Are you worried or stressed? Click here for Expert Advice
Next

ओलंपिक 2020: भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने रचा इतिहास, 41 साल बाद हॉकी में जीता मेडल

Vikash Tiwari

भारतीय हॉकी टीम ने 41 साल बाद ओलंपिक में पदक हासिल कर लिया है. भारत ने टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक के मुकाबले में जर्मनी को हरा दिया. भारत ने मैच में शुरुआत में पिछड़ने के बाद जोरदार वापसी की और जर्मनी के खिलाफ मैच को 5-4 से जीत लिया. टीम इंडिया ने इससे पहले आखिरी बार हॉकी में साल 1980 में ओलंपिक मेडल जीता था.

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक अपने नाम कर लिया है. भारतीय टीम ने 41 साल बाद ओलंपिक में पदक हासिल किया है. जर्मनी के खिलाफ मुकाबले में 1-3 से पिछड़ने के बाद भारतीय टीम ने जोरदार वापसी की और 5-4 से मुकाबला अपने नाम किया. भारत की ओर से सिमरनजीत सिंह ने दो जबकि रुपिंदर, हार्दिक और हरमनप्रीत ने एक-एक गोल दागे.

पीएम मोदी ने ऐतिहासिक बताया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय टीम की जीत को ऐतिहासिक बताते हुए बधाई दी है. पीएम मोदी ने लिखा कि ऐतिहासिक! एक ऐसा दिन जो हर भारतीय की याद में अंकित हो जाएगा. कांस्य पद घर लाने के लिए हमारी पुरुष हॉकी टीम को बधाई. इस उपलब्धि ने, पूरे देश, खासकर कि हमारे युवाओं में उत्साह भर दिया है. भारत को अपनी हॉकी टीम पर गर्व है.

Historic! A day that will be etched in the memory of every Indian.

Congratulations to our Men’s Hockey Team for bringing home the Bronze. With this feat, they have captured the imagination of the entire nation, especially our youth. India is proud of our Hockey team. 🏑

— Narendra Modi (@narendramodi) August 5, 2021

पुरुष हॉकी टीम का यह तीसरा कांस्य पदक

ओलंपिक इतिहास में भारतीय पुरुष हॉकी टीम का यह तीसरा कांस्य पदक है. इससे पहले उसने साल 1968 और साल 1972 में ब्रॉन्ज़ मेडल जीता था. भारत इससे पहले आठ स्वर्ण और एक रजत पदक भी जीत चुका है.

A HISTORIC COMEBACK! 🥉🙌#IND men’s #hockey team came back 3-3 in the first-half against #GER and took the lead in the final 30 minutes to win the match 5-4 and the #bronze medal 🙌#Tokyo2020 | #UnitedByEmotion | #StrongerTogether pic.twitter.com/acZHNxR5Py

— #Tokyo2020 for India (@Tokyo2020hi) August 5, 2021

मैच: एक नजर में

जर्मनी ने मैच के दूसरे ही मिनट में अपना खाता खोल लिया था. जर्मनी की तरफ से तिमूर ओरुज ने पहला गोल दागा. इसके साथ ही जर्मनी ने 1-0 की बढ़त ले ली थी. इसके बाद भारतीय टीम ने 17वें मिनट में वापसी की, जब सिमरनजीत सिंह ने जोरदार खेल दिखाते हुए जर्मन गोलकीपर को छकाया और गोल करने में सफल रहे. इस गोल के साथ ही दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर आ गई.

जर्मनी की तरफ से निकलास वेलेन ने 24वें मिनट में अपना पहला और टीम के लिए दूसरा गोल कर जर्मनी 2-1 से आगे कर दिया. इसके बाद जर्मनी ने एक मिनट के अंदर एक और गोल दागा और अपनी लीड को 3-1 कर दिया.

मैच के 27वें मिनट में भारत को पैनल्टी कॉर्नर मिला और हार्दिक सिंह ने उसे गोल में तब्दील कर जर्मनी का बढ़त को कम कर दिया. इसी के साथ स्कोर 3-2 हो गया. भारत ने और आक्रामक खेल दिखाया और मैच का तीसरा गोल कर दिया. इसी के साथ दोनों ही टीम 3-3 की बराबरी पर पहुंच गईं.

भारत ने तीसरे क्वार्टर में शानदार शुरुआत की. भारत को पैनल्टी स्ट्रोक मिला. रुपिंदर ने गेंद को सीधा गोलपोस्ट में डाला और भारत को 4-3 की अहम और मजबूत बढ़त दिला दी. इसके बाद 34वें मिनट में सुमित के पास पर सिमरनजीत सिंह ने शानदार गोल दागा और भारत को 5-3 ये आगे कर कांस्य पदक के और करीब ले आए.

चौथा क्वार्टर शुरू होने के साथ ही जर्मनी ने आक्रामक खेल दिखाया और गोल करने की हर संभव कोशिश की. मैच के 48वें मिनट में जर्मनी को पेनल्टी कॉर्नर के रूप में मौका मिला और विंडफेडर ने उसे गोल में तब्दील कर दिया. इसी के साथ स्कोर 5-4 हो गया.

 

 

 

 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश

Related Categories

Live users reading now