Advertisement

प्रतिबंधों के विरोध में वेनेजुएला ने अमेरिकी अधिकारियों को देश से निष्कासित किया

वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने 22 मई 2018 को वेनेजुएला के व्यापक रूप से निंदा किए गए चुनावों पर दो शीर्ष अमेरिकी राजनयिकों को निष्कासन का आदेश दिया.

वेनेजुएला के राष्ट्रपति ने कराकास स्थित अमेरिकी दूतावास के चीफ ऑफ मिशन को 48 घंटों के भीतर देश छोड़कर जाने का आदेश दे दिया है.

अर्जेटीना, ब्राजील और कनाडा सहित 14 देशों ने निकोलस मादुरो की जीत के बाद विरोधस्वरूप कराकस स्थित दूतावासों से अपने राजदूतों को वापस बुला लिया है.

हालांकि उनकी इस जीत से नाखुश विपक्ष ने इस वर्ष के अंत में फिर से चुनाव कराए जाने की मांग की है. विपक्ष लगातार मादुरो को देश में आए आर्थिक संकट के लिए जिम्‍मेदार बताता रहा है.

 

अमेरिकी वित्त विभाग द्वारा प्रतिबंध:

अमेरिकी वित्त विभाग ने वेनेजुएला के एक प्रभावशाली नेता और उनसे संबंधित तीन लोगों पर प्रतिबंध लगा दिए हैं. अमेरिकी वित्त विभाग ने सैरिया की अमेरिका में तीन कंपनियों और 14 संपत्तियों को भी ब्लॉक कर दिया है.

 

अमेरिका ने वेनेजुएला के खिलाफ आर्थिक प्रतिबंध:

अमेरिका ने वेनेजुएला के खिलाफ आर्थिक प्रतिबंध लगाया हुआ है जिसकी वजह से अमेरिकी सुरक्षा एजेंसियों ने भारत से निर्यात हो रही औषधि के कंटेनर की सप्लाई रोक दी थी. वेनेजुएला पर अमेरिका ने तेल निर्यात पर भी प्रतिबंध लगाया हुआ है जिसकी वजह से कोई भी देश वेनेजुएला को अमेरिकी डॉलर में भुगतान नहीं कर सकता है.

 

पृष्ठभूमि:

गौरतलब है की वेनेजुएला में हुआ राष्ट्रपति चुनाव शुरू से ही विवादित रहा है. इस बार इस चुनाव में महज 46 प्रतिशत मतदान हुआ था. निकोलस मादुरो को 67.7 फीसदी मत मिले थे जबकि हेनरी फाल्कोन को 21.2 फीसदी ही वोट मिले.

उल्लेखनीय है कि वेनेजुएला में हाल ही में हुए चुनाव का विपक्षी गठबंधन ने बहिष्कार किया था और अमेरिका ने भी कई अन्य देशों की तरह ही हालिया चुनाव में निकोलस मादुरो की जीत को खारिज कर दिया है.

 

 

राष्ट्रपति चुनाव का बहिष्कार:

राष्ट्रपति चुनाव का बहिष्कार करने वाली मुख्य विपक्षी पार्टी ने निकोलस मादुरो को चुनौती देने वाले दो उम्मीदवारों से अनुरोध किया था कि वे नतीजों को खारिज कर दें, क्योंकि चुनाव एक धोखा है. वेनेजुएला राष्ट्रपति चुनाव पर अनियमितता और बड़े पैमाने पर हिंसा के आरोप लगे हैं.

 

अमेरिका ने चुनाव की निंदा की

अमेरिका ने इस चुनाव की निंदा की. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने चुनाव को दिखावटी बताते हुए इसकी निंदा की थी. इसके अतिरिक्त संयुक्‍त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निकी हैले ने चुनाव के नतीजों को खारिज करते हुए इसे शर्मनाक और तानाशाही की ओर कदम बताया.

यह भी पढ़ें: निकोलस मादुरो वेनेजुएला के राष्ट्रपति पद का चुनाव जीते

 
Advertisement

Related Categories

Advertisement