Search

शोधकर्ताओं ने दो घंटे में गैर-आक्रामक रूप से कैंसर सेल समाप्त करने की विधि विकसित की

ट्यूमर में नाइट्रोबेन्ज़ालडीहाइड नामक केमिकल डाला जाता है जिससे यह टिश्यू में जाकर उसपर अपना प्रभाव डालता है. डोविन के इस शोध को 27 जून 2016 को द जर्नल ऑफ़ क्लिनिकल ऑन्कोलॉजी में प्रकाशित किया गया.

Jun 30, 2016 15:05 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

Tumour Cellsयूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्सास स्थित सैन एंटोनियो डिपार्टमेंट ऑफ़ बायोलॉजी (यूटीएसए) के एसोसिएट प्रोफेसर मैथ्यू डोविन ने हाल ही में कैंसर सेल्स को समाप्त करने की नयी विधि का पेटेंट प्राप्त किया.

डोविन के इस शोध को 27 जून 2016 को द जर्नल ऑफ़ क्लिनिकल ऑन्कोलॉजी में प्रकाशित किया गया.

इस शोध से जिन लोगों के ऑपरेशन अथवा ट्यूमर को ठीक करने के उपायों में परेशानी आती है उनका उपचार किया जा सकेगा.

विधि का आविष्कार

•    इसके अनुसार ट्यूमर में नाइट्रोबेन्ज़ालडीहाइड नामक केमिकल डाला जाता है जिससे यह टिश्यू में जाकर उसपर अपना प्रभाव डालता है.

•    लेजर बीम से उपचार के दौरान टिश्यू एसिडिक हो जाते हैं लेकिन इस उपचार द्वारा टिश्यू को समाप्त होना पड़ता है.

•    शोध में पाया गया कि दो घंटे में लगभग 95 प्रतिशत कैंसर सेल मर चुके थे.

इस विधि की उपयोगिता

•    डोविन ने इसका प्रयोग नेगेटिव ब्रैस्ट कैंसर पर किया, कैंसर का यह रूप महिलाओं में पाया जाने वाला सबसे अधिक रूप है.

•    इस प्रकार के कैंसर के बारे में किसी भी तरह का पूर्वानुमान नहीं लगाया जा सकता.

•    प्रयोगशाला में चूहों पर किये गये एक अध्ययन के अनुसार ट्यूमर ने बढ़ना रोक दिया जिससे चूहे के जीवित रहने की संभावना दोगुनी हो गयी.

Now get latest Current Affairs on mobile, Download # 1  Current Affairs App

 

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS

Also Read +