Search
  1. Home
  2. GENERAL KNOWLEDGE
  3. विज्ञान
  4. ब्रम्हांड
View in English

ब्रम्हांड

  • EMISAT क्या है और इसे लाँच करने के क्या उद्येश्य हैं?

    भारत ने इलेक्ट्रॉनिक इंटेलिजेंस सैटेलाइट EMISAT को सन सिंक्रोनस पोलर ऑर्बिट में सफलतापूर्वक प्रक्षेपित कर दिया है. EMISAT का फुल फॉर्म "इलेक्ट्रॉनिक इंटेलिजेंस सैटेलाइट" है. इसे इसरो और डीआरडीओ ने मिलकर बनाया है. इलेक्ट्रॉनिक इंटेलिजेंस उपग्रह एमिसैट को पीएसएलवी C-45 लांच व्हीकल की मदद से इसरो ने श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से लॉन्‍च किया है.

    Apr 2, 2019
  • जानें ISRO भारतीय रेलवे को कैसे सुरक्षा प्रदान करेगा?

    ISRO अपने इंडियन रीजनल नैविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (IRNSS) या नेविगेशन सिस्टम नाविक (NaVIC) का उपयोग कर रहा है, जिससे भारतीय रेलवे और इसरो के बीच संयुक्त सहयोग की सहायता से रेलवे मानव रहित फाटकों पर हो रहीं दुर्घटनाओं को रोका जा सकेगा. यह लेख भारतीय रेलवे सुरक्षा के लिए इसरो द्वारा उपयोग किए जाने वाले सैटेलाइट सिस्टम से संबंधित है, यह सिस्टम किस प्रकार से सुरक्षा प्रदान करेगा, IRNSS और NaVIC प्रणाली क्या है आदि.

    Apr 2, 2019
  • चिनूक हेलीकॉप्टर के बारे में 10 रोचक तथ्य

    CH-47 चिनूक हेलीकॉप्टर भारतीय वायुसेना में शामिल एक उन्नत बहु-मिशन हेलीकॉप्टर है. यह उच्च ऊंचाई तक भारी पेलोड पहुंचा सकता है और उच्च हिमालय में परिचालन के लिए अनुकूल है. इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह सैन्य और HADR मिशनों में भारत की क्षमताओं को बढ़ाएगा. आइये इस लेख के माध्यम से CH-47 चिनूक हेलीकॉप्टर के बारे में 10 रोचक तथ्यों पर अध्ययन करते हैं.

    Mar 27, 2019
  • चीन का Chang'e 4: चांद की दूसरी सतह पर पहुंचने वाला विश्व का पहला spacecraft

    चीन के चांग'ई 4 मिशन को दिसंबर 2018 में चंद्रमा के पिछली तरफ या दूसरी सतह पर लॉन्च किया गया था और इस मिशन को एक ऐतिहासिक सफलता भी मिली. चंग'ई 4 अंतरिक्ष यान चांद के पिछली तरफ उतरने वाला दुनिया का पहला अंतरिक्ष यान बन गया है. आइए इस लेख के माध्यम से चंग'ई 4 अंतरिक्ष यान के बारे में, क्यों और कैसे इसे चंद्रमा के दूसरी ओर भेजा गया, क्यों चंद्रमा का पिछला हिस्सा पृथ्वी से दिखाई नहीं देता है, अब तक कितने मून मिशन लॉन्च किए जा चुके हैं इत्यादि.

    Jan 7, 2019
  • GSAT 11 उपग्रह को भारत से लॉन्च क्यों नहीं किया गया?

    क्या आप GSAT 11 उपग्रह की विशेषताओं के बारे में जानते हैं, ये बाकी उपग्रहों से क्यों अलग है और इसको फ्रेंच गुयाना के एरियानेस्पेस के एरियाने-5 रॉकेट से क्यों लॉन्च किया गया, भारत से क्यों नहीं. आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं.

    Dec 7, 2018
  • जानें Super Blue Blood Moon के बारे में

    सुपर मून (Super Moon) तब होता है जब चंद्रमा और धरती के बीच में दूरी सबसे कम हो जाती है. इससे पृथ्वी, चंद्रमा और सूर्य के बीच में आ जाती है, जिसके बाद चांद की चमक काफी ज्यादा होती है और दूसरी तरफ जब चंद्रग्रहण के दौरान चंद्रमा सुर्ख लाला हो जाता है तो को ब्लड मून (Blood Moon) कहलाता है. आइये इस लेख के माध्यम से Super Blue Blood Moon के बारे में अध्ययन करते हैं.

    Dec 7, 2018
  • हवाई जहाज का ब्लैक बॉक्स क्या होता है और यह कैसे काम करता है?

    हवाई जहाज का ब्लैक बॉक्स या फ्लाइट डाटा रिकॉर्डर, विमान में उड़ान के दौरान विमान से जुडी सभी तरह की गतिविधियों जैसे विमान की दिशा, ऊँचाई (altitude) , ईंधन, गति (speed), हलचल (turbulence), केबिन का तापमान इत्यादि सहित 88 प्रकार के आंकड़ों के बारे में 25 घंटों से अधिक की रिकार्डेड जानकारी एकत्रित रखता है| इन सूचनाओं के विश्लेषण द्वारा विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के बारे में जानकारी मिलती है |

    Oct 30, 2018
  • स्पेस स्टेशन क्या है और दुनिया में कितने स्पेस स्टेशन पृथ्वी की कक्षा में हैं?

