ब्रिटेन के मोटर मार्गों पर चलेंगी सेल्फ-ड्राइविंग कारें, बना दुनिया का ऐसा पहला देश

ब्रिटेन के परिवहन मंत्रालय ने यह बताया है कि, यह सेल्फ-ड्राइविंग व्हीकल सिस्टम्स के सुरक्षित उपयोग के लिए देश के राजमार्ग कोड को अपडेट करने के लिए विशिष्ट शब्दों पर काम कर रहा है.

Created On: May 1, 2021 14:41 ISTModified On: May 1, 2021 14:42 IST

यूनाइटेड किंगडम 28 अप्रैल, 2021 को दुनिया का पहला ऐसा देश बन गया है, जिसकी सरकार ने यह घोषणा कर दी है कि, वह अपने मोटर मार्गों पर धीमी गति से सेल्फ-ड्राइविंग कारों के उपयोग को नियमित करेगा. इस किस्म के पहले वाहन वर्ष, 2021 में सार्वजनिक सड़कों पर अपना प्रदर्शन कर सकते हैं.

ब्रिटेन के परिवहन मंत्रालय ने यह भी बताया कि, यह स्वचालित लेन कीपिंग सिस्टम - ALKS - के साथ शुरू होगा जो लेन के भीतर कारों को रखने के लिए सॉफ्टवेयर और सेंसर का उपयोग करता है और उन्हें बिना ड्राइवर इनपुट के ब्रेक लगाने और अपने गति बढ़ाने की अनुमति देता है.

ब्रिटेन सरकार के अनुसार, ALKS का उपयोग मोटर मार्गों तक सीमित रहेगा. इन वाहनों की अधिकतम गति 37 मील (60 किमी) प्रति घंटे होनी चाहिए.

यूके की योजना है ऑटोनोमस ड्राइविंग टेक्नोलॉजी में सबसे आगे निकलना

ब्रिटेन सरकार की योजना ऑटोनोमस ड्राइविंग तकनीक को क्रियान्वित करने में सबसे आगे रहना है. परिवहन मंत्रालय के पूर्वानुमान के अनुसार, वर्ष, 2035 तक नई यूके कारों में से लगभग 40% में सेल्फ-ड्राइविंग क्षमताएं हो सकती हैं, जो 38,000 नई कुशल नौकरियों का निर्माण करेंगी.

कार उद्योग लॉबी समूह की सोसाइटी ऑफ मोटर मैन्युफैक्चरर्स एंड ट्रेडर्स के CEO, माइक हेस ने एक बयान में यह उल्लेख किया है कि, ऑटोमोटिव उद्योग ने सड़कों पर स्वचालित वाहनों के उपयोग की अनुमति देने वाले इस महत्वपूर्ण कदम का स्वागत किया है.

सेल्फ-ड्राइविंग कारों के साथ जुड़ी है यह समस्या

भले ही ब्रिटेन में कई क्षेत्रों द्वारा इस निर्णय का स्वागत किया गया हो, वहां की बीमा कंपनियों ने यह चेतावनी दी है कि, सेल्फ-ड्राइविंग कारों को अपनाने में अग्रणी बनने का ब्रिटेन का लक्ष्य गलत हो सकता है जब तक कि, नियामक और वाहन निर्माता उपलब्ध तकनीक की वर्तमान सीमाओं को ठीक से नहीं समझते हैं.

बीमा कंपनियों के अनुसार, ALKS को 'स्वचालित' कहने से या फिर, सेल्फ-ड्राइविंग जैसे समानार्थी शब्द का उपयोग करने से ड्राइवरों को यह भ्रम हो जाएगा कि, ये कारें स्वयं ड्राइविंग कर सकती हैं. यह दुर्घटनाओं का एक बड़ा कारण बन सकता है और इस टेक्नोलॉजी के खिलाफ सार्वजनिक विरोध का जोखिम भी बन सकता है.

सेल्फ-ड्राइविंग कारों के मुद्दे पर अमेरिका झेल रहा है समस्याएं

इस टेक्नोलॉजी की सीमाओं को गलत समझने वाले ड्राइवरों के संबंध में खतरा कुछ ऐसा है जो संयुक्त राज्य में चिंता का एक मुद्दा रहा है.

अमेरिका में नियामक ऐसे 20 क्रैश/ एक्सीडेंट्स की समीक्षा कर रहे हैं जिनमें टेस्ला के ड्राइवर सहायता टूल्स जैसेकि, इसका ‘ऑटोपायलट’ सिस्टम शामिल है.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Post Comment

1 + 1 =
Post

Comments

    Whatsapp IconGet Updates

    Just Now