यूएई पहला परमाणु ऊर्जा उत्पादक खाड़ी देश बना

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) परमाणु ऊर्जा का उत्पादन करने वाला अरब दुनिया का पहला देश बन गया है. इस 1 अगस्त, 2020 को एक घोषणा में यह पुष्टि की गई थी कि, अबू धाबी स्थित  परमाणु ऊर्जा संयंत्र की इकाई 1 अब चालू हो गई है.

बाराकाह परमाणु ऊर्जा संयंत्र की इकाई 1 अब परमाणु ईंधन का उपयोग ‘जीवन शक्ति’ चरण के हिस्से के रूप में ऊर्जा का उत्पादन करने के लिए कर रही है. इसे 31 जुलाई को शुरू किया गया था. इस परमाणु रिएक्टर को पावर ग्रिड से जोड़ा जाएगा जो आगामी परीक्षण चरण के दौरान बिजली प्रदान करेगा.

इस परमाणु रिएक्टर का वाणिज्यिक संचालन इस साल के अंत में शुरू होने की उम्मीद है. परमाणु ऊर्जा से पूरे देश में स्वच्छ ऊर्जा का उपयोग करने के माध्यम से बिजली व्यवसायों और घरों की मदद करने की आशा जताई जा रही है.

दुबई के उपाध्यक्ष और शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद ने ट्विटर के एक पोस्ट के माध्यम से इस संयंत्र के सफल संचालन की पुष्टि की है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है, "आज हम अबू धाबी में बाराकाह परमाणु संयंत्र शुरू करके अरब दुनिया का पहला शांतिपूर्ण परमाणु रिएक्टर संचालित करने में यूएई की सफलता की घोषणा करते हैं."

उन्होंने अपने ट्वीट में आगे यह कहा कि, हमारी टीमें परमाणु ईंधन पैकेज लोड करने, व्यापक परीक्षण करने और परमाणु संयंत्र का सफलतापूर्वक संचालन शुरू करने में सफल रहीं.

महत्व

यूएई का उद्देश्य चार परमाणु ऊर्जा संयंत्रों को संचालित करना है, जो देश की ऊर्जा जरूरतों का एक-चौथाई हिस्सा सुरक्षित, विश्वसनीय और उत्सर्जन-मुक्त तरीके से प्रदान करेंगे.

बाराकाह परमाणु संयंत्र

• बाराकाह परमाणु ऊर्जा संयंत्र यूएई का पहला परमाणु ऊर्जा केंद्र है. यह राजधानी से लगभग 280 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.

• इस पावर प्लांट में चार इकाइयां शामिल होंगी जो कुल 5,600 मेगावाट ऊर्जा की आपूर्ति करेंगी. इससे देश की ऊर्जा जरूरतों का 25 फीसदी हिस्सा हासिल करने के लिए पर्याप्त बिजली का उत्पादन होने की उम्मीद है.

• इस पावर प्लांट के संचालन से प्रत्येक वर्ष 21 मिलियन टन कार्बन उत्सर्जन को रोकने में भी मदद मिलेगी, जो हर साल सड़कों से 3.2 मिलियन कारों को हटाने के बराबर है. वर्तमान में यूएई की अधिकांश ऊर्जा जरूरतें गैस से चलने वाले बिजली संयंत्रों और कुछ सौर क्षेत्रों से पूरी होती हैं.

• इस पावर प्लांट का निर्माण कोरिया इलेक्ट्रिक पावर कॉरपोरेशन (KEPCO) के नेतृत्व में एक कंसोर्टियम द्वारा किया जा रहा है, जोकि वहां प्रमुख ठेकेदार है.

• इस पावर प्लांट का लगभग 94 प्रतिशत निर्माण पूरा हो चुका है. जबकि 2 रिएक्टर तैयार हैं, तीसरा 92 प्रतिशत पूर्ण है और चौथा और अंतिम 85 प्रतिशत पूर्ण है.

पृष्ठभूमि

यूएई पहला ऐसा खाड़ी देश है और वैश्विक स्तर पर 33 वां देश है जिसने सुरक्षित, स्वच्छ और विश्वसनीय बेस लोड बिजली बनाने के लिए परमाणु ऊर्जा बिजली संयंत्र विकसित किया है. इस देश ने वर्ष 2008 में परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम स्थापित करने की अपनी महत्वाकांक्षाओं का खुलासा किया था और इस परमाणु ऊर्जा संयंत्र के निर्माण में एक दशक से अधिक समय लगा है.

यूएई के अलावा, दुनिया के शीर्ष कच्चे तेल निर्यातक सऊदी अरब ने भी परमाणु ऊर्जा हासिल करने की अपनी योजना को तीव्र कर दिया है. दो परमाणु रिएक्टरों के निर्माण के लिए बोली लगाने के लिए अरब राष्ट्र को अगले महीने कई अंतर्राष्ट्रीय कंपनियों के प्रीक्वालिफाई करने की उम्मीद है.

Related Categories

Also Read +
x