    अंतरिक्ष में स्पेस स्टेशन इसलिए बनाया गया है ताकि वैज्ञानिक लंबे समय तक अंतरिक्ष में काम कर सकें. क्या आप जानते हैं कि स्पेस स्टेशन कैसे काम करता है और दुनिया में कितने स्पेस स्टेशन कार्य कर रहे हैं. आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं.

    Oct 16, 2018
  • पीएसएलवी सी-40 के बारे में 10 रोचक तथ्य

    विश्व के सर्वाधिक विश्वसनीय प्रमोचन वाहनों में से एक ध्रुवीय उपग्रह प्रमोचन वाहन (पीएसएलवी) है. यह 20 वर्षों से भी अधिक समय से अपनी सेवाएं उपलब्ध करा रहा है. आइये इस लेख के माध्यम से पीएसएलवी सी-40 के बारे में कुछ रोचक तथ्यों पर अध्ययन करते हैं.

    Feb 9, 2018
  • बैलगाड़ी एवं साइकिल द्वारा रॉकेट ढ़ोने से लेकर इसरो का अबतक का सफरनामा

    इसरो (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) का अब तक का सफर काबिल-ए-तारीफ है। एक समय ऐसा भी था जब संसाधनों की कमी की वजह से रॉकेटों को बैलगाड़ी से जाया गया था। इसके अलावा भारत के पहले रॉकेट के लांच के समय भारतीय वैज्ञानिक हर रोज तिरूवंतपूरम से बसों में आते थे और रेलवे स्टेशन से दोपहर का खाना खाते थे। साथ ही पहले रॉकेट के कुछ हिस्सों को साइकिल पर भी ले जाया गया था। इस लेख में हम इसरो के सफरनामा और उपलब्धियों का विस्तृत विवरण दे रहे हैं|

    Feb 9, 2018
  • ऐसे परमाणु मिसाइल जिनसे भारत चीन को टारगेट कर सकता है

    भारत अपने परमाणु हथियारों को आधुनिक बनाता जा रहा है. भारत अब एक ऐसी मिसाइल विकसित कर रहा है जो दक्षिण भारत में अपने सभी अड्डों से चीन को लक्षित कर सकता है. इस लेख में ऐसी मिसाइलों की सूची दी गई है जिससे यह पता चलता है कि कौन सी मिसाइलों की मदद से भारत चीन को टारगेट कर सकता हैं.

    Jul 13, 2017
  • मंगल ग्रह या लाल ग्रह के बारे में 21 रोचक तथ्य

    मंगल ग्रह को फेरिक आक्साइड की उपस्थिति के कारण ‘लाल ग्रह’ भी कहा जाता है. भारत का प्रथम मंगल अभियान 5 नवम्बर 2013 को सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से छोड़ा गया था. इसके साथ ही भारत दुनिया का पहला ऐसा देश बन गया है जिसने पहले ही प्रयास में अपना मंगल अभियान पूरा कर लिया है. यह ग्रह मनुष्य के रहने योग्य नही है क्योंकि यहाँ का औसत तापमान -55 डिग्री सेल्सीयस होता है.

    Jun 6, 2017
  • ऐसे 8 काम जो आप पृथ्वी पर कर सकते हैं लेकिन अन्तरिक्ष में नही

    अन्तरिक्ष की दुनिया के बारे में जानने को हर बच्चे से लेकर व्यस्क तक उत्साहित रहते हैl हर किसी के मन में अन्तरिक्ष की दुनिया को लेकर कई तरह के प्रश्न होते हैं कि अन्तरिक्ष में लोग कैसे रहते हैं, क्या खाते हैं और कैसे सोते हैंl इस लेख में हमने उन कामों के बारे में बताया है जो कि प्रथ्वी पर तो बहुत ही आसानी से किये जा सकते हैं लेकिन अन्तरिक्ष में करना लगभग नामुमकिन सा होता है l

    Mar 28, 2017
  • दुनिया की 13 प्रसिद्ध महिला अंतरिक्षयात्रियों की सूची

    जुलाई 2016 तक कुल 537 व्यक्ति अंतरिक्ष की यात्रा कर चुके थेl इन 537 व्यक्तियों में महिलाओं की संख्या 60 थीl इन 60 महिलाओं में से अमेरिका की 45 महिलाएं, सोवियत संघ/रूस की 4 महिलाएं, कनाडा, चीन और जापान में से प्रत्येक की 2 महिलाएं और फ्रांस, भारत, इटली, दक्षिण कोरिया और ब्रिटेन में से प्रत्येक देश की एक महिला शामिल हैंl अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में हम इस लेख में दुनिया के 13 प्रसिद्ध महिला अंतरिक्षयात्रियों का विवरण दे रहे हैंl

    Mar 7, 2017
  • क्या आप जानतें हैं कि 20 छोटे चांदों से मिलकर बना है अपना चांद

    सौर मंडल के अन्य ग्रहों की तुलना में, हमारा एकमात्र चमकता हुआ ग्रह चंद्र है। चांद की उत्पत्ति हमेशा से ही रहस्यों से भरी रही है | वैज्ञानिक कई समय से लगातार इससे जुड़े रहस्यों का पता लगा रहें है और इसी क्रम मे इसरायल के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि मौजूदा चांद की उत्पत्ति 20 छोटे चांदों से हुई है | इस आर्टिकल में हम कुछ इन तथ्यों पर नज़र डालेंगे |

    Jan 12, 2017