारभूत संरचना से जुड़ी 4700 करोड़ रुपये से ज्यादा की चार महत्वाकांक्षी परियोजनाओं को राष्ट्र को समर्पित किया.

ये सभी परियोजनाएं सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियां इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आइओसी), भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल), गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया (गेल) और भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) से जुड़ी हैं. प्रधानमंत्री ने यहां सबसे पहले बीपीसीएल द्वारा 1097.54 करोड़ रुपये की लागत से हल्दिया में निर्मित एलपीजी इंपोर्ट टर्मिनल का रिमोट से उद्घाटन किया.

इससे होने वाला फायदा

इससे 1,000 लोगों को सीधे तौर पर रोजगार मिलेगा. प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत बंगाल सहित पूर्वी राज्यों में लाखों नए एलपीजी कनेक्शन दिए गए हैं. उन्हें निरंतर एलपीजी की आपूर्ति करने हेतु इस एलपीजी टर्मिनल का निर्माण किया गया है.

प्रधानमंत्री ने इस मौके पर क्या कहा?

प्रधानमंत्री ने इस मौके पर कहा कि पिछले छह वर्षों से वह पूर्वी भारत के विकास के लिए निरंतर काम कर रहे हैं. इस परियोजना से पूर्वी भारत सहित देश के कई राज्यों को बड़ा लाभ मिलेगा.

प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा परियोजना

प्रधानमंत्री ने यहां 2,433 करोड़ रुपये की लागत से प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा परियोजना के तहत तैयार 347 किलोमीटर लंबी डोभी-दुर्गापुर प्राकृतिक गैस पाइपलाइन को भी देशवासियों को समर्पित किया. इस पाइपलाइन से बंगाल के कुछ शहरों दुर्गापुर, आसनसोल व पुरुलिया में गैस वितरण के साथ झारखंड के सिंदरी उर्वरक संयंत्र और मेटिक्स उर्वरक संयंत्र को प्राकृतिक गैस की आपूर्ति की जाएगी. यह रसोईघरों को स्वच्छ पाइप एलपीजी प्रदान करेगा और स्वच्छ सीएनजी वाहनों को सक्षम करेगा.

हल्दिया बंदरगाह तक आना-जाना आसान

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा हल्दिया के रानीचक में एनएच 41 पर 190 करोड़ रुपये की लागत से तैयार चार लेन के रेल ओवरब्रिज सह फ्लाईओवर का भी लोकार्पण कर पीएम ने लोगों को समर्पित किया. इससे हल्दिया बंदरगाह तक आना-जाना आसान होगा.

18.5 करोड़ डॉलर के विदेशी विनिमय की बचत

प्रधानमंत्री ने इसके साथ हल्दिया रिफाइनरी में दूसरी कैटलिटिक डीवैक्सिंग यूनिट (लुब्रिकेंट बेस्ड ऑयल कारखाना) की आधारशिला रखीं. इसकी लागत लगभग 1019 करोड़ रुपये आएगी और अप्रैल 2023 तक इसका काम पूरा किया जाना है. इससे आयात घटने के साथ देश को 18.5 करोड़ डॉलर के विदेशी विनिमय की बचत होगी.

Related Categories

Also Read +
x

Live users reading now