टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 24 दिसंबर 2018

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 24 दिसंबर 2018 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से - अग्नि-4 मिसाइल और जीएसटी परिषद् शामिल हैं.

 

भारत ने परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम अग्नि-4 मिसाइल का सफल परीक्षण किया

भारत ने ओडिशा तट से 23 दिसंबर 2018 को परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम लंबी दूरी की मारक क्षमता वाली बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-4 का सफल परीक्षण किया. इस सामरिक मिसाइल का परीक्षण डॉ. अब्दुल कलाम द्वीप स्थित एकीकृत परीक्षण केंद्र (आईटीआर) के लॉन्च पैड संख्या-4 से किया गया.

अग्नि-4 मिसाइल का यह सातवां परीक्षण था. इससे पहले भारतीय सेना की सामरिक बल कमान (एसएफसी) द्वारा इसी स्थान से 02 जनवरी 2018 को इसका सफल परीक्षण किया गया था. परमाणु क्षमता वाली बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-5 का सफल परीक्षण 10 दिसंबर 2018 को किया गया था, जिसकी मारक क्षमता 5,000 किलोमीटर है.

 

जीएसटी परिषद् ने 23 वस्तुओं व सेवाओं पर दर को कम किया

वस्तु एवं सेवा कर परिषद् (जीएसटी काउंसिल) ने 22 दिसम्बर 2018 को आम लोगों को राहत देते हुए टीवी स्क्रीन, सिनेमा के टिकट और पावर बैंक सहित विभिन्न प्रकार की 23 वस्तुओं पर वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की दरों में कमी की घोषणा की. कर दर में संशोधन का यह निर्णय 01 जनवरी 2019 से प्रभावी होगा.

वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में दिल्ली में हुई बैठक में जीएसटी दरों दरों से संबंधित कई अहम फैसले लिए गए हैं. विभिन्न प्रकार की वस्तुओं पर जीएसटी दरें कम करने से सालाना राजस्व में 5,500 करोड़ रुपये का असर पड़ेगा.

 

राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस 24 दिसंबर को मनाया गया

राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस भारत में 24 दिसंबर 2018 को मनाया गया. यह दिवस उपभोक्ता आंदोलन को अवसर प्रदान करता है और उसके महत्व को उजागर करता है. इसके साथ ही हर उपभोक्ता को अपने अधिकारों और जिम्मेदारियों के प्रति जागरुक करने की प्रेरणा देता है.

इस दिन लोगों को उपभोक्‍ता आंदोलन के महत्‍व को रेखांकित करने का अवसर मिलता है, साथ ही प्रत्‍येक उपभोक्‍ता को उनके अधिकारों और जिम्‍मेदारियों के बारे में अधिक जागरूक करने की आवश्‍यकता भी रेखांकित होती है.

 

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने सूचना समेकन केंद्र का उद्घाटन किया

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने 22 दिसंबर 2018 को सूचना प्रबंधन और विश्लेषण केंद्र (आईएमएसी) गुरुग्राम में सूचना समेकन केंद्र - हिंद महासागर क्षेत्र (आईएफसी-आईओआर) का शुभारंभ किया.

इस कार्यक्रम में रक्षा मंत्रालय, विदेश मामले मंत्रालय, गृह मंत्रालय, जहाजरानी मंत्रालय के अधिकारियों के प्रतिनिधित्व के अतिरिक्त एनएससीएस, राजदूतों और साझीदार देशों के रेजिडेंट डिफेंस अटैचियों ने भी भाग लिया.

 

बिहार के सिलाव खाजा व्यंजन को जीआई टैग प्रदान किया गया

बिहार में मिलने वाले मिष्ठान सिलाव खाजा को हाल ही में भौगोलिक संकेत (GI) दिया गया है. बिहार की यह पारंपरिक मिठाई इस क्षेत्र की विशिष्टता को दर्शाने में अहम भूमिका निभाएगी. जीआई डिप्टी रजिस्ट्रार जी. नायडू ने इस व्यंजन जीआई टैग मिलने की घोषणा की.

माना जाता है कि सिलाव खाजा की शुरुआत उत्तर प्रदेश के पूर्वी जिले तथा बिहार के पश्चिमी जिलों से हुई. इसका निर्माण गेहूं के आटे, मैदा, चीनी तथा इलायची इत्यादि से किया जाता है. वर्तमान में यह व्यंजन बिहार, ओडिशा, पश्चिम बंगाल तथा आंध्र प्रदेश इत्यादि में काफी लोकप्रिय है. इससे पहले बिहार की शाही लीची को भी जीआई टैग प्रदान किया गया था.

 

यह भी पढ़ें: नवंबर 2018 के 30 महत्वपूर्ण करेंट अफेयर्स घटनाक्रम


यह भी पढ़ें: 64वीं BPSC Prelims परीक्षा 2018 में पूछे गये करेंट अफेयर्स प्रश्न (उत्तर सहित)

 

Related Categories

Popular

View More