Search
  1. Home |
  2. पर्यावरण और पारिस्थितिकीय

पर्यावरण और पारिस्थितिकीय

Also Read in : English

भारत के वृक्षवाटिकाओ (Sacred Groves) की सूची

Aug 17, 2017
भारतीय संस्कृति में माना जाता है कि पेड़ों में मनुष्यों की तरह जीवन है जो हमारी तरह दर्द और खुशी को महसूस करते हैं इसलिए पेड़ और उनके उत्पाद हमारे अनुष्ठानों और समारोहों का एक विशिष्ट हिस्सा हैं। भारत अपने विविधता के लिए जाना जाता है जिसमे पवित्र वनस्पतियों और पशुवर्ग की विविधता के महत्वपूर्ण भंडार हैं जो स्थानिये समुदायों द्वारा संरक्षित हैं। हम यहाँ भारत के वृक्षवाटिकाओ (Sacred Groves) की सूची दे रहे हैं, जिसका प्रयोग विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में अध्ययन सामग्री के रूप में किया जा सकता है।

Latest Videos

भारत में वन्यजीव संरक्षण के लिए कौन-कौन से कदम उठाए गए हैं?

Jun 13, 2017
प्रकृति और अन्य वन्यजीव प्रजातियों के महत्व को पहचानने के लिए वन्यजीवों का संरक्षण आवश्यक है। लुप्तप्राय पौधों और जानवरों की प्रजातियों को उनके प्राकृतिक निवास स्थान के साथ रक्षा करना भी ज़रूरी है।सबसे प्रमुख चिंता का विषय यह है कि वन्यजीवों के निवासस्थान की सुरक्षा किस प्रकार की जाए ताकि भविष्य में वन्यजीवों की पीढ़ियां और यहां तक की इंसान भी इसका आनंद ले सकें. यह लेख वन्यजीवों के संरक्षण के लिए आवश्यक चरणों से संबंधित है।

जैव विविधता संरक्षण पर सारांश

Jun 6, 2017
जैव विविधता का आशय जीनो, जातियों एवं पारितंत्रो की समग्रता हैl जैव विविधता शब्द का प्रयोग पहली बार आर. एफ दसमान ने 1968 में किया थाl इसकी सामाजिक प्रासंगिकता इसलिए है क्योंकि नई फसलें हो या औषधियाँ, पेट्रोलियम स्थानापन्न तथा जैव नाशको एवं अन्य उत्पादों के रूप में संपत्ति के शक्तिशाली स्रोत का प्रतिनिधत्व करता हैl जैव विविधता के संरक्षण की आवश्यकता वाले मुख्य कारकों के बारे में इस लेख में चर्चा की गई हैl

भारत के किस राज्य में गाय की कौन सी प्रजातियां पाई जाती हैं

Jun 5, 2017
भारत की अर्थव्यवस्था मुख्यतः कृषि और पशुपालन पर आधारित है, जिसमें दूध उत्पादन की महत्वपूर्ण भूमिका है। भारत में लगभग 146.31 मिलियन टन दूध का वार्षिक उत्पादन होता है l यहां, हम भारत में पायी जाने वाली गायों की विभिन्न प्रजातियो की सूची दे रहे हैंl

जानें सौर्य ऊर्जा संयंत्र लगवाने पर सरकार कितनी सब्सिडी देती है

May 29, 2017
यदि आप हर महीने आने वाले भारी-भरकम बिजली के बिल से तंग आ चुके हैं, तो सौर ऊर्जा संयंत्र आपके लिए सबसे बेहतर विकल्पी है. लोगों की बढती ऊर्जा जरूरतों को देखते हुए सरकार द्वारा छतों पर सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने के लिए सब्सिडी दी जा रही है. इस लेख में हम इस बात का उल्लेख कर रहें हैं कि सौर ऊर्जा संयंत्र लगवाने पर सरकार कितनी सब्सिडी दे रही है और किन प्रक्रियाओं के तहत आप सौर ऊर्जा संयंत्र लगवा सकते हैं.

बीएस 3 एवं बीएस 4 वाहनों में अन्तर

Apr 3, 2017
सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार 1 अप्रैल 2017 से भारत में बीएस-3 इंजन वाले वाहनों की बिक्री पर रोक लगा दी गई है तथा 1 अप्रैल से देश में केवल बीएस-4 इंजन वाले वाहन ही बनाये और बेचे जाएंगेl वास्तव में बीएस का अर्थ "भारत स्टेज" है और इससे वाहनों से होने वाले प्रदूषण का पता चलता हैl बीएस के जरिए ही भारत सरकार वाहनों के इंजन से निकलने वाले धुएं से होने वाले प्रदूषण को मापती हैl बीएस मानक सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड तय करता है। देश में चलने वाले हर वाहन के लिए बीएस का मानक जरूरी हैl इस लेख में बीएस-3 इंजन वाले वाहनों और बीएस-4 इंजन वाले वाहनों तथा इन वाहनों से होने वाले प्रदुषण के स्तर में अन्तर का विवरण दे रहे हैंl

