टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 12 दिसंबर 2019

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 12 दिसंबर 2019 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से-अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र और नागरिकता (संशोधन) विधेयक आदि शामिल हैं.

लोकसभा ने अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण विधेयक को मंजूरी दी

इस विधेयक में भारत में ऐसे केंद्रों में वित्तीय सेवा बाजार विकसित एवं विनियमित करने हेतु एक प्राधिकरण की स्थापना का प्रावधान है. यह विधेयक भारत के सभी अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्रों पर लागू होगा, जिन्हें विशेष आर्थिक क्षेत्र अधिनियम, 2005 के तहत स्थापित किया गया था.

यह प्राधिकरण अपने कामकाज की समीक्षा हेतु प्रदर्शन समीक्षा समिति का गठन करेगा. समिति में प्राधिकरण के कम से कम दो सदस्य शामिल होंगे. अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण विधेयक, 2019 ने अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण कोष की स्थापना का भी प्रस्ताव दिया है.

नागरिकता (संशोधन) विधेयक क्या है, जिसे संसद ने मंजूरी दी

राज्यसभा में नागरिकता (संशोधन) विधेयक 2019 देश भर में मचे बवाल के बीच पारित हो गया. सदन ने विधेयक को प्रवर समिति में भेजे जाने के विपक्ष के प्रस्ताव एवं संशोधनों को खारिज कर दिया है. इस विधेयक को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में पेश किया.

इस संशोधन के तहत ऐसे अवैध प्रवासियों को जिन्होंने 31 दिसंबर 2014 की निर्णायक तारीख तक भारत में प्रवेश कर लिया है, वे भारतीय नागरिकता हेतु सरकार के पास आवेदन कर सकेंगे. बिल को लेकर विपक्षी दल का कहना है कि इसमें मुख्य रूप से मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाया गया है.

ग्रेटा थनबर्ग को टाइम पर्सन ऑफ द ईयर 2019चुना गया

यह सम्मान ग्रेटा थनबर्ग ने सबसे कम उम्र में हासिल किया है. वे अपने प्रभावशाली एवं आक्रमक भाषणों को लेकर काफी चर्चा में रही हैं. ग्रेटा थनबर्ग ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र जलवायु मंच को तेजी से बढ़ते वैश्विक जलवायु परिवर्तन को कम कर विश्व को बचाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है.

ग्रेटा थनबर्ग का जन्म साल 2003 में स्टॉकहोम, स्वीडन में हुआ था. उन्होंने पेरिस समझौते के मुताबिक कार्बन उत्सर्जन को कम करने हेतु स्वीडन की संसद के सामने विरोध किया. ग्रेटा जलवायु आंदोलन (क्लाइमेट मूवमेंट) के लिए स्कूल स्ट्राइक की संस्थापक हैं.

Related Categories

Also Read +
x