आतंकवादी खतरों से मुकाबले के लिए संयुक्त राष्ट्र ने किया वैश्विक कार्यक्रम शुरू

असुरक्षित लक्ष्यों के खिलाफ आतंकवादी खतरों का मुकाबला करने और संयुक्त राष्ट्र के सदस्य राज्यों को इस संकट से निपटने में मदद करने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने शुरू किया है यह वैश्विक कार्यक्रम.

Created On: Jan 21, 2021 16:37 ISTModified On: Jan 21, 2021 16:39 IST

असुरक्षित लक्ष्यों के खिलाफ आतंकवादी खतरों का मुकाबला करने और संयुक्त राष्ट्र के सदस्य राज्यों को इस संकट से निपटने में मदद करने के लिए संयुक्त राष्ट्र के आतंकवाद-रोधी कार्यालय - UNOCT ने कई अन्य एजेंसियों के साथ साझेदारी करके, एक वैश्विक कार्यक्रम शुरू किया है.

संयुक्त राष्ट्र के अंडरसेक्रेटरी-जनरल के अनुसार, व्लादिमीर वोरोन्कोवोव, जो संयुक्त राष्ट्र के आतंकवाद-रोधी कार्यालय के प्रमुख हैं, दुनिया भर में आतंकवादियों ने कायरता से बार-बार सार्वजनिक स्थानों को निशाना बनाया है और अराजकता और भय पैदा करने के लिए बड़े पैमाने पर लोगों की हत्यायें भी की गई हैं.

संयुक्त राष्ट्र द्वारा यह कार्यक्रम संयुक्त राष्ट्र अलायन्स ऑफ़ सिविलाइज़ेशन्ज़ और  संयुक्त राष्ट्र के अंतर्राज्यीय अपराध और न्याय अनुसंधान संस्थान के साथ साझेदारी में शुरू किया गया है. यह इंटरपोल और संयुक्त राष्ट्र आतंकवाद-रोधी समिति के कार्यकारी निदेशालय के परामर्श से भी संचालित हो रहा है.

यह वैश्विक कार्यक्रम संयुक्त राष्ट्र के सदस्य राज्यों की मदद कैसे करेगा?

• संयुक्त राष्ट्र द्वारा शुरू किया गया यह कार्यक्रम कमजोर लक्ष्यों के खिलाफ आतंकवादी हमलों की प्रतिक्रिया, मुकाबला करने, सुरक्षित करने और ऐसे हमले रोकने के लिए एक सहयोगी दृष्टिकोण के विकास के लिए सदस्य राष्ट्रों को विशेष सहायता प्रदान करेगा.
• ऐसे सहयोगात्मक दृष्टिकोणों को लागू करने के लिए, यह लाभकारी सदस्य राज्यों को रूपरेखा, राष्ट्रीय कार्य योजनाओं और संचालन प्रक्रियाओं के विकास में सहायता करेगा.
• सदस्य देशों की जोखिम प्रबंधन क्षमता बढ़ाने के लिए यह कार्यक्रम निगरानी सेवायें प्रदान करेगा, सदस्य देशों को उनके अनुरूप संचालन प्रशिक्षण देगा और इसके साथ ही जरूरी परामर्श सेवायें भी प्रदान करेगा.
• संयुक्त राष्ट्र कार्यक्रम अच्छी प्रथाओं को अपनायेगा और प्रसारित भी करेगा.

संयुक्त राष्ट्र का आतंकवाद विरोधी एजेंडा

संयुक्त राष्ट्र द्वारा शुरू किया गया यह वैश्विक कार्यक्रम भी इसके आतंकवाद-रोधी एजेंडा के मूल उद्देश्य को दर्शाता है, जिसके माध्यम से यह सुनिश्चित किया जाता है कि नागरिकों को बिना किसी भय के और सुरक्षित रूप से अपने दैनिक-जीवन में अपने सामाजिक-आर्थिक अधिकारों और मौलिक स्वतंत्रता का उपयोग करना चाहिए.

इस कार्यक्रम के शुभारंभ के लिए आयोजित किये गये एक आभासी समारोह के दौरान, वोरोन्कोव ने यह भी उल्लेख किया कि, वर्ष, 2011 के बाद से शहरी केंद्रों में आतंकवादी हत्याएं तेजी से बढ़ी हैं.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Whatsapp IconGet Updates

Just Now