लंदन कोर्ट ने विजय माल्या के प्रत्यर्पण को मंजूरी दी

लंदन की वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की कोर्ट ने 10 दिसंबर 2018 को विजय माल्या को प्रत्यर्पण की मंजूरी दे दी है. अब सीबीआई विजय माल्या को भारत लेकर आ सकती है.

माल्या अदालत के इस फैसले के खिलाफ उपरी अदालत में अपील कर सकते हैं. विजय माल्या के भारत में प्रत्यर्पण का मामला राज्य सचिव को भेजा गया है.

लंदन में विजय माल्या ने बैंकों को कर्ज वापस करने के बारे में कहा कि जैसा कि स्पष्ट है मामला कर्नाटक हाईकोर्ट के पास जा रहा है. इसलिए हाईकोर्ट को ही फैसला लेने दें.

मैजिस्ट्रेट कोर्ट के फ़ैसले के ख़िलाफ़ हाई कोर्ट में अपील करने के लिए विजय माल्या के पास 14 दिनों का समय होगा. अगर संबंधित व्यक्ति अपील नहीं करता और विदेश मंत्री अदालत के फ़ैसले से सहमत होते हैं तो वह व्यक्ति 28 दिनों के भीतर प्रत्यर्पित कर दिया जाएगा.

इस सुनवाई के दौरान सीबीआइ के संयुक्त निदेशक और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के दो अधिकारी भी वहां उपस्थित रहे. भारतीय जांच एजेंसियां लंबे वक्त से माल्या को प्रत्यर्पित कराकर स्वदेश वापस लाने की कोशिश कर रही हैं.

 

विजय माल्या के खिलाफ केस क्या है?

विजय माल्या मनी लॉन्ड्रिंग और लोन की रकम दूसरे कामों में खर्च करने के अलावा 9,000 करोड़ रूपये का लोन वापस न करने के मामले का सामना कर रहे है. किंगफिशर एयरलाइन्स पर लगभग 9000 करोड़ रुपये का कर्ज बकाया है. यह कर्ज एसबीआई की अगुवाई वाले 17 बैंकों के समूह ने दिया था. मार्च 2016 में विजय माल्या भारत छोड़ कर लंदन चले गये थे.

इससे पहले विजय माल्या ने यूएसएल के साथ समझौता किया था जिसके तहत उन्हें कंपनी से हटने के एवज में 500 करोड़ रुपये से ज्यादा की रकम मिली थी. उस समय वह सभी 'पर्सनल लायबिलिटी' से वह मुक्त कर दिए गए थे. उसी समय से माल्या ब्रिटेन में हैं.

विजय माल्या की गिरफ्तारी:

भारत में फ्रॉड और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों पर अप्रैल 2017 में स्कॉटलैंड यार्ड में विजय माल्या की गिरफ्तारी हुई लेकिन, जमानत पर छूट गया. उसके प्रत्यर्पण का मामला 4 दिसंबर 2017 से लंदन की अदालत में चल रहा था.

 

विजय माल्‍या के बारे में:

•   विजय माल्‍या का जन्‍म 18 दिसंबर 1955 को कर्नाटक में मंगलौर के बंटवाल शहर में हुआ था.

•   उनकी प्रारम्‍भिक शिक्षा कोलकाता के लॉ मास्‍टीने स्‍कूल से हुई.  उन्होंने सेंट जेवियर कॉलेज, कोलकाता से ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की.

•   विजय माल्या पहली बार वर्ष 2002 में कर्नाटक से निर्दलीय सांसद के तौर पर चुनाव जीतकर राज्यसभा पहुंचे थे.

   विजय माल्‍या ने किंगफिशर एयरलाइंस की स्थापना वर्ष 2005 में की थी. किंगफिशर एयरलाइंस को फरवरी 2013 में बंद कर दिया गया था.

   विजय माल्‍या को दुनिया भर के अमीर लोगों में ‘किंग ऑफ गुड टाइम’ के नाम से जाना जाता है.

   विजय माल्‍या वर्ल्‍ड इकॉनॉमिक्‍स फोरम द्वारा अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर का 'कल का नेता' अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है.

 

यह भी पढ़ें: उद्योगपति विजय माल्या का राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा


यह भी पढ़ें: विजय माल्या लंदन में गिरफ्तार, बेल पर रिहा

Related Categories

Popular

View More