खगोलविदों ने की पृथ्वी के सबसे निकटतम ब्लैकहोल खोज की

यह धरती के इतना नजदीक है कि इसके साथ नृत्य करते दो तारों को बिना दूरबीन के देखा जा सकता है. यूरोपियन सदर्न ऑब्जर्वेटरी के खगोलविद थॉमस रिविनिउस ने कहा कि यह ब्लैक होल धरती से लगभग एक हजार प्रकाश वर्ष दूर है.

Created On: May 8, 2020 11:30 ISTModified On: May 8, 2020 11:30 IST

खगोल विज्ञानियों ने हाल ही में पृथ्वी के अब तक के सबसे नजदीकी ब्लैक होल का पता लगाया है. यूरोपीय अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने पृथ्वी से 1000 प्रकाश वर्ष दूर एक नए ब्लैकहोल की खोज की है. यह अब तक का ज्ञात पृथ्वी से सबसे नजदीक ब्लैकहोल है.

यह धरती के इतना नजदीक है कि इसके साथ नृत्य करते दो तारों को बिना दूरबीन के देखा जा सकता है. यूरोपियन सदर्न ऑब्जर्वेटरी के खगोलविद थॉमस रिविनिउस ने कहा कि यह ब्लैक होल धरती से लगभग एक हजार प्रकाश वर्ष दूर है.

एक प्रकाश वर्ष की दूरी साढ़े नौ हजार अरब किलोमीटर दूरी के बराबर होती है लेकिन ब्रह्मांड, यहां तक कि आकाशगंगा के संदर्भ में, यह ब्लैक होल हमारा पड़ोसी है. यूरोपियन सदर्न ऑब्जर्वेटरी के खगोलविद थॉमस रिविनिउस ने ही इस खोज से जुड़ी टीम का नेतृत्व किया था. इस नए ब्लैकहोल का व्यास 25 मील (लगभग 40 किलोमीटर) हो सकता है.

इस खगोलीय खोज से संबंधित अध्ययन 06 अप्रैल 2020 को पत्रिका 'एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स' में प्रकाशित हुआ. इससे पहले मिला धरती का नजदीकी ब्लैक होल इससे लगभग तीन गुना यानी कि 3,200 वर्ष दूर है. हार्वर्ड ब्लैक होल इनीशिएटिव के निदेशक एवी लोएब ने कहा कि ऐसे ब्लैक होल होने की भी संभावना है जो इस ब्लैक होल की तुलना में धरती के अधिक नजदीक हों.

ब्लैक होल क्या है?

ब्लैक होल किसी तारे का आखिरी समय माना जा सकता है. जब कोई विशाल तारा खत्म होने की ओर होता है तो अपने ही भीतर सिकुड़ने लगता है. आखिर में ये ब्लैक होल बन जाता है जो अपने भीतर किसी भी बड़ी से बड़ी चीज को निगल सकता है. मरते हुए तारे का आकर्षण इतना बढ़ा जाता है कि उसके भीतर का सारा पदार्थ आपस में ही सिमट जाता है और एक छोटे काले बॉल की आकृति ले लेता है. अब इसका कोई आयतन नहीं रह जाता है लेकिन घनत्व अनंत रहता है. इसके बाद ये अंतरिक्ष के सारे पिंडों को अपनी ओर खींचने लगता है. जितनी ज्यादा चीजें इसके भीतर समाती जाती है, इसकी ताकत उतनी ही बढ़ती जाती है.

प्रकाश वर्ष क्या है?

प्रकाश वर्ष वह खगोलीय मापक है जिसे अंतरिक्ष में तारों और ग्रहों के बीच की दूरी का आकलन करने के लिए प्रयोग किया जाता है. यह इकाई मुख्यत: लम्बी दूरियों यथा दो तारों या गैलेक्सी जैसी अन्य खगोलीय वस्तुओं की बीच की दूरी मापने में प्रयोग की जाती है. भ्रमांड में मौजूद तारों आदि के बीच की दूरी को नापने के लिए प्रकाश वर्ष का उपयोग किया जाता है.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Related Stories

Post Comment

4 + 5 =
Post

Comments

    Whatsapp IconGet Updates

    Just Now