1. Home
  2. GENERAL KNOWLEDGE
  3. अर्थव्यवस्था
  4. भारतीय अर्थव्यवस्था
  5. भारतीय अर्थव्यवस्था के आयाम

भारतीय अर्थव्यवस्था के आयाम

View in English
  • भारत के 3 कौन से राज्य हैं जिनकी G.D.P. भारत के अन्य 26 राज्यों के बराबर है?

    फोर्ब्स की रिपोर्ट ने भारत की अर्थव्यवस्था के आकार को रु. 153 ट्रिलियन का माना है और यदि इसको रु.66.6/डॉलर के हिसाब से देखा जाये तो अर्थव्यवस्था का आकार 2.30 ट्रिलियन डॉलर का हो जाता हैl भारत के तीन सबसे समृद्ध राज्यों की अर्थव्यवस्था के आकार को देखा जाये तो ये भारत के 26 राज्यों की G.D.P. के बराबर का योगदान भारत की अर्थव्यवस्था में देते हैं l

    Apr 13, 2017
  • भारत की अर्थव्यवस्था के बारे में 11 रोचक तथ्य

    इस समय भारत की अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर पूरी दुनिया में सबसे अधिक है और अब यह दुनिया की 7वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गई है इसमें सबसे बड़ा योगदान सेवा क्षेत्र का है जबकि कृषि क्षेत्र का योगदान हर साल घटता जा रहा है| वर्तमान में भारत की प्रति व्यक्ति आय 92,231 रुपये प्रति वर्ष हो गई है |

    Feb 16, 2017
  • भारत की कृषि अर्थव्यवस्था का अवलोकन

    जैसा कि हम जानते हैं कि भारत एक कृषि प्रधान अर्थव्यवस्था है। इसकी लगभग 55% जनसंख्या इस क्षेत्र में कार्यरत है। कृषि का भारतीय अर्थव्यस्था के सकल घरेलू उत्पाद में लगभग 14% योगदान है। लेकिन लगातार हमारी अर्थव्यवस्था में कृषि का योगदान घट रहा है। 1950 के दशक में हमारी अर्थव्यवस्था में कृषि का योगदान 53% प्रतिशत होता था जो वर्तमान में करीब 14% रह गया है। देश में निर्यात के क्षेत्र में कृषि का 10% हिस्सा है। देश की 1.26 अरब आबादी की खाद्य सुरक्षा कृषि पर निर्भर है।

    Mar 29, 2016
  • दुग्ध से सम्बन्धित तथ्य

    भारत की 70% जनसंख्या ग्रामीण है तथा 53% लोग कृषि व्यवसाय से जुड़े हुए हैं। करीब 7 करोड़ कृषक परिवारों में प्रत्येक 2 ग्रामीण घरों में से 1 डेरी उद्योग से जुड़ा है। भारत पूरी दुनिया का सबसे बड़ा दुग्ध उत्पादक देश है|

    Nov 28, 2016
  • 2014 से अब तक वर्तमान NDA सरकार ने भारतीय अर्थव्यवस्था को कितना बदला है?

    भारत आज पूरी दुनिया में सबसे तेजी से विकास करती अर्थव्यवस्था बन चुका है और इसकी अर्थव्यवस्था का आकार 2.54 लाख करोड़ का हो चुका है जो कि इसे पूरी दुनिया में 7वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था का ख़िताब दिलाता है. इस लेख में हमने भारत की अर्थव्यवस्था में सन 2013-14 से 2016-17 तक अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में हुए परिवर्तनों के बारे में बताया है.

    Jun 7, 2017
  • GST 2017: सबसे सस्ती वस्तुओं की सूची

    भारत सरकार के नये फैसले का आधार पर 1 जुलाई से पूरे भारत में वस्तु एवं सेवा कर लगाया जायेगा. इस नये कर कानून के लागू होने के बाद व्यापारियों को कर में छूट सिर्फ नये उत्पादों पर ही मिलेगी इसलिए उत्पादक/कम्पनियाँ/विक्रेता (मॉल, खुदरा व्यापारी, थोक व्यापारी) सभी एक जुलाई के पहले अपने पुराने स्टॉक को ख़त्म करने के लिए विभिन्न उत्पादों पर भारी छूट दे रहे हैं.

    Jun 29, 2017
  • भारत में पायी जाने वाली मृदाएं

    मृदा शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के शब्द सोलम (Solum) से हुई है | जिसका अर्थ है फर्श (floor) | मृदा, पृथ्वी को एक पतले आवरण के रूप में ढके रहती है | भारत में सबसे अधिक (43.4%) भूभाग पर जलोढ़ मिट्टी पायी जाती है और अन्य मिट्टियों में काली मिट्टी, लाल मिट्टी और लैटराइट मिट्टी पायी जाती है |

    Nov 23, 2016
  • सेरीकल्चर (रेशम कीट पालन)

    कच्चा रेशम बनाने के लिये रेशम के कीटों का पालन रेशम उत्पादन (Sericulture) या 'रेशमकीट पालन' कहलाता है। विश्व में रेशम का प्रचलन सर्वप्रथम चीन में हुआ था | चीन प्राकृतिक रेशम उत्पादन में विश्व में पहले नम्बर पर है इसके बाद भारत का नंबर आता है| भारत में हर प्रजाति का रेशम पैदा किया जाता है |

    Nov 25, 2016
  • भारत में आधार कार्ड के बिना कौन सी सेवाओं का उपयोग नहीं किया जा सकता?

