Are you worried or stressed? Click here for Expert Advice
Next

UN अध्यक्ष ने भारतीय राजदूत नागराज नायडू को बनाया वरिष्ठ अधिकारी

Vikash Tiwari

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के मनोनीत अध्यक्ष मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने यूएन में भारत के उप स्थायी प्रतिनिधि के. नागराज नायडू को अपना ‘शेफ डी कैबिनेट’ नियुक्त किया है. भारतीय विदेश सेवा अधिकारी के. नागराज नायडू को अगले एक साल के लिए संयुक्त राष्ट्र की ब्यूरोक्रेसी का नेतृत्व करने के लिए चुना गया है.

मालदीव के विदेश मंत्री और संयुक्त राष्ट्र महासभा के प्रेसिडेंट चुने गए अब्दुल्ला शाहिद ने उन्हें यह जिम्मेदारी दी है. अगले एक साल तक के. नागराज नायडू अब्दुल्ला शाहिद के सहायक के तौर पर कामकाज देखेंगे. मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने ट्वीट कर नागराज को यह जिम्मेदारी दिए जाने की जानकारी दी है.

शेफ डु कैबिनेट क्या है?

बता दें कि शेफ डु कैबिनेट फ्रेंच शब्द है, जिसका अर्थ मुख्य सहायक या निजी सचिव होता है. संयुक्त राष्ट्र में यह महत्वपूर्ण पद होता है. यूएन में नौकरशाही 'शेफ डी कैबिनेट' के नियंत्रण में ही होती है. 'शैफ डी कैबिनेट' किसी भी अंतरराष्ट्रीय संगठन में वरिष्ठ नौकरशाह होता है. जो संगठन के शीर्ष पद पर बैठने वाले शख्स के निजी सचिव के तौर पर काम करता है.

नायडू को 143 वोट मिले

संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में इस पद के लिए नागराज नायडू का मुकाबला अफगानिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री डा. जालमाई रसूल से था. इस क्रम में नागराज नायडू को 143 वोट हासिल हुए वहीं रसूल को केवल 48 वोट मिले. नियुक्ति के बाद नागराज नायडू ने वर्तमान महासभा अध्यक्ष वोल्कन बोजकिर से मुलाकात की. उन्होंने कहा कि यह मेरे लिए सौभाग्य की बात है कि मुझे संयुक्त राष्ट्र महासभा अध्यक्ष के नेतृत्व में काम करने का मौका मिलेगा.

नागराज नायडू एक साल के लिये कामकाज देखेंगे

अब एक साल तक के लिए नागराज नायडू बतौर सहायक अब्दुल्ला शाहिद के साथ कामकाज देखेंगे. नए महासभा अध्यक्ष अब्दुल्ला शाहिद 7 जून को नए अध्यक्ष पद के लिए चुने गए थे. वे सितंबर में अपना कार्यभार ग्रहण करेंगे. नागराज नायडू भारत के राजदूत हैं.

UNSC में भारत का दो साल का अस्थायी कार्यकाल

इसी साल जनवरी में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में भारत का दो साल का अस्थायी कार्यकाल शुरू हुआ है. यह 8वां मौका है, जब भारत को सुरक्षा परिषद में रखा गया है. यही नहीं दुनिया के कई बड़े देश ने भारत की स्थायी सदस्यता का समर्थन किया है.

Related Categories

Live users reading now