टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 05 दिसंबर 2019

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 05 दिसंबर 2019 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से-अंतरराष्ट्रीय स्वयंसेवक दिवस और सुंदर पिचाई आदि शामिल हैं.

Parliament भवन की कैंटीन में अब नहीं मिलेगा सस्ता खाना, खत्म होगी सब्सिडी

अब किसी को भी संसद की कैंटीन (Parliament Canteen) में सब्सिडी नहीं मिलेगी. इस पर पक्ष एवं विपक्ष ने एक साथ मिलकर फैसला किया है कि अब कैंटीन में सब्सिडी नहीं मिलेगी. अब कैंटीन में इस फैसले के बाद खाने के दाम लागत के हिसाब से तय होंगे.

व्यापार सलाहकार समिति ने लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला के सुझाव के बाद इस विषय पर चर्चा की थी. जिसमें इस विषय पर सभी पार्टियों ने सहमति जताई है. लोकसभा की कैंटीन के दामों में बढ़ोत्तरी साल 2017 में की गई थी तथा सब्सिडी को कम कर दिया गया था.

International Volunteer Day 2019: अंतरराष्ट्रीय स्वयंसेवक दिवस क्या है और इसे क्यों मनाया जाता है?

यह दिवस उन सभी लोगों के प्रति आभार प्रकट करने हेतु मनाया जाता है जो बिना किसी मौद्रिक लाभ के मुफ्त में काम कर रहे हैं और अन्य लोगों की सहायता करते हैं. इस अवसर पर जन-जागरूकता पैदा करने के लिए कान्फ्रेंस, सेमिनार, स्वच्छता अभियान आदि कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं.

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने एक संकल्प द्वारा हरेक साल 05 दिसंबर को अंतरराष्ट्रीय स्वयंसेवक दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की थी. अंतरराष्ट्रीय स्वयंसेवक दिवस स्वयंसेवकों के अवसरों के प्रति आम जनता में जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है.

सुंदर पिचाई बने अल्फाबेट के सीईओ: IIT खड़गपुर से लेकर गूगल तक, जानिए उनके जीवन का सफर

सुंदर पिचाई इस प्रमोशन के साथ ही विश्व के सबसे शक्तिशाली कॉरपोरेट नेताओं में से एक बन गए हैं. यह फैसला कंपनी ने गूगल के सह संस्थापक लैरी पेज ने सीईओ पद से इस्तीफा दिए जाने के बाद लिया है. वहीं, एक अन्य सह सस्थापक सर्गेई ब्रिन ने कंपनी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है.

सुंदर पिचाई का जन्म 10 जून 1972 को तमिलनाडु में हुआ था. उन्होंने अप्रैल 2004 में गूगल ज्वाइन किया था. उन्होंने गूगल सीईओ का पद ग्रहण 02 अक्टूबर 2015 को किया था. अल्फाबेट 64 लाख करोड़ रुपये की बाजार पूंजी के साथ विश्व की तीसरी बड़ी कंपनी है.

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान बॉब विलिस का निधन

बॉब विलिस काफी समय से थायराइड कैंसर से जूझ रहे थे. बॉब विलिस को साल 1981 के एशेज सीरीज में उनके शानदार प्रदर्शन हेतु याद किया जाएगा. यह सीरीज इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया से 2-0 से जीती थी.

उन्होंने अपने करियर में 90 टेस्ट मैचों में 325 विकेट लिए. उन्होंने 1970-71 के एशेज दौरे से अपने करियर की शुरुआत की. उन्होंने साल 1984 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया. वे तब इंग्लैंड हेतु सबसे अधिक टेस्ट विकेट लेने वाले और विश्व के दूसरे सबसे सफल गेंदबाज थे.

Related Categories

Also Read +
x