पश्चिम बंगाल विधानसभा में राज्य का नाम बदलने हेतु प्रस्ताव पारित

ममता बनर्जी के नेतृत्व में पश्चिम बंगाल विधानसभा ने 29 अगस्त 2016 को राज्य का नाम बदलने का प्रस्ताव पारित किया गया.

विधानसभा ने राज्य का नाम बदलकर बंगाली भाषा में 'बांग्ला' और अंग्रेजी में 'बेंगाल' करने का प्रस्ताव पारित किया. वर्तमान में बंगाली भाषा में राज्य को 'पश्चिम बंग' या 'पश्चिम बांग्ला' कहा जाता है. इसे बंगाली भाषा में ‘बांग्ला’ के नाम से जाना जायेगा.

वाम मोर्चा, कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सदन से वॉकआउट किया और नियम 169 के तहत सरकारी प्रस्ताव पास कर दिया गया.

पृष्ठभूमि

इससे पहले लेफ्ट फ्रंट सरकार के शासनकाल में वर्ष 2001 में कलकत्ता का नाम बदल कर कोलकाता किया गया था. इसके बाद ममता बेनर्जी सरकार ने वर्ष 2011 में सत्ता में आने के बाद पश्चिम बंगाल का नाम बदल कर पश्चिम बंग करने की भी मुहिम चलाई गयी थी लेकिन तब यह मामला अधर में लटक गया था.

Now get latest Current Affairs on mobile, Download # 1  Current Affairs App

 

Related Categories

Also Read +
x

Live users reading now