Search

सुरेश प्रभु ने 'रीयुनाईट' मोबाइल एप्प लॉन्च किया

इस एप को विकसित करने के लिए स्वयंसेवी संगठन ‘बचपन बचाओ आंदोलन’ और ‘कैपजेमिनी’ने मिलकर काम किया है . इस एप के माध्यम से माता-पिता बच्चों की तस्वीरें, बच्चों के विवरण जैसे नाम, पता, जन्म चिन्ह आदि अपलोड कर सकते हैं.

Jun 30, 2018 09:22 IST

केंद्रीय वाणिज्य व उद्योग तथा नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने एक मोबाइल एप लांच किया. इस एप का नाम ‘रीयूनाईट’ (ReUnite) है. यह एप भारत में खोए हुए बच्चों का पता लगाने में सहायता प्रदान करेगा.

इस अवसर पर अपने संबोधन में सुरेश प्रभु ने इस एप को विकसित करने के लिए स्वयंसेवी संगठन ‘बचपन बचाओ आंदोलन’ और ‘कैपजेमिनी’ की सराहना की.

यह एप खोए हुए बच्चों को उनके माता-पिता से मिलाने के प्रयास तथा तकनीक से सही उपयोग को दर्शाता है. यह एप जीवन से जुड़ी सामाजिक चुनौतियों से निपटने में मदद करेगा।

रीयूनाईट (ReUnite) एप

•    इस एप के माध्यम से माता-पिता बच्चों की तस्वीरें, बच्चों के विवरण जैसे नाम, पता, जन्म चिन्ह आदि अपलोड कर सकते हैं.

•    इससे अभिभावक पुलिस स्टेशन को रिपोर्ट भी कर सकते हैं तथा खोए बच्चों की पहचान कर सकते हैं.

•    खोए हुए बच्चों की पहचान करने के लिए एमेजन रिकोगनिशन, वेब आधारित फेशियल रिगोगनिशन जैसी सेवाओं का उपयोग किया जा रहा है.

•    यह एप एंड्राएड और आईओएस दोनों ही प्लेटफार्म पर उपलब्ध है.

बचपन बचाओ आंदोलन के बारे में


बच्चों की सुरक्षा के संदर्भ में बचपन बचाओ आंदोलन (बीबीए) भारत का सबसे बड़ा आंदोलन है. बीबीए ने बच्चों के अधिकारों के संरक्षण से संबंधित कानून निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है. यह आंदोलन वर्ष 2006 के निठारी मामले से शुरू हुआ है. इस अवसर पर नोबल पुरस्कार विजेता और बचपन बचाओ आंदोलन के संस्थापक कैलाश सत्यार्थी भी उपस्थित थे.

 

यह भी पढ़ें: राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने ‘सौर चरखा मिशन’ लॉन्च किया