मिस्र में मिली 3,000 साल पुरानी ‘लॉस्ट गोल्डन सिटी’, यहां पढ़ें महत्त्वपूर्ण जानकारी

वर्ष, 1922 में तूतनखामुन की कब्र के बाद से इस खोज को दूसरी सबसे महत्वपूर्ण खोज माना जा रहा है. आइये जानते हैं कि यह खोज इतनी महत्वपूर्ण क्यों है?

Created On: Apr 16, 2021 17:15 ISTModified On: Apr 16, 2021 17:17 IST

मिस्र के पर्यटन और पुरावशेष मंत्रालय ने 08 अप्रैल, 2021 को ‘लॉस्ट गोल्डन सिटी’ की खोज की घोषणा की है, जो पिछले 3,000 वर्षों से मिस्र की राजधानी लक्सर की रेत के नीचे दफन थी.

लगभग तीन साल पहले राजा तूतनखामुन के मकबरे की खोज के बाद से इस तीन-सदियों पुराने शहर को पुरातत्वविदों ने सबसे महत्वपूर्ण खोज के तौर पर पहचाना है.

‘लॉस्ट गोल्डन सिटी, जिसे ‘दी राइज़ ऑफ एटन’ के नाम से भी जाना जाता है, राजा अमेनहोटेप III (1391 - 1353 ईसा पूर्व) द्वारा शासित युग का प्रमुख नगर था. वे राजा तूतनखामुन के दादा थे. तूतनखामुन के शासनकाल तक यह शहर सक्रिय था. लेकिन अभिलेख (रिकार्ड्स) यह भी बताते हैं कि राजा अमेनहोटेप III के पुत्र राजा अमेनहोटेप IV (जिन्होंने बाद में अपना नाम बदलकर अखेनातन कर लिया था), अपने शासनकाल के दौरान, अपनी शाही पत्नी नेफ़र्टिटी के साथ, इस स्वर्ण नगरी को छोड़कर अमारना चले गए थे. इसलिए, ऐसे सवाल हैं कि क्या अमेनहोटेप IV के बेटे तूतनखामुन ने परित्यक्त स्वर्ण नगरी को फिर से बसा दिया था.

सितंबर, 2020 में पुरातत्वविदों ने राजा तुतनखामुन के मुर्दाघर के मंदिर की खुदाई की थी. टीम को खुदाई के अंत में मैडब्रिक फॉर्मेशन मिली, जो वह पुरातन शहर था, जिसे 'द राइज ऑफ एटन' के नाम से जाना जाता है.

लॉस्ट गोल्डन सिटीकी खोज के मुख्य निष्कर्ष

• पुरातत्वविद ज़हीहॉवसलेड ने 'गोल्डन सिटी' की खुदाई की. वे पुरात्व मामलों के पूर्व राज्य मंत्री हैं.
• खोजे गए इस शहर को 'द राइज़ ऑफ़ एटन' के नाम से जाना जाता है. इस शहर का नाम सूर्य के लिए मिस्र की भाषा के शब्द 'एटन' पर रखा गया था. यह मिस्र में पाया जाने वाला अब तक का सबसे बड़ा शहर है.
• वर्ष, 1922 में तूतनखामुन की कब्र के बाद से इस खोज को दूसरी सबसे महत्वपूर्ण खोज माना जा रहा है. 
• यह शहर, नील नदी के पश्चिमी तट पर स्थित है, यह शहर राजा अमेनहोटेप III (1391 - 1353 ईसा पूर्व) द्वारा शासित युग में बसा हुआ था. वे राजा तूतनखामुन के दादा थे.

इस शहर की खोज क्यों महत्वपूर्ण है?

यह खोज ‘लॉस्ट गोल्डन सिटी’, प्राचीन मिस्रवासियों के जीवन और साम्राज्य के युग के बारे में महत्त्वपूर्ण जानकारी प्रदान करेगी.

इस खोज से यह भी पता लगने की आशा की जा सकती है कि, ‘दी राइज़ ऑफ़ एटन’ को, राजा तुतनखामुन के पिता और राजा अमेनहोटेप IV (अखेनटेन) द्वारा त्याग दिए जाने के बाद, राजा तुतनखामुन द्वारा फिर से बसाया गया था.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Post Comment

4 + 1 =
Post

Comments

    Whatsapp IconGet Updates

    Just Now