टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 28 मई 2020

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 28 मई 2020 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजनाऔर कोरोना वायरस आदि शामिल हैं.

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना: केंद्र सरकार ने Lockdown के दौरान बांटे 19,100 करोड़ रुपये

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने हाल ही में कहा कि इस दौरान सरकार ने किसानों को बीज उपलब्ध कराए गए हैं. इसके साथ ही रबी फसलों की खरीद भी जोर-शोर से जारी है. किसान इस बार बारिश के मौसम में 34.87 लाख हेक्टेयर जमीन पर चावल बोएंगे. इस योजना से फिलहाल देश के 9.55 करोड़ किसान परिवारों को लाभ हुआ है.

सरकार ने घोषणा की है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण योजना के तहत सभी कार्ड धारक लाभार्थियों को एक किलोग्राम प्रति माह की दर से तीन महीने के लिए मुफ्त दालें एक लाख सत्‍तर हजार लोगों के बीच वितरित की जाएंगी. केंद्र सरकार के अनुसार लगभग 12.82 लाख हेक्टेयर जमीन पर दालों का उत्पादन शुरू हो गया है.

 

वीर सावरकर जयंती 2020: जानें इनके बारे में सबकुछ

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के महान क्रांतिकारियों में से एक विद्वान, अधिवक्ता और लेखक विनायक दामोदर सावरकर का नाम बड़े गर्व और सम्मान के साथ लिया जाता है. सावरकर को 'वीर' सावरकर के नाम से बुलाया जाता है. प्रधानमंत्री मोदी ने सावरकर की जयंती पर उन्हें याद करते हुए ट्वीट किया.

वीर सावरकर का जन्म महाराष्ट्र में नासिक जिले के भगूर ग्राम में 28 मई 1883 को हुआ था. सावरकर एक लेखक, कवि और ओजस्वी वक्ता थे. भारतीय राजनीति में सावरकर का नाम महानता और विवाद दोनों के साथ लिया जाता है. उनकी माता का नाम राधाबाई तथा पिता का नाम दामोदर पंत सावरकर था.

 

चारधाम परियोजना: सभी मौसम में चारो धाम पहुंचना जल्द होगा आसान

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने ऋषिकेश- धरासू रोड पर व्यस्त चम्‍बा कस्बे के नीचे 440 मीटर लंबी सुरंग बनाने के लिए सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) की तारीफ की और इसे महामारी के दौरान राष्ट्र-निर्माण की दिशा में एक ‘असाधारण उपलब्धि' करार दिया. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि यह परियोजना निर्धारित समय से तीन महीने पहले अक्टूबर में पूरी होगी.

सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह ने कहा कि बीआरओ ने सुरंग के उत्तरी छोर पर काम जनवरी 2019 में शुरू किया, लेकिन सुरक्षा चिंताओं और क्षतिपूर्ति मुद्दों के कारण दक्षिण छोर पर अक्टूबर 2019 के बाद ही काम शुरू हो सका.

 

डब्ल्यूएचओ के सहयोग के लिए नए फाउंडेशन का गठन, जानें विस्तार से

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, यह फाउंडेशन वैश्विक स्तर पर लोगों के स्वास्थ्य की जरूरतों को पूरा करने के लिए संगठन को फंड मुहैया कराएगी लेकिन वैधानिक तौर पर यह  डब्ल्यूएचओ से अलग होगी. पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ी जा रही है. इस फाउंडेशन के तहत किसी महामारी से निपटने हेतु फंडिंग इकट्ठी की जाएगी, जिसमें ना सिर्फ बड़े देशों बल्कि आम लोगों से भी सहायता ली जाएगी.

गौरतलब है कि बीते दिनों ही विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से बयान दिया गया था कि उसका मौजूदा बजट 2.3 बिलियन डॉलर है, जो कि वैश्विक संस्था के तौर पर काफी कम है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने यह भी कहा था कि अमेरिका की ओर से फंडिंग रुक गई है, इसलिए हमें और ज्यादा फंडिंग की जरूरत है.

Related Categories

Also Read +
x