बीएस-3 क्या है और भारत में इसे कब लागू किया गया था

Mar 31, 2017
सर्वोच्च न्यायालय द्वारा 1 अप्रैल से बीएस-3 वाहनों पर प्रतिबंध के बाद दो पहिया वाहन की खरीद पर विभिन्न कम्पनियों द्वारा ताबड़तोड़ छूट दी जा रही हैl हालांकि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और देश के कुछ और शहरों में बीएस-4 उत्सर्जन मानक वाले वाहनों का परिचालन पहले से ही लागू हैl लेकिन क्या आपको पता है कि बीएस-3 या बीएस-4 उत्सर्जन मानक क्या है और यह भारत में कब से लागू हैं? इस लेख में हम भारत स्टेज उत्सर्जन मानक (BSES) के बारे में विस्तारपूर्वक विवरण दे रहे हैं जिससे इसके बारे में आपकी समझ और भी विकसित होगीl

अर्थ आवर (Earth Hour) क्या है और यह हमारे लिए क्यों महत्वपूर्ण है

Mar 24, 2017
पिछले कुछ दिनों से समाचार-पत्रों, पत्रिकाओं, विभिन्न टीवी चैनलों और इंटरनेट पर अर्थ ऑवर (Earth Hour) की चर्चा चल रही हैl जिसके कारण हर किसी के मन में यह उत्सुकता हो सकती है कि अर्थ ऑवर (Earth Hour) क्या है और किस कारण से यह इतनी चर्चा में है? इस लेख में हम यही जानने की कोशिश कर रहे है कि आखिर यह अर्थ ऑवर (Earth Hour) क्या है और यह किस प्रकार हमारे लिए महत्वपूर्ण है?

ग्रीन मफलर क्या है और यह प्रदूषण से किस प्रकार संबंधित है

Mar 15, 2017
ग्रीन मफलर अधिक आबादी वाले या ध्वनि प्रदूषण वाले क्षेत्रों में 4-6 पंक्तियों में वृक्षारोपण कर ध्वनि प्रदूषण को कम करने की एक तकनीक हैl इस लेख में जानने की कोशिश करते हैं कि ग्रीन मफलर योजना क्या है, पेड़ों को ध्वनि प्रतिरोधक के रूप में क्यों जाना जाता है और ध्वनि प्रदूषण को कम करने में पेड़ कैसे मदद करते हैंl

पर्यावरण रसायन विज्ञान

Feb 28, 2017
पर्यावरण प्रदूषण रासायनिक पदार्थ या ऊर्जा, जैसे कि शोर, गर्मी या प्रकाश की तरह से हो सकता है। पर्यावरण रसायन विज्ञान वातावरण में स्रोतों, प्रतिक्रियाओं, परिवहन, प्रभाव, और रसायनों की चेतावनी और इन पर मानव और जैविक गतिविधियों के प्रभाव को परिभाषित करने का ही अध्ययन है| इस लेख में वायु प्रदूषण, प्रमुख प्राथमिक प्रदूषक और प्रमुख माध्यमिक प्रदूषक के बारे में अध्ययन करेंगे |

जानें दुनिया का सबसे बड़ा सौर ऊर्जा संयंत्र कहाँ स्थित है

Feb 22, 2017
वर्तमान समय में पूरी दुनिया ग्लोबल वार्मिंग के खतरे से जूझ रही है| अतः पूरी दुनिया के तमाम वैज्ञानिक ऊर्जा के गैर-परमम्परागत स्रोत के उपयोग को बढ़ावा दे रहे हैं, जिसके कारण दुनिया के विभिन्न देशों में सौर ऊर्जा के निर्माण के लिए नए-नए सौर ऊर्जा संयंत्रो (solar plants) को स्थापित किया जा रहा है| इस लेख में हम हाल ही में शुरू किए गए दुनिया के सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र का विवरण दे रहे हैं|

किस भारतीय शहर में वायु प्रदूषण का स्तर सबसे खतरनाक है?

Jan 12, 2017
भारत में हर साल वायु प्रदूषण के कारण लगभग 12 लाख लोगों की मौत हो जाती है। कई राज्यों के प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड से मिली जानकारियों के आधार पर ग्रीनपीस द्वारा बनाई गई रिपोर्ट भारत में वायु प्रदूषण के संबंध में बेहद भयावह स्थिति की ओर इशारा कर रही है। इस लेख में हम भारत के सबसे प्रदूषित शहर एवं उसके कारणों का विवरण दे रहे हैं|

भारत में पायी जाने वाली मृदाएं

Nov 23, 2016
मृदा शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के शब्द सोलम (Solum) से हुई है | जिसका अर्थ है फर्श (floor) | मृदा, पृथ्वी को एक पतले आवरण के रूप में ढके रहती है | भारत में सबसे अधिक (43.4%) भूभाग पर जलोढ़ मिट्टी पायी जाती है और अन्य मिट्टियों में काली मिट्टी, लाल मिट्टी और लैटराइट मिट्टी पायी जाती है |

याक "ग्रूटिंग ऑक्स": एक नजर तथ्यों पर

Aug 26, 2016
याक दो प्रकार के होते हैं: घरेलू और जंगली। घरेलू याक छोटे होते हैं और इनके शरीर पर घने बाल होते हैं और शायद इनकी उत्पत्ति जंगली तिब्बती याक से हुई थी। घरेलू याक का इस्तेमाल यात्रा और समान ढोने वाले जानवरों के रूप में किया जाता है। याक को उसके दूध, मांस, ऊन और गोबर के लिए मूल्यवान माना जाता है। जंगली याक को सबसे ज्यादा खतरा और नुकसान शिकारियों से रहता है। उनकी वर्तमान स्थिति "असुरक्षित" (vulnerable) है। जंगली नर याक का वजन 2200 पाउंड तक होता है और इसकी ऊंचाई 6.5 फुट होती है। मादा याक की ऊंचाई नर याक की तुलना में एक-तिहाई होती है।

काला हिरण या कृष्णमृग (भारतीय मृग): एक नज़र तथ्यों पर

Aug 22, 2016
काले हिरन (एंटीलोप सेरवीकप्रा) को भारतीय मृग अथवा हिरन के रूप में भी जाना जाता है। इसकी ऊंचाई 74 से 84 सेमी. तक होती है। नर हिरन का वजन 20-57 किलोग्राम होता है जबकि मादा हिरन का वजन औसतन 20-33 किलोग्राम होता है। यह 50 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से भाग सकता है। इसका जीवन काल 10 से 15 वर्ष तक होता है।

क्या आप दुनिया के 10 सबसे पुराने पेड़ों के बारे में जानते हैं?

Aug 2, 2016
इस दुनिया में पेड़ों का अस्तित्व मानव सभ्यता के अस्तित्व से भी पहले का है | वर्तमान में भी पेड़ों के बिना मानव सभ्यता के अस्तित्व की कल्पना भी नही की जा सकती है | इन पेड़ों ने कई सभ्यताओं की उत्पत्ति और विनाश को देखा है | इस दुनिया में कुछ पेड़ ऐसे भी हैं जो 10000 सालों से अपने अस्तित्व को बनाये हुए हैं | आइये हम ऐसे ही 10 सबसे पुराने पेड़ों के बारे में कुछ जानकारी अर्जित करते हैं |

IUCN रेड डाटा बुक का क्या महत्व है?

Jul 25, 2016
आईयूसीएन लाल सूची (1964 में स्थापित) एक राज्य या देश की सीमा के भीतर पशु, कवक और पादप प्रजातियों की मौजूदगी के बारे में सबसे विस्तृत रिपोर्ट देती है | अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (IUCN) विश्व-स्तर पर विभिन्न जातियों की संरक्षण-स्थिति पर निगरानी रखने वाला सर्वोच्च संगठन है।

भारत में गंभीर रूप से संकटग्रस्त (Critically Endangered)10 पक्षी प्रजातियों की सूची

Jul 21, 2016
अंतरराष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (IUCN) ने 2013 के लिए भारत में देखी जाने वाली पक्षियों की दस प्रजातियों को गंभीर रूप से संकटग्रस्त प्रजातियों की सूची में शामिल किया है। इनमें ग्रेट साइबेरियन क्रेन, गोडावण (Indian Bustard), सफेद पीठ वाला गिद्ध, लाल– सिर वाला गिद्ध, जंगली उल्लू और सफेद पेट वाला बगुला आदि शामिल हैं।

साइबेरियन क्रेन या स्नो क्रेनः तथ्यों पर एक नजर

Jul 21, 2016
साइबेरियन क्रेन (Leucogeranus leucogeranus) साइबेरियन ह्वाइट क्रेन या स्नो क्रेन (हिम सारस) के नाम से भी जाने जाते हैं। साइबेरियन क्रेन करीब– करीब बर्फ जैसे सफेद होते हैं, सिवाए उनके काले प्राथमिक पंख जो उड़ने के दौरान दिखाई देते हैं | इनकी आबादी पश्चिमी एवं पूर्वी रूस के आर्कटिक टुंड्रा में मिलती है।

हिम तेंदुआः महत्वपूर्ण तथ्यों पर एक नजर

Jul 21, 2016
हिम तेंदुआ (पैंथेरा अनिसया सिंक. अनिसया) एक बड़ी बिल्ली है जो मध्य और दक्षिण एशिया के पहाड़ी क्षेत्र में पाई जाती है। यह IUCN की लाल सूची में विलुप्तप्राय प्रजातियों में सूचिबद्ध है। वर्ष 2013 में लगाए गए अनुमानों के अनुसार इन तेंदुओं की वैश्विक आबादी 4,080 से 6,590 के बीच थी। ये तेंदुए 30 फीट तक छलांग लगा सकते हैं।
LibraryLibrary