अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने दिया बड़ा झटका, H-1B वीजा का बदला नियम

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हाल ही में एच-1बी (H-1B) वीजा धारकों को बड़ा झटका दिया है. राष्ट्रपति ट्रंप ने 03 अगस्त 2020 को एच-1बी वीजा को लेकर एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर कर दिए, जिसमें अमेरिकी नागरिकों की विदेशी प्रोफेशनल्स को रखने पर रोक लगा दी गई है.

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है. इसके तहत अब अमेरिका की सरकारी एजेंसियां एच-1बी वीजा धारकों को नौकरी पर नहीं रख सकेंगी. इस आदेश का सबसे अधिक असर एच-1बी वीजा धारकों को होगा.

यह कदम क्यों उठाया गया?

अमेरिका के श्रम मंत्री के अनुसार, एच-1बी वीजा के नाम पर धोखाधड़ी रोकने और अमेरिकियों के हितों की रक्षा करने के लिए यह कदम उठाया गया है. चुनावी साल में ट्रंप के इस कदम को अमेरिकी श्रमिकों के लिए मददगार माना जा रहा है.

इस फैसला का असर

इस आदेश का सबसे अधिक असर एच-1बी वीजा धारकों को होगा. इस आदेश के बाद अब वो सभी कंपनियां जो एच-1बी वीजा के आधार पर ही दूसरे देश के लोगों को नौकरी देती हैं, वह अब ऐसा नहीं कर पाएंगी.

राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव

अमेरिका में इस साल राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होने वाले हैं. ट्रंप प्रशासन ने इसके मद्देनजर अमेरिकी कामगारों के हितों को बचाने के नाम पर 23 जून 2020 को इस साल के अंत तक के लिए एच-1बी और विदेशी कामगारों को अमेरिका में काम करने के लिए जरूरी अन्य वीजा को निलंबित करने घोषणा किया था. यह आदेश उसके एक महीने बाद जारी किया है.

24 जून से प्रभावी

यह फैसला 24 जून 2020 से ही प्रभावी माना जाएगा. आदेश पर हस्ताक्षर करने के बाद ओवल ऑफिस में ट्रंप ने पत्रकारों से कहा कि उनकी सरकार यह बर्दाश्त नहीं करेगी कि सस्ते विदेशी कामगारों के लिए कठिन परिश्रम करने वाले अमेरिकी नागरिकों को नौकरी से हटाया जाए. उन्होंने कहा कि हमने तय किया है कि अब एच-1बी वीजा की वजह से किसी अमेरिकी कामगारों की नौकरी नहीं जाएगी.

एच-1बी वीजा क्या है?

एच-1बी वीजा एक गैर आप्रवासी वीजा है, जो अमेरिकी कंपनियों को विदेशी विशेषज्ञों को नौकरी पर रखने की अनुमति देता है. यह किसी कर्मचारी को अमेरिका में छह साल काम करने के लिए जारी किया जाता है. अमेरिका में काम करने वाले ज्यादातर भारतीय आइटी पेशेवर इसी वीजा पर वहां जाते हैं. अमेरिकी टेक कंपनियां हर साल इसी वीजा पर भारत और चीन समेत दूसरे देशों से हजारों कर्मचारियों को नौकरी पर रखती हैं. इस वीजा की एक खासियत भी है कि यह अन्य देशों के लोगों के लिए अमेरिका में बसने का रास्ता भी आसान कर देता है.

Related Categories

Also Read +
x