Search

विद्युत मंत्री आरके सिंह ने बिजली भुगतानों में पारदर्शिता लाने हेतु वेब पोर्टल लांच किया

May 30, 2018 12:33 IST
1

विद्युत राज्यमंत्री मंत्री आरके सिंह ने उत्पादकों को बिजली भुगतानों में पारदर्शिता लाने के लिए 29 मई 2018 को प्राप्ति ऐप तथा वेब पोर्टल लांच किया.

भुगतान पुष्टि और उत्पादकों के चालान में पारदर्शिता लाने के लिए बिजली खरीद विश्लेषण www.praapti.in, लांच किया गया.

प्राप्ति ऐप तथा वेब पोर्टल की मुख्य विशेषताएं:

  • प्राप्ति ऐप तथा वेब पोर्टल बिजली खरीद में बिजली उत्पादकों और बिजली वितरण कंपनियों के बीच पारदर्शिता लाने के लिए विकसित किया गया है.
  • यह ऐप और वेब पोर्टल बिजली उत्पादकों से विभिन्न दीर्घकालिक बिजली खरीद समझौतों के लिए चालान और भुगतान डाटा कैप्चर करेंगे.
  • CA eBook

  • इससे हितधारकों को बिजली खरीद के मामले में वितरण कंपनियों की बकाया राशि का मासिक और पारम्परिक आंकड़ा प्राप्त करने में मदद मिलेगी.
  • पोर्टल विभिन्न बिजली उत्पादक कंपनियों को भुगतान सहजता के बारे में विभिन्न राज्यों की बिजली वितरण कंपनियों के तुलनात्मक मूल्यांकन में मदद देगा
  • यह ऐप यूजरों को बिजली वितरण कंपनियों द्वारा बिजली उत्पादक कंपनी को किए गए भुगतानों से संबंधित ब्यौरा जानने की इजाजत देता है. इससे यह जानकारी भी मिल जाएगी कि भुगतान कब किए गए.
  • प्राप्ति ऐप से उपभोक्ताओं को भी सहायता मिलेगी. उपभोक्ता बिजली उत्पादक कंपनियों को किए गए भुगतान के संदर्भ में बिजली वितरण कंपनियों के वित्तीय कार्य-प्रदर्शन का मूल्यांकन कर सकेंगे.
  • पोर्टल बकाया भुगतानों के बारे में बिजली वितरण कंपनियों और उत्पादक कंपनियों के बीच सुलह कराने में भी मददगार साबित होगा.

                                                     डिस्कॉम द्वारा भुगतान करने में आसानी

Source: www.praapti.in

प्राप्ति ऐप तथा वेब पोर्टल बिजली खरीद में बिजली उत्पादकों और बिजली वितरण कंपनियों के बीच पारदर्शिता लाने के लिए विकसित किया गया है. डिस्कॉम द्वारा विभिन्न कंपनियों को 'भुगतान करने में आसानी’ होगा और बिजली क्षेत्र में लेनदेन को और अधिक पारदर्शी बनाने में भी मदद करेगा.

 

 
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK