Search
  1. Home |
  2. इतिहास |
  3. भारतीय इतिहास |
  4. मध्यकालीन भारत |
  5. प्रांतीय राज्यों का उदय

प्रांतीय राज्यों का उदय

Also Read in : English

राजपूत वंश के दौरान सामाजिक और सांस्कृतिक विकास

Nov 6, 2015
‘राजपूत’ शब्द संस्कृत के ‘राज-पुत्र’ शब्द से लिया गया है जिसका मतलब “एक राजा का पुत्र” होता है। राजपूत अपने साहस, ईमानदारी और राजशाही के लिए जाने जाते थे ।ये वो योद्धा थे जो युद्ध मे लड़े और प्रशासनिक क्रियाओं का भी ध्यान रखा। राजपूतों का उदय पश्चिमी, पूर्वी, उत्तरी भारत और पाकिस्तान के कुछ हिस्सो से हुआ था। छठवीं शताब्दी से बारहवीं शताब्दी तक राजपूत विख्यात थे। राजपूतों ने बीसवीं शताब्दी तक राजस्थान और सौराष्ट्र के शानदार राज्यों मे पूर्ण बहुमत मे शासन किया।

Latest Videos

विजयनगर साम्राज्य के सम्राट या शासक

Sep 25, 2015
दक्षिण भारत में मुस्लिम वर्चस्व को निशाना बनाकर विजयनगर एक ऐसे शक्तिशाली साम्राज्य के रूप में उभर कर सामने आया जिसमें कई महान शासकों ने शासन किया था। 15 वीं शताब्दी के आसपास साम्राज्य में आयी गिरावट को कृष्णदेव राय के नेतृत्व में कंमाडर सलुव नरसिंह देव राय और जनरल तुलुव नरस नायक द्वारा फिर से संगठित किया गया। साम्राज्य का पतन तब शुरू हुआ जब उसे उत्तरी गठबंधन के क्रोध का सामना करना पड़ा था। साम्राज्य के अंतिम शासक, श्रीरंग प्रथम और वेंकट द्वितीय थे जिनके उत्तराधिकारी राम देव राय और वेंकट तृतीय तब तक बने रहे जब तक सामंतों ने अपनी स्वतंत्रता की घोषणा नहीं की थी।
LibraryLibrary