सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत बने देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ, जानिए इस पद के बारे में

जनरल बिपिन रावत ने अपने कार्यकाल के पहले दिन की शुरुआत दिल्ली स्थित राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित करने के साथ की. देश के पहले सीडीएस का कार्यभार संभालने के बाद जनरल बिपिन रावत ने रक्ष मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की.

Created On: Jan 2, 2020 10:20 ISTModified On: Jan 2, 2020 10:22 IST

जनरल बिपिन रावत ने 01 जनवरी 2020 को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) का पदभार संभाल लिया. वे अब जल, थल और वायु तीनों सेनाओं के बीच समन्वय का काम करेंगे. बिपिन रावत 31 दिसंबर 2019 को सेना प्रमुख के पद से रिटायर हो गए.

बिपिन रावत के रिटायर होने के बाद लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवणे देश के अगले सेनाध्यक्ष नियुक्त हो गए. केंद्र सरकार ने एक दिन पहले ही CDS पोस्ट के लिए सेना के नियमों में संशोधन कर उम्र की सीमा को बढ़ाकर 65 साल किया था. रक्षा मंत्रालय द्वारा इसकी अधिसूचना जारी की गई थी.

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत भारतीय सेनाध्यक्ष के तौर पर अपना तीन साल का कार्यकाल पूरा करके 31 दिसंबर 2019 को रिटायर हो रहे हैं. इसके बाद वो चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का पद संभालेंगे. 62 साल के बिपिन रावत 65 साल की उम्र पूरी होने तक चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) के पद पर रहेंगे.

सीडीएस की क्या होगी भूमिका

सीडीएस की भूमिका यह रहेगी कि तीनों सेनाओं के बीच तालमेल को और बेहतर बनाने के लिए जल्द ही सैन्य मामलों का विभाग का गठन किया जाए. चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) इसके चीफ होंगे.

सीडीएस का दूसरा भूमिका चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी के स्थायी अध्यक्ष का होगा. इसमें सीडीएस की भूमिका सशस्त्र सेनाओं के ऑपरेशंस में आपसी समन्वय तथा उसके लिए वित्त प्रबंधन की होगी.

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) क्या है?

तीनों सेनाओं, थल सेना, वायु सेना और भारतीय नौसेना के बीच अच्छे संबंध स्थापित करने हेतु इस पद का गठन किया गया है. सीडीएस देश के सशस्त्र बलों का सर्वोच्च रैंक (तीनों सेनाओं) वाला अधिकारी होता है. सीडीएस तीन सेनाओं का प्रमुख भी होगा तथा एक पांच सितारा सैन्य अधिकारी होगा.सीडीएस तीनों सेनाओं का प्रमुख होगा. इस कारण से उसके पास सैन्य सेवा का लंबा अनुभव एवं उपलब्धियां होनी चाहिए.

सीडीएस की मांग कब उठी थी?

इसकी मांग सुरक्षा विशेषज्ञ साल 1999 के कारगिल युद्ध के बाद से करते रहे हैं. कारगिल युद्ध के बाद तत्कालीन उप-प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी की अध्यक्षता में साल 2001 बने ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स (GOM) ने भी तीनों सेनाओं के बीच अच्छे तालमेल स्थापित करने हेतु सीडीएस की सिफारिश की थी. ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने अपनी सिफारिश में कहा था अगर कारगिल युद्ध के दौरान ऐसी कोई व्यवस्था होती तथा तीनों सेनाएं अच्छे तालमेल से युद्ध के मैदान में उतरते तो नुकसान बहुत ही कम होता.

पृष्ठभूमि

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त 2019 को लाल किले की प्राचीर से देश की तीनों सेनाओं के बीच तालमेल को और बेहतर बनाने हेतु चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) का नया पद बनाने का घोषणा किया था. उसी समय से सबसे सीनियर मिलिट्री कमांडर होने की वजह से मौजूदा सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत को देश के पहले CDS बनने के कयास लगाए जा रहे थे.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Related Stories

Post Comment

3 + 8 =
Post

Comments

    Whatsapp IconGet Updates

    Just Now