टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 19 नवंबर 2019

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 19 नवंबर 2019 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से-भारतीय पोषण कृषि कोष और अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस आदि शामिल हैं.

केंद्र सरकार ने कुपोषण से निपटने हेतु भारतीय पोषण कृषि कोष की शुरुआत की

केंद्रीय मंत्री स्‍मृति इरानी ने 18 नवंबर 2019 को नई दिल्‍ली में बिल गेट्स के साथ मिलकर भारतीय पोषण कृषि कोष का शुभारंभ किया. भारतीय पोषण कृषि कोष अच्छे पोषण परिणामों हेतु भारत में 128 कृषि-जलवायु क्षेत्रों में विविध प्रकार की फसलों का भंडार होगा.

भारतीय पोषण कृषि कोष का मुख्य उद्देश्य व्यक्तिगत एवं सामुदायिक दोनों स्तरों पर स्वस्थ आहार प्रथाओं को बढ़ावा देना तथा उन्हें सुदृढ़ बनाना है. बिल गेट्स ने घोषणा की कि संस्था कुपोषण की चुनौती से निपटने हेतु एक स्थायी पोषण कार्यक्रम बनाने के लिए हर तरह से केंद्र सरकार के साथ साझेदारी करने के लिए तैयार है.

International Men’s Day 2019: जानिए इसका इतिहास और महत्व

अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मुख्य रूप से पुरुषों को भेदभाव, शोषण, उत्पीड़न, हिंसा तथा असमानता से बचाने एवं उन्हें उनके अधिकार दिलाने हेतु मनाया जाता है. यह दिवस 80 देशों में 19 नवंबर को मनाया जाता है. यह दिवस एक वार्षिक अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम है.

साल 2007 में भारत ने पहली बार अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया था. भारत में इसके बाद से ही प्रत्येक साल 19 नंवबर को यह दिवस मनाया जाता है. अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस के दिन पुरुषों के लिए विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है.

डेविड एटनबरो को मिला इंदिरा गांधी शांति पुरस्कार

यह जानकारी 19 नवंबर 2019 को इंदिरा गांधी स्मारक न्यास के सचिव ने यहां जारी एक विज्ञप्ति में दी. ट्रस्ट के ओर से कहा गया कि डेविड एटनबरो ने प्रकति में बड़े-बड़े बदलाव करने हेतु उन्हें इस पुरस्कार से सम्मानित किया जा रहा है. उनका जन्म 08 मई 1926 को यूनाइटेड किंगडम में हुआ था.

यह पुरस्कार भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की याद में दिया जाता है. इस पुरस्कार के तहत 25 लाख रुपए नकद, एक ट्रॉफी तथा प्रशस्तिपत्र प्रदान किया जाता है. यह पुरस्कार कई विदेशी हस्तियों को भी दिया गया है. डेविड एटनबरो ने ब्रॉडकास्टर प्रकृतिवादी प्रस्तुतकर्ता के तौर काफी काम किया है.

FASTag in India: 01 दिसंबर से सभी वाहन मालिकों के लिए फास्टैग अनिवार्य

फास्टैग का मुख्य उद्देश्य रेडियो फ्रीक्‍वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) टेक्‍नोलॉजी का इस्‍तेमाल करते हुए अधिसूचित दरों के मुताबिक उपयोग शुल्‍क एकत्र किया जा सके. डिजीटल भुगतान को प्रोत्‍साहन देने तथा पारदर्शिता बढ़ाने हेतु राष्‍ट्रीय राजमार्गों पर शुल्‍क प्‍लाजा की सभी लेनों को 01 दिसंबर 2019 से ‘फास्‍टैग लेनों’ के रुप में घोषित किया जायेगा.

फास्टैग का इस्तेमाल करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि टोल प्लाजा पर रुकने की कोई आवश्यकता नहीं होगी. भुगतान की सुविधा के कारण किसी को भी नकदी रखने की आवश्यकता नहीं है. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने एक लेन को हाइब्रिड लेन के रूप में रखने का प्रावधान किया है ताकि फास्‍टैग और अन्‍य तरीकों से अदायगी की जा सके.

 

 

Related Categories

Also Read +
x