वर्ष, 2020 में भारत को मिला 64 अरब अमेरिकी डॉलर का FDI, बना दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा प्राप्तकर्ता देश

इस UN रिपोर्ट में यह कहा गया है कि वर्ष, 2019 में, भारत में 51 बिलियन अमेरिकी डॉलर से वर्ष, 2020 में FDI प्रवाह 27 प्रतिशत बढ़कर 64 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया था. जिस कारण वर्ष, 2020 में भारत दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा FDI प्राप्तकर्ता देश बन गया.

Created On: Jun 22, 2021 17:33 ISTModified On: Jun 22, 2021 17:34 IST

21 जून, 2021 को जारी संयुक्त राष्ट्र व्यापार और विकास सम्मेलन (UNCTAD) द्वारा विश्व निवेश रिपोर्ट, 2021 के अनुसार भारत को वर्ष, 2020 में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) में 64 बिलियन अमरीकी डालर प्राप्त हुए. इससे भारत दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा FDI प्राप्तकर्ता देश बन गया.

वैश्विक FDI प्रवाह पर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट

विश्व निवेश रिपोर्ट, 2021 में यह कहा गया है कि, वैश्विक FDI प्रवाह COVID-19 महामारी से बुरी तरह प्रभावित हुआ है और यह वर्ष, 2019 में 1.5 ट्रिलियन अमरीकी डालर से 35 प्रतिशत गिरकर वर्ष, 2020 में 01 ट्रिलियन अमरीकी डालर हो गया है.

भारत के FDI प्रवाह पर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट

• इस रिपोर्ट में यह कहा गया है कि भारत में वर्ष, 2019 में 51 बिलियन अमेरिकी डॉलर से वर्ष, 2020 में FDI प्रवाह 27 प्रतिशत बढ़कर 64 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया था. यह भारत को दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा FDI प्राप्तकर्ता देश बनाता है.
• ICT उद्योग में कुछ प्रमुख परियोजना घोषणाओं में से एक, भारत में ICT बुनियादी ढांचे में ऑनलाइन खुदरा दिग्गज अमेज़ॅन द्वारा 2.8 बिलियन अमरीकी डालर का निवेश शामिल है.
• हालांकि अप्रैल, 2021 में भारत में COVID-19 के प्रकोप की दूसरी लहर ने देश की समग्र आर्थिक गतिविधियों पर भारी प्रभाव डाला है जिससे वर्ष, 2021 में बड़ा आर्थिक संकुचन देखा गया है.

दक्षिण एशिया में FDI पर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट

• संयुक्त राष्ट्र की इस रिपोर्ट के अनुसार वर्ष, 2021 में दक्षिण एशिया में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश 20 प्रतिशत बढ़कर 71 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया, जो मुख्य रूप से भारत में मजबूत विलय और अधिग्रहण से प्रेरित था.
• ICT, स्वास्थ्य, बुनियादी ढांचे और ऊर्जा से जुड़े प्रमुख सौदों के साथ इस दौरान सीमा पार विलय और अधिग्रहण 83 प्रतिशत बढ़कर 27 अरब अमेरिकी डॉलर हो गया.

  • कुछ बड़े लेनदेन में शामिल हैं:

फेसबुक की सहायक कंपनी जाधू द्वारा 5.7 बिलियन अमरीकी डालर में जियो प्लेटफॉर्म्स का अधिग्रहण.

L&T इंडिया के इलेक्ट्रिकल और ऑटोमेशन डिवीजन की बिक्री 2.1 बिलियन अमेरिकी डॉलर में.

यूनिलीवर इंडिया का 4.6 बिलियन अमेरिकी डॉलर में GSK (यूनाइटेड किंगडम) की सहायक कंपनी, ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन कंज्यूमर हेल्थकेयर इंडिया के साथ विलय.

इन क्षेत्रों में बनी हुई है अनिश्चितता

• संयुक्त राष्ट्र की इस रिपोर्ट ने आगाह किया है कि, जहां एशिया अपेक्षाकृत अच्छी तरह से COVID-19 महामारी से निपटने में कामयाब रहा है, वहीं COVID-19 की दूसरी लहर से यह पता चलता है कि अभी भी कई अनिश्चितताएं कायम हैं.
• यह देखते हुए कि इस क्षेत्र का FDI के कुल योगदान में महत्वपूर्ण योगदान है, एशिया में COVID-19 का व्यापक पुनरुत्थान वर्ष, 2021 में वैश्विक FDI को काफी कम कर सकता है.
• एशिया में FDI प्रवाह वर्ष, 2021 में और बढ़ने की उम्मीद है, जो 5-10 प्रतिशत की अनुमानित वृद्धि दर के साथ अन्य विकासशील क्षेत्रों से आगे निकल जाएगा.

एशिया में FDI वृद्धि को क्या बढ़ावा देगा?

• इस रिपोर्ट में यह कहा गया है कि वर्ष, 2020 की दूसरी छमाही में व्यापार और औद्योगिक उत्पादन में सुधार के संकेत वर्ष, 2021 में FDI वृद्धि के लिए एक मजबूत आधार प्रदान करते हैं.
• पूर्व और दक्षिण-पूर्व एशिया और भारत की अर्थव्यवस्थाओं द्वारा विदेशी निवेश को आकर्षित करना जारी रखने की भविष्यवाणी की गई है.

वर्ष, 2021 में भारत में FDI की संभावनाएं

• इस रिपोर्ट के अनुसार, भारत के मजबूत बुनियादी तत्व मध्यम अवधि के लिए सकारात्मक रुझान दर्शाते हैं.
• भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश एक दीर्घकालिक विकास प्रवृत्ति प्रदर्शित करता रहा है और इसके बाजार का आकार से, बाजार तलाशने वाले अधिक निवेश आकर्षित होने की उम्मीद है.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Post Comment

4 + 3 =
Post

Comments

    Whatsapp IconGet Updates

    Just Now