Advertisement

सौरभ वर्मा ने रूस ओपन खिताब जीत कर इतिहास रचा

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी सौरभ वर्मा ने 29 जुलाई 2018 को रूस ओपन का खिताब अपने नाम किया. उनसे पहले महिला वर्ग में रुत्विका शिवानी ने 2016 में खिताबी जीत हासिल की थी.

विश्व नम्बर-65 सौरभ ने पुरुष एकल वर्ग के खिताबी मुकाबले में जापान के कोकी वतानाबे को मात दी. वहीं फाइनल तक का सफर तय करने वाली रोहन कपूर और कुहू गर्ग की जोड़ी को हार का सामना करना पड़ा.

मुख्य तथ्य

•    सौरभ ने एक घंटे तक चले इस मुकाबले में वतानाबे को 18-21, 21-12, 21-17 से मात देकर खिताब अपने नाम किया.

•    इसके साथ ही सौरभ ने भारतीय बैडमिंटन में इतिहास रच दिया और वह इस खिताबी को जीतने वाले पहले भारतीय पुरुष खिलाड़ी बन गए.

•    कुहू और रोहन की जोड़ी को मिश्रित युगल वर्ग के फाइनल में दक्षिण कोरिया की मिन क्युंग किम और रूस के व्लादिमीर इवानोव की जोड़ी ने सीधे गेमों में 21-19, 21-17 से हराकर खिताब से महरूम कर दिया.

सौरभ वर्मा के बारे में जानकारी

•    उनका जन्म 30 दिसंबर 1992 को हुआ. वे हैदराबाद के रहने वाले हैं.

•    सौरभ वर्मा ने पहली बार वर्ष 2011 में राष्ट्रीय एकल ख़िताब जीता.

•    इसके बाद उन्होंने उसी वर्ष 2011 में बहरीन अंतरराष्ट्रीय चैलेंज ख़िताब जीता.

•    सौरभ वर्मा ने वर्ष 2014 में ईरान फज्र अंतरराष्ट्रीय चैलेंज खिताब तथा मलेशिया मास्टर्स ख़िताब भी जीता.

•    वे रूस ओपन खिताब जीतने वाले पहले भारतीय पुरुष खिलाड़ी बने.

रूस ओपन के बारे में

रूस ओपन एक अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन प्रतियोगिता है जो वर्ष 1993 से खेली जा रही है. इससे पहले इसे यूएसएसआर इंटरनेशनल के नाम से जाना जाता था. वर्ष 2007 में इस प्रतियोगिता को बीडब्ल्यूएफ ग्रां प्री गोल्ड के नाम से जाना जाने लगा.

 

यह भी पढ़ें: अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस 2018 विश्वभर में मनाया गया

 
Advertisement

Related Categories

Advertisement