Search
  1. Home
  2. GENERAL KNOWLEDGE
  3. घटनाचक्र
View in English

घटनाचक्र

  • भारत - पूर्व एशिया

    अक्टूबर 2010 में प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने तीन देशों- जापान, मलेशिया व वियतनाम की यात्रा की। पिछले दो दशकों से भारत ने अपनी चिर-परिचित लुक ईस्ट पॉलिसी के तहत दक्षिण-पूर्व एशिया व पूर्वी एशियाई देशों के साथ व्यापारिक संबंधों को नया आयाम देने का पूरा प्रयास किया है।

    Jul 28, 2011
  • भारत-बांग्लादेश: नरम गरम रिश्ते

    बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने 10-13 जनवरी, 2010 तक भारत की यात्रा की। उनकी यह यात्रा कई मायनों में ऐतिहासिक रही। शेख हसीना 6 जनवरी, 2010 को ही देश की प्रधानमंत्री बनी थीं।

    Jul 28, 2011
  • भारत - चीन: द ग्रेट वाल

    भारतीय राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल 27 मई, 2010 को छह दिनों की चीन यात्रा पर राजधानी बीजिंग पहुंची। वहां पहुंचने पर उनका पर्पल लाइट पवेलियन में प्रधानमंत्री बेन जियाबाओ ने स्वागत किया।

    Jul 28, 2011
  • भारत - रूस: नई ऊंचाइयों की ओर

    रूस के प्रधानमंत्री व्लादीमिर पुतिन ने 11 मार्च, 2010 को एक दिन की भारत यात्रा की। भारत की स्वतंत्रता के समय से ही दोनों देशों के संबंध अत्यंत मधुर रहे हैं, हालांकि सोवियत संघ के विखंडन के बाद से दोनों देशों ने एक बार फिर से अपने रिश्तों को पुनब्र्याख्यायित किया है।

    Jul 28, 2011
  • महिला आरक्षण बिल

    पिछले 14 वर्र्षों से केंद्र की सत्ता में काबिज कई सरकारों ने लोकसभा और राज्य विधानसभाओं में महिलाओं के लिए 33 आरक्षण देने संबंधी महिला आरक्षण बिल पास कराने का प्रयत्न किया, लेकिन इसमें उन्हें सफलता नहीं मिल सकी थी।

    Jul 28, 2011
  • जनगणना-2011

    भारत में प्रत्येक दस वर्र्षों के अंतराल में जनगणना का काम होता है। भारतीय जनगणना-2011 के लिए देश के समस्त निवासियों की गणना का कार्य 1 अप्रैल, 2010 से आरंभ हो गया। ऐसी आशा की जा सकती है कि मार्च 2011 तक देश की कुल जनसंख्या के नए अनुमान प्राप्त हो जाएंगे।

    Jul 28, 2011
  • रामजन्मभूमि पर अदालत का ऐतिहासिक फैसला

    30 सितंबर, 2010 को इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने अपने एक ऐतिहासिक फैसले में अयोध्या के विवादित स्थल को रामजन्मभूमि घोषित कर दिया। हाईकोर्ट ने बहुमत से फैसला दिया कि विवादित भूमि जिसे रामजन्मभूमि माना जाता रहा है, उसे हिंदुओं के रामजन्मभूमि न्यास को सौंप दिया जाए।

    Jul 28, 2011
  • भारत-अमेरिका

    अमेरिका से भारत में काफी राशि प्रत्यक्ष निवेश के रूप में मिलती है। 1991 से 2004 के मध्य अमेरिका से भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का अंतप्र्रवाह कुल 4.13 अरब अमेरिकी डॉलर का रहा। वाणिज्य: सं. रा. अमेरिका, भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है।

    Jul 27, 2011
  • बराक ओबामा की भारत यात्रा

    अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 5-9 नवंबर, 2010 को भारत की बहुप्रतीक्षित यात्रा की। ओबामा की यह यात्रा कई मायने में महत्वपूर्ण थी। जनवरी 2009 में अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद से ही भारत-अमेरिकी संबंधों में संशय का वातावरण बन रहा था।

    Jul 27, 2011
  • रेलवे

    भारतीय रेलवे दुनिया के सबसे बड़े रेल तंत्रों में से एक है। भारतीय रेल को सबसे बड़े रोजगारप्रदाता होने का सम्मान भी प्राप्त है। लगभग 15 लाख कर्मचारी विभिन्न पदों पर वर्तमान में कार्यरत हैं।

    Jul 27, 2011
  • सिविल सर्विसेज में चमकदार कॅरियर

    देश की सारी सरकारी नौकरियों में सिविल सर्विसेज को सबसे प्रतिष्ठित माना जाता है। इसे इसलिए भी सरकारी नौकरियों में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है कि इसमें इज्जत के साथ पैसा भी है और साथ ही सुविधाओं, ताकत व इज्जत भी मिलती हैं जो युवा वर्ग को अपनी ओर खींचती हैं।

    Jul 27, 2011
  • सिविल सेवा परीक्षा

    सिविल सेवा देश की सबसे प्रतिष्ठत सेवा मानी जाती है। इसमें नियुक्ति के लिए संघ लोकसेवा आयोग (यूपीएससी) हर वर्ष अखिल भारतीय स्तर पर परीक्षा का आयोजन करता है। इस परीक्षा के आधार पर ही आईएएस, आईपीएस, आईएफएस तथा एलायड सर्विसेज के क्लास वन अधिकारी चुने जाते हैं।

    Jul 27, 2011
  • बैकिंग

    सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में नौकरियां करने के इच्छुक युवाओं के लिए हाल का समय काफी खुशनुमा रहा है। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने अगले तीन साल के दौरान 85,000 नई नियुक्तियां करने की योजना बनाई है।

    Jul 27, 2011
  • आर्म्ड फोर्सेस

    आम्र्ड फोर्सेज में करियर बनाना प्रतिष्ठा व गरिमा की बात तो होती है, लेकिन इसकी राहें बहुत ही कठिन है। यही कारण है कि इसमें उन्हीं युवाओं को वरीयता दी जाती है, जो शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ होने के साथ ही जोश से भरे हुए हों और देश के लिए कुछ कर गुजरने का जज्बा उनके अंदर हो।

    Jul 27, 2011
  • टीचिंग वर्ल्ड

    दुनिया भर में जब हर सेक्टर में मंदी का रोना रोया जा रहा था, एक क्षेत्र ऐसा भी रहा है जिसमें जीनियस लोगों की बड़े पैमाने पर जरूरत लगातार बनी रही। यह क्षेत्र पढऩे-पढ़ाने यानी अध्यापन के क्षेत्र से जुड़ा हुआ है।

    Jul 27, 2011