बौने ग्रह के आकार वाले मेगा धूमकेतु UN271 ने किया हमारे सौर मंडल में प्रवेश, 2031 तक कर सकता है शनि को पार

इन खगोलीय निष्कर्षों से यह पता चलता है कि, मेगा धूमकेतु की कक्षा का एक छोर हमारे सूर्य के करीब है जबकि इस धूमकेतु का दूसरा छोर ऊर्ट क्लाउड तक जाता है. मेगा धूमकेतु UN271 के बारे में इस आर्टिकल में विस्तार से पढ़ें.

Created On: Jun 24, 2021 17:33 ISTModified On: Jun 24, 2021 17:34 IST

वर्ष, 2031 तक मेगा-धूमकेतु (कॉमेट) 2014 UN271 के सूर्य के पास से गुजरने की उम्मीद है और यह कॉमेट शनि की कक्षा के सबसे करीब से भी गुजरेगा. वर्ष, 2014 और वर्ष, 2018 के बीच डाटा कैप्चर करने वाले डार्क एनर्जी सर्वे के खगोलीय निष्कर्षों के दौरान इस मेगा धूमकेतु की पहचान की गई थी.

मेगा धूमकेतु 2014 UN271, जिसकी चौड़ाई 100 से 370 किलोमीटर के बीच होने का अनुमान है, को छोटे बौने ग्रह क्षेत्र में रखा गया है. यह मेगा धूमकेतु हमारे सौर मंडल के किनारे पर छिपा हुआ पाया गया हैं.

अपनी कक्षा का एक पूरा चक्र लगाने के लिए यह धूमकेतु लेता है 6,12,190 वर्ष


• मेगा धूमकेतु 2014 UN271 अपने दो समापन बिंदुओं के बीच की विशाल दूरी के कारण अपनी कक्षा का एक पूरा चक्र लगाने में लगभग 6,12,190 वर्ष लेता है.
•वर्तमान में, मेगा धूमकेतु 2014 UN271 सूर्य से लगभग 22 खगोलीय इकाइयों (AU) की दूरी पर स्थित है. यह धूमकेतु सूर्य से लगभग 29 AU दूर था जब इसे पहली बार वर्ष, 2014 में देखा गया था. तब से, यह पिछले सात वर्षों में हर साल एक AU की गति से आगे बढ़ रहा है.

मेगा धूमकेतु UN271 2031 तक शनि की कक्षा को कर सकता है पार 


• वैज्ञानिकों का ऐसा अनुमान है कि वर्ष, 2031 तक मेगा धूमकेतु सूर्य के पास से 10.9 AU की दूरी से गुजरेगा. बाहरी अंतरिक्ष में वापस जाने से पहले, यह धूमकेतु हमारे सौर मंडल में अपने निकटतम स्थान पर, शनि की कक्षा से गुजरेगा.
क्या यह पृथ्वी से दिखाई देगा?
• यहां तक कि सूर्य के निकट से गुजरते हुए भी, यह पृथ्वी से दिखने में बहुत दूर होगा. एक दूरबीन के साथ भी, इसकी दृश्यता प्लूटो के सबसे बड़े चंद्रमा चारोन के समान होगी.

बाह्य अंतरिक्ष से तारे जैसी वस्तुओं के अन्य उदाहरण


• मेगा धूमकेतु 2014 UN 271 बाहरी अंतरिक्ष से किसी वस्तु के आने का पहला उदाहरण नहीं है.
• वर्ष, 2017 में 'ओउमुआमुआ' नामक एक इंटरस्टेलर ऑब्जेक्ट (तारे जैसी वस्तु) बाहरी अंतरिक्ष में लौटने से पहले 92,000 किमी/ प्रति घंटा की गति से हमारे सौर मंडल में प्रवेश करने वाला पहला धूमकेतु था. इसकी चौड़ाई 2,600 फीट और लंबाई 1,300 फीट थी.

धूमकेतु क्या है?


• जैसा कि नासा द्वारा परिभाषित किया गया है, सौर मंडल के निर्माण से बने धूमकेतु चट्टान, धूल और बर्फ से जमे हुए अवशेष हैं. इनका आकार कुछ मील से लेकर दसियों मील तक हो सकता है. जब वे सूर्य के करीब परिक्रमा करते हैं तो वे गर्म हो जाते हैं और इस तरह एक चमकदार सिर के साथ लाखों मील तक फैली धूल और गैसों का एक वायुमंडलीय कोमा (पूंछ) बनाते हैं.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Post Comment

7 + 1 =
Post

Comments

    Whatsapp IconGet Updates

    Just Now