Search

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन की पहली सभा का उद्घाटन किया

प्रधानमंत्री मोदी ने विश्वा‍स व्यक्त किया कि भविष्य, में जब लोग 21वीं शताब्दी में मानवता के कल्याण के विषय में बात करते हैं, तो अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन सूची में सर्वोच्च स्थान पर स्थितहोगा.

Oct 4, 2018 09:59 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 02 अक्टूबर 2018 को विज्ञान भवन में अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन की पहली सभा का उद्घाटन किया. इसके साथ ही द्वितीय आईओआरए नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रीस्तकरीय बैठक और द्वितीय विश्वा नवीकरणीय ऊर्जा निवेशक बैठक एवं प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया गया. इस अवसर पर संयुक्त राष्ट्र् के महासचिव एन्तोनियो गुटेरस भी उपस्थित थे. यह कार्यक्रम 05 अक्टूबर तक चलेगा.

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर संबोधित करते हुए कहा कि पिछले 150 से 200 वर्षों के दौरान मानवजाति ऊर्जा आवश्यकताओं के लिए जीवाश्म ईंधन पर निर्भर रही है. उन्होंने कहा कि प्रकृति अब सौर, वायु और जल जैसे अन्य विकल्पों की तरफ संकेत कर रही है, जो अधिक टिकाऊ ऊर्जा प्रदान करते हैं.

अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन की पहली सभा

  • इस संदर्भ में प्रधानमंत्री मोदी ने विश्वा‍स व्यक्त किया कि भविष्य, में जब लोग 21वीं शताब्दी में मानवता के कल्याण के विषय में बात करते हैं, तो अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन सूची में सर्वोच्च स्थान पर स्थित होगा.
  • उन्होंने कहा कि जलवायु के साथ न्याय करने के संदर्भ में यह मंच महान कार्य करेगा.
  • सौर और पवन ऊर्जा के अलावा भारत बायोमास, बायो-ईंधन और बायो-ऊर्जा की दिशा में भी काम कर रहा है।हा कि भविष्य में प्रमुख ऊर्जा आपूर्तिकर्ता के रूप में अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन, ओपेक का स्थान ले लेगा.
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'एक विश्व, एक सूर्य तथा एक ग्रिड' की पारिकल्पना का सन्देश भी दिया.


क्या है अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन

•    अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन की स्थापना भारत की पहल के बाद हुई थी.

•    इसकी शुरुआत संयुक्त रूप से पेरिस में 30 नवम्बर, 2015 को संयुक्त राष्ट्र जलवायु सम्मेलन के दौरान सीओपी-21 से पृथक भारत और फ्राँस द्वारा की गई थी.

•    कुछ समय पूर्व नई दिल्ली में हुई आईएसए की अंतर्राष्ट्रीय संचालन समिति की पाँचवीं बैठक में 121 संभावित सदस्य राष्ट्रों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया था, जो पूर्ण रूप से या आंशिक रूप से कर्क और मकर रेखा के बीच स्थित हैं.

•    इस सम्मेलन में आईएसए से जुड़े 61 देश गठबंधन में शामिल हो गए हैं, जबकि कुछ अन्य देशों ने फ्रेमवर्क समझौते की पुष्टि कर दी है.

 

नोबल पुरस्कार 2018: चिकित्सा तथा भौतिकी क्षेत्र में पुरस्कार विजेताओं की घोषणा

 

सितंबर 2018 के टॉप 30 महत्वपूर्ण करेंट अफेयर्स घटनाक्रम

 

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS