Search

भारत ने नेपाल के तराई क्षेत्र में सड़क निर्माण हेतु 470 मिलियन रुपये की सहायता राशि जारी की

Aug 17, 2018 09:31 IST
1

भारत सरकार ने नेपाल में तराई सड़कों परियोजना के लिए 470 मिलियन नेपाली रुपये अनुदान जारी किया है. नेपाल में भारतीय राजदूत मनजीव सिंह पुरी ने नेपाल के भौतिक बुनियादी ढांचे और परिवहन मंत्रालय, सचिव मधुसूदन अधिकारी को नेपाल में काठमांडू में चेक प्रदान किया.

इसे पोस्टल राजमार्ग एवं हुलाकी राजमार्ग भी कहा जाता है. इस परियोजना के तहत 14 सड़क पैकेजों के चालू निर्माण के लिए फंड तरलता बनाए रखने के लिए राशि जारी की गई है. इस भुगतान के साथ, पोस्टल राजमार्ग परियोजना के तहत 14 पैकेज लागू करने के लिए भारत सरकार द्वारा किए गए 8 अरब नेपाली रुपये की कुल अनुदान सहायता से 2.35 अरब नेपाली रुपये जारी किए गए हैं.

तराई सड़क अथवा हुलाकी राजमार्ग परियोजना
नेपाल स्थित तराई में बनाये जाने वाले राजमार्ग परियोजना को हुलाकी राजमार्ग परियोजना के नाम से भी जाना जाता है. यह नेपाल के एक छोर से दूसरे छोर को जोड़ने वाला राजमार्ग है. यह पूर्वी छोर पर स्थित भद्रपुर से लेकर पश्चिम में दोधारा तक फैला है. यह नेपाल में सबसे पुराना राजमार्ग है जो जुद्धा शमशेर जंग बहादुर राणा और पद्म शमशेर जंग बहादुर राणा द्वारा निर्मित है ताकि हिमालयी राष्ट्र में परिवहन सेवाओं की सहायता और सुविधा प्रदान की जा सके.

भारत-नेपाल संबंध
भारत-नेपाल संबंधों की शुरुआत साल 1950 की मैत्री और शांति संधि के साथ मानी जाती है. यही संधि दोनों देशों के बीच व्यापारिक गठजोड़ को भी बढ़ाती है. भारत ने नेपाल को हर तरह की सहायता देकर वहां स्थायित्व लाने का प्रयास किया है. अब-तक भारत में जितनी सरकारें आई सबका कार्य नेपाल को लेकर सहयोगात्मक रहा.
भारत के मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नेपाल यात्रा के दौरान नेपाल में आये विनाशकारी भूकंप के बाद वह के इंफ्रास्ट्रक्चर को को फिर से तैयार करने के लिए आर्थिक सहायता जारी की. भारत और नेपाल धार्मिक, आर्थिक एवं सामाजिक रूप से जुड़े हुए देश हैं.

 

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा स्वतंत्रता दिवस पर की गई प्रमुख घोषणाएं

 
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK