टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 13 नवंबर 2019

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 13 नवंबर 2019 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से-सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रपति शासन आदि शामिल हैं.

अब RTI के दायरे में आएगा भारत के चीफ जस्टिस का ऑफिस: सुप्रीम कोर्ट

हाल ही में इसपर फैसला सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय संवैधानिक पीठ ने सुनाया है. इसमें सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के साथ, जस्टिस डिवाई चंद्रचूड़, जस्टिस एनवी रामना, जस्टिस संजीव खन्ना तथा जस्टिस दीपक गुप्ता शामिल हैं.

दिल्ली हाईकोर्ट ने 10 जनवरी 2010 को एक ऐतिहासिक फैसले में कहा था कि मुख्य न्यायाधीश का कार्यालय आरटीआई कानून के दायरे में आता है. सुप्रीम कोर्ट ने अप्रैल 2019 में इस फैसले पर सुनवाई की और फैसला को सुरक्षित रख लिया था.

महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन, जाने महाराष्ट्र में कब-कब लगा राष्ट्रपति शासन

महाराष्ट्र के राज्यपाल ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि राज्य की वर्तमान स्थिति के अनुसार चुनाव परिणाम घोषित होने के 15 दिन बीत गये है और सरकार बनने कि कोई संभावना भी नहीं दिख रही है. महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन 6 महीने के लिए लगाया गया है.

राष्ट्रपति शासन में किसी राज्य का नियंत्रण भारत के राष्ट्रपति के पास चला जाता है. भारत के भिन्न-भिन्न राज्यों में अब तक करीब 125 बार राष्ट्रपति शासन लग चुका है. महाराष्ट्र में 12 नवंबर 2019 से पहले तक दो बार राष्ट्रपति शासन लग चुका है.

ICC Player Rankings 2019: भारत के विराट कोहली, जसप्रीत बुमराह शीर्ष स्थान पर बरकरार

आईसीसी द्वारा जारी रैंकिंग में भारतीय कप्तान विराट कोहली और तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने अपना स्थान बरकरार रखे है. विराट कोहली नई वनडे रैंकिंग में 895 अंकों के साथ पहले स्थान पर बने हुए हैं. वहीं भारतीय टीम के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह गेंदबाजों की रैंकिंग में 797 अंकों के साथ पहले स्थान पर बने हुए हैं.

बल्लेबाजों की रैंकिंग सूची में पाकिस्तान के बल्लेबाज बाबर आजम तीसरे स्थान पर, फाफ डूप्लेसिस चौथे स्थान पर तथा रोस टेलर पांचवें स्थान पर बने हुए हैं. गेंदबाजो की सूची में दूसरे स्थान पर कीवी गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट 740 अंकों के साथ हैं.

बोलिविया में राजनीतिक संकट: मेक्सिको ने बोलीविया के पूर्व राष्ट्रपति इवो मोरालेस को शरण दी

मेक्सिको सरकार ने कहा कि शरण मानवीय आधार पर दिया गया है, क्योंकि बोलीविया में इवो मोरालेस की जान को खतरा था. विवादास्पद राष्ट्रपति चुनाव के बाद अपने विरुद्ध जबरदस्त विरोध के कारण इवो मोरालेस को राष्ट्रपति पद छोड़ना पड़ा था.

इवो मोरालेस ने सड़कों को पक्का करने, बोलीविया के पहले उपग्रह को अंतरिक्ष में भेजने तथा महंगाई पर लगाम लगाने जैसे अहम काम किये. वे पहली बार वर्ष 2006 में चुने गए थे. वे दक्षिण अमेरिका के गरीब देश को आर्थिक विकास के रास्ते पर ले गए थे.

 

Related Categories

Popular

View More