Next

पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन, कहा लॉकडाउन भले खत्म हो गया, लेकिन अभी नहीं गया है वायरस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 अक्टूबर 2020 को देश को संबोधित किया. पीएम मोदी ने अपने संबोधन में वायरस, लॉकडाउन, कोरोना वैक्सीन, त्योहारों आदि का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि हमें यह नहीं भूलना है कि लॉकडाउन भले चला गया है, लेकिन वायरस नहीं गया है. इससे पहले, पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, ''आज शाम छह बजे राष्ट्र के नाम संदेश दूंगा. आप जरूर जुड़ें.

आज शाम 6 बजे राष्ट्र के नाम संदेश दूंगा। आप जरूर जुड़ें।

Will be sharing a message with my fellow citizens at 6 PM this evening.

— Narendra Modi (@narendramodi) October 20, 2020

कई वैक्सीन पर चल रहा है काम

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वैक्सीन के आने तक कोरोना के खिलाफ लड़ाई को कमजोर नहीं होने देना है. देश में कई वैक्सीन पर काम चल रहा है. एक-एक नागरिक तक वैक्सीन पहुंचे, इसके लिए तेजी से काम हो रहा है.

अधिक से अधिक नागरिकों का जीवन बचाने में सफल हुआ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधन में कहा कि भारत ज्यादा से ज्यादा लोगों के जीवन को बचाने में सफल रहा है. देश में कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट काफी बेहतर है. यह समय लापरवाह होने का नहीं है. यह मान लेने का नहीं है कि कोरोना चला गया है या फिर कोरोना से कोई खतरा नहीं है.

जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं

प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना वायरस को लेकर कहा कि जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं. बरसों बाद हम ऐसा होता देख रहे हैं कि मानवता को बचाने के लिए युद्धस्तर पर काम हो रहा है. अनेक देश इसके लिए काम कर रहे हैं. हमारे देश के वैज्ञानिक भी वैक्सीन के लिए  जी-जान से जुटे हैं.

प्रधानमंत्री ने कहा कि  बीते 7-8 महीनों में, प्रत्येक भारतीय के प्रयास से, भारत आज जिस संभली हुई स्थिति में हैं, हमें उसे बिगड़ने नहीं देना है और अधिक सुधार करना है. प्रधानमंत्री का संबोधन ऐसे समय हुआ, जब बिहार में विधानसभा चुनाव सहित कई राज्यों में उपचुनाव हो रहे हैं और साथ ही दुर्गापूजा का त्योहार जारी है. इसके अलावा दशहरा, दीवाली व छठ जैसे पर्व नजदीक हैं.

कोरोना वायरस महामारी के बीच प्रधानमंत्री मोदी पहले भी कई बार देश को संबोधित कर चुके हैं. यह उनका राष्ट्र के नाम सातवां संबोधन था.  कोरोना वायरस का संकट देश में लगातार जारी है, पीएम लोगों से लगातार नियमों का पालन करने की अपील करते आए हैं. प्रधानमंत्री मोदी की ओर से मंत्र दिया गया है कि जबतक दवाई नहीं, तबतक ढिलाई नहीं.

गौरतलब है कि देश में इस वक्त त्योहारों का वक्त चल रहा है और आने वाले दिनों में लगातार त्योहार ही त्योहार हैं, ऐसे में सरकार की ओर से एक बार फिर सख्ती बरती जा रही है. गौरतलब है कि देश में यह समय त्योहारों का है. आने वाले दिनों में लगातार त्योहार ही त्योहार हैं. इसे लेकर सरकार की तरफ से एक बार फिर सख्ती बरती जा रही है.

राष्ट्र के नाम सातवां संबोधन

भारत में जब से कोरोना संक्रमण की शुरुआत हुई है तब से प्रधानमंत्री छह बार राष्ट्र के नाम संदेश जारी कर चुके हैं. आज उनका सातवां राष्ट्र के नाम संबोधन था. मार्च महीने में उन्होंने इसकी शुरुआत की थी और 19 मार्च को उन्होंने लोगों से जनता कर्फ्यू की अपील की थी. इस संबोधन में प्रधानमंत्री ने 'हम स्वस्थ तो जग स्वस्थ' का नारा दिया था. अपने इस संबोधन में उन्होंने 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी देशवासियों को जनता-कर्फ्यू का पालन करने का आग्रह किया था. 

Related Categories

Also Read +
x

Live users reading now