पाकिस्तान के इस शहर ने किया दुनिया का सबसे ज्यादा तापमान दर्ज

यह जैकोबाबाद शहर कर्क रेखा पर स्थित है. गर्मियों के मौसम के दौरान, भीषण गर्मी की लहरें, लगभग 200,000 लोगों की आबादी वाले इस शहर को अपने घरों के भीतर रहने के लिए मजबूर कर देती हैं.

Created On: Jul 2, 2021 14:15 ISTModified On: Jul 2, 2021 14:23 IST

गर्मियों के मौसम में पाकिस्तान के सिंध प्रांत के जैकोबाबाद शहर में दुनिया का सबसे अधिक तापमान, लगभग 52 डिग्री सेल्सियस (126 फ़ारेनहाइट) तक दर्ज किया जाता है.

यह शहर कर्क रेखा पर स्थित है, जिसका अर्थ है कि ग्रीष्मकाल के दौरान सूर्य इस शहर के निकट होता है. इस शहर में अत्यधिक गर्म ग्रीष्मकाल और हल्की सर्दियों के साथ एक गर्म रेगिस्तानी जलवायु है.

प्रत्येक वर्ष गर्मियों के मौसम में भीषण गर्मी के दौरान, लगभग 200,000 लोगों की आबादी वाला यह शहर अपने घरों के भीतर रहने के लिए मजबूर हो जाता है.

यह शहर ऐसे रिकॉर्ड-उच्च तापमान से कैसे बचता है?

स्थानीय लोगों के अनुसार, लोग अपने घरों से बाहर नहीं निकलते हैं और तापमान 50 डिग्री सेल्सियस से अधिक हो जाने पर सड़कें ज्यादातर सुनसान रहती हैं. शहर के अधिकांश अस्पताल हीटस्ट्रोक के मामलों से भरे रहते हैं, खासकर ऐसे लोगों से, जिनकी आजीविका उन्हें चिलचिलाती गर्मी में बाहर निकलने के लिए मजबूर करती है.

उच्चतम दर्ज तापमान

जैकोबाबाद में उच्चतम दर्ज तापमान 52.8 डिग्री सेल्सियस (127.0 डिग्री फारेनहाइट) है. इस शहर का न्यूनतम तापमान -3.9 डिग्री सेल्सियस (25.0 डिग्री फारेनहाइट) दर्ज किया गया है. यहां सबसे अधिक तापमान आमतौर पर मई के महीने में दर्ज किया जाता है.

जैकोबाबाद ने घातक 35C गीले बल्ब की सीमा को किया पार

• लॉफबोरो विश्वविद्यालय में जलवायु विज्ञान के लेक्चरर, मैथ्यूज ने अपने सहयोगियों के साथ पिछले साल वैश्विक मौसम स्टेशन डाटा का विश्लेषण किया था और यह पाया कि, संयुक्त अरब अमीरात में दुबई के उत्तर-पूर्व में एक शहर, रास अल खैमाह और पाकिस्तान का यह शहर जैकोबाबाद, ये दोनों ही अस्थायी रूप से इस घातक दहलीज को पार कर गए हैं.
• शोधकर्ताओं ने यह महसूस किया कि, एक गीले बल्ब जो 35C का तापमान प्रदर्शित करता है, इस स्थिति के आने पर, मानव शरीर अब पसीने से खुद को ठंडा नहीं कर सकता है और ऐसा तापमान, यहां तक कि सबसे योग्य लोगों के लिए भी, कुछ घंटों में ही घातक साबित हो सकता है,.
• कृषि केंद्र जैकबाबाद ने पहली बार जुलाई, 1987 में फिर जून, 2005 और  जून, 2010 और फिर जुलाई, 2012 में 35 डिग्री सेल्सियस गीले बल्ब की सीमा को पार किया.
• हर बार, गीले बल्ब की सीमा को केवल कुछ घंटों के लिए ही पार किया गया है, लेकिन जून, 2010 व जून, 2001 और जुलाई, 2012 में तीन दिन का औसत तापमान लगभग 34C दर्ज किया गया था. गर्मियों में सूखे बल्ब का तापमान अक्सर 50C से अधिक तक पहुंच जाता है.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Related Stories

Post Comment

4 + 3 =
Post

Comments

    Whatsapp IconGet Updates

    Just Now