टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 04 दिसंबर 2019

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 04 दिसंबर 2019 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से-स्वीडन के राजा कार्ल गुस्ताफ और एसपीजी अधिनियम आदि शामिल हैं.

स्वीडन के 16वें नरेश कार्ल गुस्ताफ पांच दिवसीय भारत दौरे पर, भारत-स्वीडन के बीच हुए तीन समझौते

स्वीडन के राजा कार्ल गुस्ताफ सोलहवें एयर इंडिया के विमान से हाल ही में भारत दौरे पर पहुंचे. उनके साथ पत्नी सिल्विया भी मौजूद थीं. ऐसा पहली बार हुआ, जब शाही जोड़े ने किसी देश की सरकारी यात्रा हेतु कमर्शियल फ्लाइट का उपयोग किया हो.

स्वीडन के राजा कार्ल गुस्ताफ और राष्ट्रपति कोविंद के बीच वार्ता के बाद दोनों पक्षों ने ध्रुवीय विज्ञान, नवोन्मेष एवं अनुसंधान तथा समुद्री क्षेत्रों में सहयोग हेतु तीन समझौतों पर हस्ताक्षर किए. प्रधानमंत्री मोदी और स्वीडन के राजा गुस्ताफ ने नवोन्मेष नीति पर भारत-स्वीडन उच्चस्तरीय नीति वार्ता की बैठक की अध्यक्षता की.

संसद ने एसपीजी (संशोधन) विधेयक, 2019 पारित किया

इस विधेयक में केवल प्रधानमंत्री और उनके परिवार (जो उनके साथ आधिकारिक निवास पर रहते हो) को एसपीजी सुरक्षा देने का प्रावधान है. यह सुविधा प्रधानमंत्री के अतिरिक्त किसी भी विशेष व्यक्ति को नहीं दिया जाएगा. उनसे भी यह सुविधा प्रधानमंत्री पद से हटने के पांच साल बाद वापस ले ली जाएगी.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के अनुसार, संशोधन शुरू करने के पीछे मुख्य उद्देश्य प्रधानमंत्री की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एसपीजी अधिनियम को अधिक प्रभावी बनाना था. इससे पहले इस सुरक्षा समूह अधिनियम को साल 1991, साल 1994, साल 1999 और साल 2003 में संशोधित किया जा चुका है.

कैबिनेट ने नागरिकता (संशोधन) विधेयक को मंजूरी दी, जानें इस विधेयक के बारे में

इस विधेयक के मुताबिक, नागरिकता प्रदान करने से जुड़े नियमों में बदलाव होगा तथा अवैध प्रवासियों को बैगर दस्तावेज के नागरिकता मिलेगी. केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हाल ही में कहा था कि नागरिकता संशोधन बिल सरकार की शीर्ष प्राथमिकताओं में से एक है.

नागरिकता संशोधन विधेयक में नागरिकता कानून, 1955 में संशोधन का प्रस्ताव है. इसमें बांग्लादेश, अफगानिस्तान तथा पाकिस्तान से आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी एवं ईसाई धर्मों के शरणार्थियों हेतु नागरिकता के नियमों को आसान बनाना है.

Indian Navy Day 2019: जानिए भारतीय नौसेना दिवस का इतिहास और महत्व

भारतीय नौसेना देश की समुद्री सीमाओं की रक्षा में बहुत ही अहम भूमिका निभाती है. भारत के अंतरराष्ट्रीय संबंधों को मजबूत करने में भी भारतीय नौसेना का बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान है. भारत की तीन सेनाओं में से एक नौसेना अपने सर्वश्रेष्ठ स्वरूप में है.

भारतीय नौसेना भारतीय सेना का एक सामुद्रिक अंग है. भारतीय नौसेना की अधिकृत शुरुआत 05 सितंबर 1612 को हुई थी. आधुनिक भारतीय नौसेना की नींव 17वीं शताब्दी में रखी गई थी. भारतीय नौसेना तीन क्षेत्रों की कमांडों के तहत तैनात की गई है.

Related Categories

Also Read +
x