दक्षिण-पूर्व एशिया का पहला प्रोटोन थेरेपी सेंटर भारत में आरंभ

उपराष्ट्रपति वेंकैय्या नायडू द्वारा हाल ही में चेन्नई में प्रोटोन कैंसर सेंटर का उद्घाटन किया गया. भारत में मल्टी-स्पेशलिटी अस्पतालों की श्रृंखला चलाने वाली अपोलो हॉस्पिटल्स एंटरप्राइज लिमिटेड द्वारा प्रोटोन कैंसर सेंटर (एपीसीसी) का शुभारम्भ किया गया है.

इससे अब कैंसर पीड़ितों को एक विशेष रूप की रेडियोथेरेपी उपलब्ध सुनिश्चित की जा सकेगी जो कि कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने में काफी सहायक सिद्ध होगी.

प्रोटोन थेरेपी से कैंसर का इलाज

•    चेन्नई में स्थित इस सेंटर से वैश्विक स्तर की सभी व्यापक कैंसर चिकित्सा प्रदान की जाएगी.

•    कैंसर चिकित्सा की सीमाओं को बढ़ाने वाले अपोलो प्रोटोन कैंसर सेंटर (एपीसीसी) की क्षमता 150 बेड्स की है.

•    एपीसीसी में पीड़ितों को आधुनिकतम पेंसिल-बीम स्कैनिंग तकनीक के साथ आधुनिक मल्टी-रूम प्रोटोन थेरेपी दी जाएगी जो कि सुस्पष्टता और निवारण की मात्रा सबसे अधिक होती है.

•    पारम्परिक रेडिएशन थेरेपी की अपेक्षा प्रोटोन थेरेपी के लाभ कई गुना अधिक हैं, विश्वभर के 2,00,000 से भी अधिक पीड़ितों को इससे राहत मिली है.

•    प्रोटोन बीम थेरेपी से कैंसर चिकित्सा का सटीक जगह पर इलाज होता है, जिससे स्वस्थ कोशिकाओं का नुकसान कम होता है.

•    कैंसर पीड़ित भी आरामदायक जीवन जी सकता है और पूरी तरह से स्वस्थ जीवन पाने की सम्भावना बढ़ती है.

•    इसके दुष्प्रभाव भी कम होते हैं और अच्छे प्रभाव अधिक मात्रा में अनुभव किए जा सकते हैं.

 


अपोलो हॉस्पिटल्स के बारे में


वर्ष 1983 में डॉ. प्रताप रेड्डी ने भारत का पहला कॉर्पोरेट अस्पताल अपोलो हॉस्पिटल्स चेन्नई में शुरू किया. यहाँ अब तक 1,60,000 से भी अधिक ह्रदय सर्जरीज हुई हैं. अपोलो हॉस्पिटल्स विश्व का सबसे बड़ा निजी कैंसर चिकित्सा प्रदान करनेवाला अस्पताल है और यहाँ पर विश्व का अग्रणी सॉलिड ऑर्गन ट्रांसप्लांट प्रोग्राम चलाया जाता है. यह एशिया का सबसे बड़ा और सर्वाधिक विश्वसनीय स्वास्थ्य सेवा प्रदान करनेवाला समूह है, इस समूह में 71 अस्पतालों में 10000 से भी अधिक बेड्स, 90 से अधिक प्राइमरी केयर एंड डायग्नोस्टिक क्लीनिक, 110 से अधिक टेलीमेडिसिन सेंटर्स और 80 से अधिक अपोलो म्युनिक इन्शुरन्स की शाखाएं शामिल हैं जो देश के विभिन्न हिस्सों में कार्यरत हैं.

 

यह भी पढ़ें: नासा की हबल दूरबीन ने बौनी आकाशगंगा की खोज की

Advertisement

Related Categories