    वर्तमान मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार के खात्मे के लिए अपनी प्रतिबद्धता जाहिर करते हुए जोरदार पहल करते हुए सामान्य लोगों की रोजमर्रा की जिंदगी से जुडी 6 सेवाओं जैसे ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, एलपीजी कनेक्‍शन, इनकम टैक्‍स रिटर्न, रेलवे टिकट बुकिंग और पासपोर्ट को 1 जुलाई से आधार कार्ड से जोड़ने का फैसला किया है l

    Mar 28, 2017
  • भारत में GST के लागू होने से चीन को क्या नुकसान होगा

    चीन की सस्ती वस्तुएं भारत में बहुत बड़ी मात्रा में बेचीं जातीं हैं. ये वस्तुएं इतनी सस्ती होतीं हैं कि भारत के निर्माता इन चीनी निर्माताओं का मुकाबला नही कर पाते हैं. लेकिन GST लागू होने के बाद चीन के लिए मुसीबत पैदा होने वाली है क्योंकि अभी चीनी वस्तुएं एक प्रदेश से दूसरे प्रदेश में बिना किसी कर को चुकाए और रजिस्ट्रेशन किये भेजी जा सकतीं हैं लेकिन GST लागू होने के बाद ऐसा नही हो पायेगा.

    Oct 24, 2017
  • कृषि और ग्रामीण विकास के लिए नीतियां: एक अवलोकन

    कृषि उत्पादन और उत्पादकता को बढ़ाने हेतु राज्यों के प्रयासों में सुधार और दक्षता लाने के लिए 2008 में कृषि मैक्रो मैनेजमेंट (एमएमए) 2008 में संशोधन किया गया। किसानो को अधिक खाद्यान्न के उत्पादन के लिए प्रेरित करने हेतु केंद्र सरकार ने 1966-1967 से न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP Policy) नीति की शुरूआत की है । यह नीति प्रत्येक फसल के लिए किसानों को न्यूनतम मूल्य की गारंटी देती है। दूसरी ओर, सरकार ने ग्रामीण गरीबों के लिए महात्मा गांधी ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा), सार्वजनिक वितरण प्रणाली (PDS) जैसी योजनाओं की शुरूआत की है।

    May 4, 2016
  • सार्वजनिक वितरण प्रणाली (PDS) का अवलोकन

    सार्वजनिक वितरण प्रणाली (PDS) का अर्थ सस्ती कीमतों पर खाद्य और खाद्यान्न वितरण के प्रबंधन की व्यवस्था करना है। गेहूं, चावल, चीनी और मिट्टी के तेल जैसे प्रमुख खाद्यान्नों को इस योजना के माध्यम से सार्वजनिक वितरण की दुकानों द्वारा पूरे देश में पहुंचाया जाता है। इस योजना का संचालन उपभोक्ता मामलों, खाद्य और सार्वजनिक वितरण के मंत्रालय द्वारा किया जाता है। इस योजना का मुख्य मकसद सस्ती दरों पर देश के कमजोर वर्ग को खाद्यान्न उपलब्ध कराना है।

    May 4, 2016
  • भारतीय कृषि के बारे में 10 महत्वपूर्ण तथ्य

    कृषि अनादि कल से भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ रही है, आज भी है और उम्मीद है आगे भी रहेगी | सरकार का मुख्य ध्यान अब अर्थव्यवस्था में विनिर्माण क्षेत्र के हिस्से को वर्तमान के16% से बढाकर 25% करना है | यह बात सर्वविदित है कि विनिर्माण क्षेत्र का विकास कृषि के बिना नही होगा | इस लेख में आप भारतीय अर्थव्यवस्था से जुड़े 10 जरूरी तथ्यों के बारे में पढेंगे|

    Dec 9, 2016
  • भारत में विद्युत उत्पादन के श्रोत क्या हैं ?

    वर्ष 2015-16 के दौरान देश के कुल बिजली उत्पादन में वृद्धि हुई है। 2014-15 के दौरान यह 1048.673 BU* था जो 2015-16 के दौरान बढकर 1107.386 BU* हो गया। श्रेणी वार बिजली उत्पादन का वर्णन इस प्रकार है: - थर्मल में 7.45% की वृद्धि, हाइड्रो में 6.09% की कमी और परमाणु ऊर्जा में 3.63% की वृद्धि हुई। भारत में बिजली के समग्र उत्पादन में थर्मल पावर का योगदान 68 फीसदी रहा है।

    Aug 19, 2016
  • कीट विज्ञान क्या होता है?

    यह विज्ञान, जंतु विज्ञान या प्राणिविज्ञान का वह अंग है जिसके अंतर्गत कीटों अथवा षट्पादों का अध्ययन आता है। षट्पाद (षट्=छह, पाद=पैर) श्रेणी को ही कभी-कभी कीट की संज्ञा दी जाती हैं। जंतु जगत में 20 संघ है जिनमे आर्थोपोडा सबसे बड़ा है जिनका शरीर सिर, वृक्ष और उदर में विभक्त होता है | सामान्य तौर पर इस संघ के कीटों में तीन जोड़ा पैर और पंख पाये जाते हैं|

    Nov 28, 2016
Jagran Play
रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश
ludo_expresssnakes_ladderLudo miniCricket smash

Just Now