सेशेल्स ने विश्व का पहला ब्लू बॉण्ड जारी किया

सेशेल्स ने विश्व का पहला ब्लू बॉण्ड (Sovereign Blue Bond) जारी किया है जिसका उद्देश्य सामुद्रिक एवं मत्स्य पालन परियोजनाओं को प्रोत्साहन प्रदान करना है. इस बॉण्ड के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय निवेशकों द्वारा 15 मिलियन डॉलर भी दिए गये हैं.

इस बॉण्ड के माध्यम से कोई भी देश सामुद्रिक संसाधनों के सतत् उपयोग के लिये वित्त हेतु किसी भी प्रकार के पूंजी बाज़ार से धनराशि एकत्र कर सकता है. इसके अंतर्गत, ब्लू ग्रांट्स निधि के ज़रिये अनुदान भी दिया जाएगा. इस निधि का प्रबंधन सेशेल्स के संरक्षण एवं जलवायु अनुकूलन न्यास द्वारा किया जाएगा.

ब्लू बॉण्ड की विशेषताएं

•    इस बॉण्ड के माध्यम से कोई भी देश सामुद्रिक संसाधनों के सतत उपयोग के लिये किसी भी प्रकार के पूंजी बाज़ार से एकत्र कर सकता है.

•    इस बॉण्ड द्वारा सरकारी और निजी दोनों स्रोतों से निवेश प्राप्त होगा.

•    इस बॉण्ड के ज़रिये सेशेल्स को सतत् मत्स्य पालन को सुनिश्चित करने में सहायता मिलेगी.

•    सेशेल्स द्वारा जारी किये गए ब्लू बॉण्ड को विश्व बैंक द्वारा 5 मिलियन डॉलर की गारंटी प्राप्त है.

•    उपरोक्त के अतिरिक्त इसे वैश्विक पर्यावरण सुविधा की ओर से पांच मिलियन डॉलर का रियायती ऋण भी उपलब्ध कराया गया है.

•    इस बॉण्ड के माध्यम से प्राप्त आय में से कम से कम 12 मिलियन डॉलर स्थानीय मछुआरा समुदायों को कम ब्याज वाले ऋण के रूप में आवंटित किये जाएंगे, जबकि शेष राशि का उपयोग सतत् मतस्य परियोजनाओं के शोध हेतु वित्तपोषण के लिये किया जाएगा. इस निधि का प्रबंधन सेशेल्स विकास बैंक (DBS) करेगा.

•    इंडोनेशिया और अन्य द्वीपीय राष्ट्र सतत् मत्स्य पालन और समुद्री परियोजनाओं के वित्तपोषण के लिये बॉण्ड बाज़ार को टैप करने में एक मॉडल के रूप में सेशल्स द्वारा जारी ब्लू बॉण्ड संरचना का उपयोग कर सकते हैं.

•    ब्लू ग्रांट्स निधि के ज़रिये अनुदान भी दिया जाएगा। इस निधि का प्रबंधन सेशेल्स के संरक्षण एवं जलवायु अनुकूलन न्यास द्वारा किया जाएगा.

सेशेल्स के बारे में

सेशेल्स गणराज्य हिंद महासागर में स्थित एक द्वीपसमूह राष्ट्र है. यह अफ्रीकी मुख्यभूमि से पूर्व दिशा में और मेडागास्कर के, उत्तर-पूर्व में स्थित है. सेशेल्स की राजधानी विक्टोरिया है. सेशेल्स का अजंपशन आइलैंड भारत के लिए सामरिक रूप से अति महत्वपूर्ण क्षेत्र है. भारत यहाँ अपना सैन्य बेस बनाने का प्रयास कर रहा है.

 

यह भी पढ़ें: आंध्र प्रदेश में केंद्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय स्थापित किये जाने को मंजूरी

 
Advertisement

Related Categories