Jagranjosh Education Awards 2021: Click here if you missed it!
Next

प्रधानमंत्री जम्मू-कश्मीर में 26 दिसंबर को स्वास्थ्य बीमा योजना का शुभारंभ करेंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में 26 दिसंबर को स्वास्थ्य बीमा योजना का शुभारंभ करेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 दिसंबर को दोपहर 12 बजे ई-उद्घाटन से जम्मू कश्मीर में सोशल एंडेवर फॉर हेल्थ एंड टेलीमेडिसिन (सेहत) योजना शुरू करेंगे.

आयुष्मान भारत योजना के तहत इसे वहां की शेष एक करोड़ जनता तक पहुंचाया जाएगा. आयुष्मान भारत पीएम-जन आरोग्य योजना के तहत पात्र लाभार्थियों को पांच लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध होता है. इस समय इस योजना के तहत जम्मू-कश्मीर के तीस लाख लोगों को लाभ मिल रहा है.

गोल्डन कार्ड वितरित

जम्मू-कश्मीर में 26 दिसंबर को ही गोल्डन कार्ड भी वितरित किए जाएंगे. इसके लिए अब तक 16 लाख पंजीकरण कराए जा चुके हैं. स्वास्थ्य व चिकित्सा शिक्षा विभाग के वित्तीय आयुक्त अटल डुल्लू ने योजना की शुरूआत को लेकर सचिवालय में विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक कर तैयारियों पर चर्चा की. उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री द्वारा ई-उद्घाटन के बाद उसी दिन से लाभार्थियों को लाभ मिलना शुरू हो जाएगा. 

प्रत्येक लाभार्थी को पांच लाख का बीमा

योजना के तहत प्रत्येक लाभार्थी परिवार को पांच लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा है. व्यापक स्तर पर शुरू हो रही इस योजना से प्रदेश के नागरिकों को चिकित्सा क्षेत्र में भारी राहत मिलेगी. यह अस्पतालों में कैशलेस चिकित्सा बीमा सुविधा होगी. इसमें सेवानिवृत्त कर्मियों को भी कवर किया जाएगा. इससे पहले आयुष्मान भारत, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत लगभग 13 लाख लोगों को स्वास्थ्य योजनाओं का लाभ मिल रहा था. प्रत्येक नागरिक को नए सिरे से बीमा कवर देने का लक्ष्य रखा गया है.

अस्पताल में भर्ती होने से पहले और बाद में मिलेगा लाभ

नई सेहत स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत लाभार्थी को अस्पताल में भर्ती होने के तीन दिन पहले और छुट्टी के बाद 15 दिन की भी दवाओं और अन्य जांच संबंधी लाभ मिलेगा. इसमें कोविड-19 मामलों के मरीजों को भी पंजीकृत किया जाएगा.

सभी लोगों को स्वास्थ्य वीमा योजना का लाभ

जम्मू-कश्मीर में सभी लोगों को 26 दिसंबर से स्वास्थ्य वीमा योजना का लाभ मिलने वाला है. यह राज्य में अपनी तरह की पहली योजना है. अभी तक यहां पर देश के अन्य भागों की तरह प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत जन आरोग्य योजना ही लागू थी लेकिन इसका लाभ करीब 31 लाख लोगों को ही मिल रहा था. अभी तक इस योजना के तहत दो साल में 94 हजार मरीजों ने पंजीकृत 229 अस्पतालों में अपना इलाज करवाया.

जम्मू-कश्मीर में यह योजना लागू

यह योजना 01 दिसंबर 2018 को जम्मू-कश्मीर में लागू हुई थी. लेकिन इसमें लगभग एक करोड़ लोगों को लाभ नहीं मिल पा रहा है. कुछ महीने पूर्व तत्कालीन उपराज्यपाल जीसी मुर्मू ने प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत जन आरोग्य योजना की तर्ज पर ही जम्मू-कश्मीर के सभी लोगों को स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ देने की घोषणा की थी.

स्वास्थ्य विभाग पर अब अतिरिक्त बोझ

इससे स्वास्थ्य विभाग पर अब अतिरिक्त बोझ भी बढ़ेगा. अभी अस्पतालों में मरीजों से बहुत ही दवाइयां व अन्य सामान बाजार से मंगवाया जाता है लेकिन योजना लागू होने के कारण कार्ड धारकों को उनके पैकेज के लिहाज से सभी सामान अस्पताल से ही देना होगा.

Related Categories

Also Read +
x

Live users reading now