प्रधानमंत्री मोदी ने भूटान में लॉन्च किया Rupay card, दोनों देशों के बीच 10 समझौते पर हस्ताक्षर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 17 अगस्त 2019 को भूटान में रुपे  कार्ड (Rupay card) लॉन्च किया. मोदी ने भूटान के दो दिवसीय दौरे पर गए सिमकोझा ज़ोंग में खरीदारी कर रुपे कार्ड लॉन्च किया. प्रधानमंत्री मोदी और भूटान के प्रधानमंत्री ने मिलकर भारत-भूटान हाइड्रोपावर कॉऑपरेशन के पांच दशक पूरे होने के अवसर पर एक स्‍टाम्‍प भी रिलीज किया.

प्रधानमंत्री मोदी ने साल 2014 में भी पहली बार सत्‍ता में आने पर भूटान की यात्रा की थी. प्रधानमंत्री मोदी दूसरी बार भूटान आए हैं. मई 2019 में फिर से निर्वाचित होने के बाद उनकी यह पहली यात्रा है. प्रधानमंत्री मोदी ‘रॉयल यूनिवर्सिटी ऑफ भूटान' में युवा भूटानी छात्रों को संबोधित किया.

साथ ही दोनों देशों ने अपने संबंधों को मजबूत करने के लिए 10 सहमति समझौते पर भी हस्ताक्षर किए. प्रधानमंत्री मोदी और भूटान के प्रधानमंत्री डॉ. लोते शेरिंग ने विभिन्न क्षेत्रों में द्विपक्षीय भागीदारी को और प्रगाढ बनाने के कदमों पर चर्चा की.

दोनों देशों के बीच 10 सहमति समझौते पर हस्ताक्षर

भारत और भूटान के बीच 10 सहमति समझौते पर हस्ताक्षर किए गए. इनमें अंतरिक्ष अनुसंधान, विमानन, आईटी, ऊर्जा और शिक्षा इत्यादि समझौते शामिल है. भारत ने भूटान के सामान्य लोगों की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए एलपीजी की आपूर्ति को 700 से बढ़ाकर 1000 मिट्रिक टन प्रतिमाह करने का फैसला किया है.

भूटान में दोनों देशों के सहयोग से हाइड्रो पावर उत्पादन क्षमता 200 मेगावाट को पार कर आगे बढ़ रही है. भूटान में दोनों नेताओं ने दक्षिण एशिया उपग्रह के इस्तेमाल हेतु इसरो के सहयोग के साथ विकसित ‘सैटकॉम नेटवर्क’ एवं ‘ग्राउंड अर्थ स्टेशन’ का भी संयुक्त तौर पर शुभारंभ किया है.

रुपे कार्ड (Rupay card):

प्रधानमंत्री मोदी ने शब्दरूंग नामग्याल द्वारा साल 1629 में निर्मित सिमकोझा जोंग में खरीदारी कर रूपे कार्ड की भी शुरुआत की. सिमकोझा जोंग भूटान में सबसे पुराने जगहों में से एक है और यह मठ और प्रशासनिक मामलों का केंद्र है.

सिंगापुर के बाद भूटान दूसरा देश है जहां रुपे कार्ड लॉन्च किया गया. प्रधानमंत्री मोदी ने मई 2018 में भारत के तीन भुगतान ऐप RuPay, BHIM और SBI ऐप लॉन्च किए थे.

रुपे कार्ड भारत का स्वदेशी भुगतान प्रणाली पर आधारित एटीएम कार्ड है. रुपे कार्ड को अप्रैल 2011 में विकसित गया था. रुपे कार्ड को भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) ने विकसित किया है.

रुपे कार्ड को वीजा और मास्टर कार्ड की तरह प्रयोग किया जाता है. अभी देश में भुगतान के लिए वीजा और मास्टर कार्ड के डेबिट कार्ड तथा क्रेडिट कार्ड प्रचलन में हैं. ये कार्ड विदेशी भुगतान प्रणाली पर आधारित है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने पहले कार्यकाल में कैशलेस इकोनॉमी को बढ़ावा देने हेतु रुपे कार्ड को लॉन्च किया था. रुपे कार्ड का उद्देश्य देश में पेमेंट सिस्टम का एकीकरण किया जा सके. भारतीय स्टेट बैंक जैसे बड़े बैंक से लेकर देश के सभी प्रमुख बैंकों ने रुपे डेबिट कार्ड जारी किये हैं.

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर 'जल जीवन मिशन' का घोषणा किया

करेंट अफेयर्स ऐप से करें कॉम्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी |अभी डाउनलोड करें|IOS

Related Categories

Popular

View More