Next

RBI द्वारा RTGS प्रणाली से धन हस्तांतरण की 24x7 सुविधा, यहां जानिये RTGS के बारे में सब कुछ

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने रियल-टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) प्रणाली के लिए नई समय व्यवस्था की शुरुआत की है, जो 1 दिसंबर, 2020 से लागू हो गई है.

भारत के इस शीर्ष बैंक ने अब ग्राहकों को हरेक सप्ताह के सभी दिनों में 24x7 के आधार पर रियल-टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) प्रणाली के माध्यम से धन का हस्तांतरण करने की सुविधा प्रदान की है. 30 नवंबर, 2020 तक, RTGS प्रणाली हर महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को छोड़कर, सप्ताह के सभी कार्य दिवसों में सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक ग्राहकों के लिए धन के हस्तांतरण की सुविधा उपलब्ध करवाती थी.

यह RTGS प्रणाली क्या है?

रियल-टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) प्रणाली/ सिस्टम एक फंड ट्रांसफर सिस्टम है जो आमतौर पर उच्च मूल्य के लेनदेन के लिए उपयोग की जाती है. यह धन हस्तांतरण वास्तविक समय में हो जाता है.

नई RTGS समय व्यवस्था: 24X7/ सप्ताह के सभी दिनों में उपलब्ध रहेगी.

RTGS के बारे में जानने योग्य पांच बातें

  1. RTGS के माध्यम से धन का हस्तांतरण तात्कालिक हो जाता है, क्योंकि लेन-देन किए जाने पर लाभार्थी बैंक को तुरंत धन हस्तांतरण करने का निर्देश दिया गया है.
  2. मुख्य रूप से उच्च मूल्य वाले धन के हस्तांतरण को RTGS के माध्यम से किया जाता है. RTGS के माध्यम से हस्तांतरित की जाने वाली न्यूनतम राशि 02 लाख रुपये है और इसकी कोई अधिकतम सीमा नहीं है.
  3. RTGS के मामले में, प्रत्येक लेनदेन को व्यक्तिगत तौर पर निपटाया जाता है.
  4. RTGS के तहत धन का हस्तांतरण इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग या बैंक की शाखा में जाकर किया जा सकता है.
  5. भारतीय रिज़र्व बैंक ने RTGS ट्रांजेक्शन चार्ज पर कैप लगा दिया है. RTGS धन के हस्तांतरण/ फंड ट्रांसफर के लिए बैंक 2-5 लाख के बीच 24.50 रुपये तक और फंड ट्रांसफर के लिए अधिकतम 49.50 रुपये चार्ज कर सकते हैं. ग्राहकों को धन राशि पर GST चुकाना होगा.

RBI ने RTGS के लिए समय क्यों बदला है?

RTGS के सबसे बड़े अवगुणों में से एक इसकी निर्धारित समयसीमा थी, क्योंकि यह सुविधा केवल कार्य दिवसों में काम के घंटों के दौरान ही उपलब्ध थी.

इसलिए, भारतीय रिजर्व बैंक ने RTGS सुविधा को सभी दिन 24x7 के आधार पर उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है. इसका उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय केंद्रों को विकसित करने और घरेलू कॉर्पोरेट और संस्थानों को व्यापक भुगतान लचीलापन प्रदान करने के लिए भारत के प्रयासों को सुविधाजनक बनाना है.

महत्व

RBI के गवर्नर शक्तिकांत दास के अनुसार, यह कदम भारत को 24x7 आधार पर उच्च मूल्य वाली रियल-टाइम ग्रॉस सेटलमेंट प्रणाली सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए, वैश्विक स्तर पर बहुत कम देशों में से एक बना देगा.

पृष्ठभूमि

भारतीय रिज़र्व बैंक ने वर्ष 2019 में 24x7 आधार पर राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक फ़ंड ट्रांसफ़र (NEFT) के माध्यम से फंड ट्रांसफर की सुविधा उपलब्ध करवाई थी. ग्राहकों को तत्काल भुगतान सेवा भी 24x7 आधार पर उपलब्ध है.

Related Categories

Also Read +
x

Live users reading now