अनियमित जमा योजनाओं पर प्रतिबंध लगाने संबंधी विधेयक, 2019 को मंज़ूरी

संसद में 18 जुलाई 2018 को अनियमित जमा योजनाओं पर प्रतिबंध लगाने संबंधी विधेयक-2018 को पेश किया गया था और इसे स्‍थायी वित्‍त समिति के सुपुर्द कर दिया गया था.

Created On: Feb 20, 2019 12:59 IST
Cabinet approves Promulgation of Banning of Unregulated Deposit Schemes Ordinance, 2019
Cabinet approves Promulgation of Banning of Unregulated Deposit Schemes Ordinance, 2019

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 19 फरवरी 2019 को अनियमित जमा योजना प्रतिबंध विधेयक-2019 को अध्यादेश के माध्यम से लागू किए जाने के निर्णय को मंजूरी दे दी. इस विधेयक का उद्देश्य निवेशकों को पोंजी योजनाओं से बचाना है.

लोकसभा में बजट सत्र के आखिरी दिन ध्वनिमत से इस विधेयक को पारित कर दिया गया था, लेकिन यह राज्यसभा में पारित नहीं कराया जा सका. मंत्रिमंडल ने राष्ट्रपति से अनुरोध किया कि वह इस विधेयक को अध्यादेश के तौर पर लागू करने की मंजूरी प्रदान करें. इस विधेयक में ऐसे निवेशकों को मुआवजा देने का प्रावधान है. इसे वित्त पर संसद की स्थायी समिति की सिफारिशों के आधार पर तैयार किया गया है.

संसद में 18 जुलाई 2018 को अनियमित जमा योजनाओं पर प्रतिबंध लगाने संबंधी विधेयक-2018 को पेश किया गया था और इसे स्‍थायी वित्‍त समिति के सुपुर्द कर दिया गया था.

पोंजी स्कीम क्या है?

पोंजी स्कीम से मतलब ऐसे फर्जी निवेश ऑपरेशन से है, जिसमें ऑपरेटर पुराने निवेशकों को रिटर्न नए निवेशकों से प्राप्त धनराशि से देता है. यह ऐसी स्कीम होती है जिसमें वास्तव में कोई कारोबार या किसी व्यवसायिक गतिविधि में पैसा नहीं लगाया जाता, बल्कि कुछ व्यक्तियों से पैसा इकठ्ठा कर एक व्यक्ति को रिटर्न के रूप में दे दिया जाता है. इस तरह यह एक चेन बन जाती है जिसमें ज्यादातर लोगों का पैसा डूब जाता है. इटली का एक व्यवसायी चा‌र्ल्स पोंजी ऐसी ही स्कीम चलाकर लोगों का पैसा हजम करता था. इसी के नाम पर पोंजी स्कीम का नामकरण हुआ.

महत्व:

आधिकारिक संशोधन देश में गतिविधियों को ले रहे अवैध जमा के खतरे से प्रभावी रूप से निपटने के लिए विधेयक को मजबूत करेंगे, और सारदा चिट फंड स्कीम जैसी योजनाओं को गरीब लोगों को उनकी मेहनत की बचत से धोखा देने से रोकेंगे. इस आधिकारिक संशोधन से जमा-गतिविधियों के खतरे से प्रभावी ढंग से निपटने हेतु इसका उद्देश्य मजबूत होता है. देश और ऐसी योजनाओं को गरीबों और गरीब लोगों को उनकी मेहनत की बचत से धोखा देने से रोकता हैं.

अनियमित जमा योजनाओं के प्रतिबंध के प्रावधान विधेयक 2018:

   विधेयक में एक प्रतिबंध खंड है जिसमें जमाकर्ताओं को किसी भी अनियमित जमा योजना में पदोन्नति, संचालन, विज्ञापन जारी करने या जमा स्वीकार करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. बिल ने गैरकानूनी रूप से जमा गतिविधियों को पूरी तरह से बंद कर, उन्हें एक अपराध बना दिया.

•   यह तीन अलग-अलग प्रकार के अपराध हैं, अर्थात्, अनियमित जमा योजनाओं को चलाना, विनियमित जमा योजनाओं में धोखाधड़ी डिफ़ॉल्ट, और अनियमित जमा योजनाओं के संबंध में गलत अभियोग.

   यह कठोर सजा और भारी जुर्माना लगाने का प्रावधान करता है.

   इसमें ऐसे मामलों में जमाओं के पुनर्भुगतान के लिए पर्याप्त प्रावधान हैं जहां ऐसी योजनाएं अवैध रूप से जमाराशियों का प्रबंधन करती हैं.

   यह सक्षम प्राधिकारी द्वारा संपत्तियों या संपत्तियों की कुर्की और जमाकर्ताओं को पुनर्भुगतान के लिए संपत्ति की प्राप्ति के बाद प्रदान करता है.

   यह संपत्ति की कुर्की और जमाकर्ताओं को पुनर्स्थापना के लिए स्पष्ट-कट समय लाइनें प्रदान करता है.

   यह देश में जमा करने वाली गतिविधियों के बारे में जानकारी एकत्र करने और साझा करने के लिए एक ऑनलाइन डेटाबेस बनाने में सक्षम बनाता है.

   यह राज्य सरकारों को कानून के प्रावधानों को लागू करने की प्राथमिक जिम्मेदारी सौंपते हुए राज्य के कानूनों से सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाता है.

   यह इस तरह से "जमा" को परिभाषित करता है कि जमाकर्ताओं को जमाकर्ताओं को रसीदों के रूप में छिपाने से प्रतिबंधित किया जाता है.

विधेयक में क्या संशोधन हुए?

आरबीआई द्वारा प्रदान की गई जानकारी के अनुसार, जुलाई 2014 और मई 2018 के दौरान, विभिन्न राज्यों में राज्य स्तरीय समन्वय समिति की बैठकों में अनधिकृत योजनाओं के 978 मामलों पर चर्चा की गई थी.

इसके बाद, बजट भाषण 2017-18 में वित्त मंत्री ने घोषणा की थी कि अवैध जमा योजनाओं के खतरे को कम करने के लिए मसौदा विधेयक को सार्वजनिक डोमेन में रखा गया था और इसके अंतिम रूप देने के तुरंत बाद पेश किया जाएगा.

देश में अवैध जमा योजनाओं के खतरे से निपटने के लिए अनियमित जमा योजना विधेयक, 2018 पर प्रतिबंध लगाना एक व्यापक कानून प्रदान करता है.

 

यह भी पढ़ें: आरबीआई ने सरकार को 28,000 करोड़ रुपये का अंतरिम लाभांश देने की घोषणा की

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS

Related Stories

Monthly Current Affairs PDF

  • Current Affairs PDF September 2021
  • Current Affairs PDF August 2021
  • Current Affairs PDF July 2021
  • Current Affairs PDF June 2021
  • Current Affairs PDF May 2021
  • Current Affairs PDF April 2021
  • Current Affairs PDF March 2021
View all

Monthly Current Affairs Quiz PDF

  • Current Affairs Quiz PDF September 2021
  • Current Affairs Quiz PDF August 2021
  • Current Affairs Quiz PDF July 2021
  • Current Affairs Quiz PDF June 2021
  • Current Affairs Quiz PDF May 2021
  • Current Affairs Quiz PDF April 2021
  • Current Affairs Quiz PDF March 2021
View all
Comment (0)

Post Comment

3 + 4 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.
    Whatsapp IconGet Updates

    Just Now