टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 22 मार्च 2019

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 22 मार्च 2019 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से - अंतरराष्ट्रीय वन दिवस और भारतीय रिजर्व बैंक शामिल हैं.

अंतरराष्ट्रीय वन दिवस 21 मार्च को मनाया गया

संयुक्त राष्ट्र ने 21 मार्च 2019 को अंतरराष्ट्रीय वन दिवस के रूप में मनाया. यह दिवस पर्यावरणीय स्थिरता और खाद्य सुरक्षा में वनों के महत्व और महत्वपूर्ण भूमिका के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए प्रतिवर्ष 21 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय वन दिवस मनाया जाता है.

विश्व वन दिवस का मुख्य उद्देश्य वन संरक्षण के प्रति‍ जागरूकता बढ़ाना तथा वर्तमान और भावी पीढ़ि‍यों के लाभ के लि‍ए सभी तरह के वनों के टि‍काऊ प्रबंध, संरक्षण और टि‍काऊ वि‍कास को सुदृढ़ बनाना है. इसका लक्ष्य लोगों को यह अवसर उपलब्ध कराना भी है कि‍ वनों का प्रबंध कैसे कि‍या जाए तथा अनेक उद्देश्यों के लि‍ए टि‍काऊ रूप से उनका कैसे सदुपयोग कि‍या जाए.

 

एमएसएमई पर भारतीय रिजर्व बैंक की समिति का सुझाव

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) के लिए भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा गठित की गयी एक समिति ने क्षेत्र के लिए दीर्घकालिक आर्थिक एवं वित्तीय समाधान पर लोगों की राय मांगी है. भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के पूर्व चेयरमैन यू. के. सिन्हा की अध्यक्षता में यह समिति 02 जनवरी 2019 में गठित की गई थी.

समिति ने साथ ही इस क्षेत्र को प्रतिस्पर्धी दरों पर कोष जुटाने में मदद करने वाली रेटिंग व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए भी सुझाव मांगे गए हैं. समिति एमएसएमई क्षेत्र की व्यापक समीक्षा कर रही है ताकि इसके विकास के लिए दीर्घावधि समाधान और कारकों की पहचान कर सके.

 

विश्व जल दिवस 22 मार्च को मनाया गया

विश्व जल दिवस 22 मार्च 2019 को दुनिया भर में मनाया गया. इसका उद्देश्य विश्व के सभी विकसित देशों में स्वच्छ एवं सुरक्षित जल की उपलब्धता सुनिश्चित करवाना है. यह जल संरक्षण के महत्व पर भी ध्यान केंद्रित करता है.

आम लोगो के मध्य पानी की महत्वता एवं संरक्षण को लेकर जागरूकता फैलाने हेतु प्रति वर्ष विश्व जल दिवस का आयोजन किया जाता है. इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य लोगों के बीच में जल संरक्षण का महत्व साफ पीने योग्य जल का महत्व आदि बताना है.

 

कजाखस्तान के राजधानी अस्ताना का नाम बदला

कजाखस्तान की संसद ने 20 मार्च 2019 को देश के लंबे समय से राष्ट्रपति रहे नूरसुलतान नज़रबायेव के सम्मान में राजधानी अस्ताना का नाम बदल कर नूरसुलतान करने का सर्वसम्मति से फैसला किया. सरकारी समाचार एजेंसी ‘काजिन्फॉर्म’ ने संसद में मतदान की सूचना देते हुए कहा की अस्ताना का अब आधिकारिक रूप से नूरसुलतान नाम कर दिया गया है. इसकी घोषणा हाल ही में नए राष्ट्रपति कासिम-जोमात तोकायेव ने की.

हाल ही में नूरसुल्तान नज़रबायेव ने कजाखस्तान के राष्ट्रपति के पद से तीस वर्ष बाद इस्तीफ़ा दिया था. नज़रबायेव के अचानक इस्तीफे के बाद नए अंतरिम राष्ट्रपति कासिम-जोमार्त तोकायेव ने अस्ताना का नाम बदलने का प्रस्ताव किया था. अस्ताना को पहले अकमोला, त्सेलिनोग्राड और अकमोलिंस्क के नाम से जाना जाता था.

 

यह भी पढ़ें: भारतीय नौसेना मोजांबिक के चक्रवाती तूफान इदाई में सहायता के लिए सर्वप्रथम पंहुची

Related Categories

Popular

View More