Search
  1. Home
  2. GENERAL KNOWLEDGE
  3. भारत दर्शन
  4. भारत के राज्य
View in English

भारत के राज्य

  • भारत में लोकसभा और विधानसभा चुनाव के लिए राज्यवार खर्च की सीमा

    चुनाव में धन के प्रभाव को कम करने के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने बड़े राज्यों में लोक सभा चुनावों में खर्च की अधिकतम सीमा 70 लाख रुपये और छोटे राज्यों में 54 लाख रुपये कर दी है. विधान सभा में चुनाव के लिए बड़े राज्यों में चुनाव खर्च की अधित्तम सीमा 28 लाख रुपये है. आइये इस लेख में जानते हैं कि किस राज्य में लोकसभा और विधानसभा चुनाव खर्च की सीमा कितनी है?

    Apr 18, 2019
  • भारत में EVM कहाँ बनायी जाती है और इसमें कितनी लागत आती है?

    इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (EVM) को चुनाव आयोग के तकनीकी विशेषज्ञ समिति (टीईसी) द्वारा दो सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों यानी इलेक्ट्रॉनिक कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड, हैदराबाद और भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, बैंगलोर के सहयोग से डिजाइन किया और बनाया जाता है. वर्तमान में एक M3 ईवीएम की लागत लगभग 17,000 रु. प्रति यूनिट है.

    Apr 17, 2019
  • जैन धर्म, महावीर की शिक्षाएं और जैन धर्म के प्रसार के कारणों का संक्षिप्त विवरण

    जैन धर्म ने गैर-धार्मिक विचारधारा के माध्यम से रूढ़िवादी धार्मिक प्रथाओं पर जबरदस्त प्रहार किया। जैन धर्म लोगों की सुविधा हेतु मोक्ष के एक सरल, लघु और सुगम रास्ते की वकालत करता है। यहाँ हम जैन धर्म, महावीर की शिक्षाएं और जैन धर्म के प्रसार के कारणों का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत कर रहे हैं जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

    Apr 17, 2019
  • जानें हर भारतीय के ऊपर कितना विदेशी कर्ज है?

    भारत का विदेशी ऋण स्टॉक मार्च 2016 के अंत में 485.6 बिलियन अमरीकी डॉलर था जो कि मार्च 2015 के 475 बिलियन अमरीकी डॉलर से 2.2 % या 10.6 बिलियन अमरीकी डॉलर बढ़ गया है l लेकिन यदि सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की नजर से देखा जाये तो 2015 में यह कर्ज GDP का 23.8% था जो कि 2016 में घटकर 23.7% रह गया है l

    Apr 17, 2019
  • गोवा के मुख्यमंत्रियों की सूची

    गोवा 19 दिसंबर 1961 को भारतीय गणतंत्र में मिलाया गया था. गोवा, दमन और दीव केंद्रशासित प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में 3 लोगों ने काम किया है. जब गोवा अलग राज्य बन गया तब कांग्रेस पार्टी के प्रताप सिंह राणे ने इस प्रदेश के सबसे पहले मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी. गोवा के गठन से अब तक 13 लोग गोवा के मुख्यमंत्री के रूप में काम कर चुके हैं.

    Mar 18, 2019
  • उत्तर प्रदेश के प्रमुख संग्रहालयों की सूची

    उत्तर प्रदेश सांस्कृतिक और भौगोलिक विविधता का प्रदेश है. यह प्रदेश भारत के सांस्कृतिक, राजनैतिक, शिक्षा, कृषि, पर्यटन और उद्योग के क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है. देश और प्रदेश की प्राचीन विरासत को भविष्य की पीढ़ी के लिए सहेजकर रखने के लिए प्रदेश में समय समय कई संग्रहालयों की स्थापना की गयी है. उत्तर प्रदेश में पहला संग्रहालय लखनऊ में 1863 में बना था.

    Mar 8, 2019
  • जम्मू एवं कश्मीर के संविधान की क्या विशेषताएं हैं?

    जम्मू एवं कश्मीर भारतीय गणतंत्र में शामिल एक मात्र ऐसा प्रदेश है जिसके पास अपना स्वयं का संविधान है और राष्ट्रीय झंडा है. इस प्रदेश में भारत का संविधान भी लागू होता है और यहाँ के स्थायी निवासियों को भारत के नागरिकों को मिलने वाले सभी अधिकार मिलते हैं. इस लेख में हम जम्मू एवं कश्मीर के संविधान की मुख्य विशेषताओं के बारे में जानेंगे.

    Mar 8, 2019
  • जानें क्या है आर्टिकल 370?

    आर्टिकल 370 को भारत के संविधान में शामिल किया गया था. यह आर्टिकल स्पष्ट रूप से कहता है कि रक्षा, विदेशी मामले और संचार के सभी मामलों में पहल भारत सरकार करेगी. इन प्रावधानों को 17 नवंबर 1952 से लागू किया गया था. आर्टिकल 370 के कारण जम्मू & कश्मीर का अपना संविधान है और इसका प्रशासन इसी के अनुसार चलाया जाता है ना कि भारत के संविधान के अनुसार.

    Mar 8, 2019
  • पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) के बारे में 15 रोचक तथ्य और इतिहास

    पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर भारत के जम्मू व कश्मीर राज्य का वह हिस्सा है जिस पर पाकिस्तान ने 1947 में हमला कर अधिकार कर लिया था. पाकिस्तान ने इसे प्रशासनिक रूप से दो हिस्सों में बांट रखा है, जिन्हें सरकारी भाषा में आज़ाद जम्मू-ओ-कश्मीर और गिलगित-बल्तिस्तान कहते हैं. पाकिस्तान में आज़ाद जम्मू-ओ-कश्मीर को केवल आज़ाद कश्मीर भी कहते हैं. यहाँ के लोगों मी जीविका का मुख्य साधन कृषि, पशुपालन, पर्यटन और कालीन उद्योग हैं.

    Mar 7, 2019
  • भारत के किन राज्यों में सीनियर सिटीजन को सबसे अधिक वृद्धावस्था पेंशन मिलती है?

    जनगणना 2011 के अनुसार भारत में करीब 104 मिलियन सीनियर सिटीजन्स (60 वर्ष या उससे अधिक उम्र के) हैं. इन सभी को वृद्धावस्था पेंशन मिलती नहीं मिलती है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इस समय देश में 3.5 करोड़ लोगों को वृद्धावस्था पेंशन योजना का लाभ मिल रहा है. देश में केरल, दिल्ली, पुदुचेरी और अंदमान के सीनियर सिटीजन्स को हर माह 2000 रुपये मिलते हैं.

    Jan 2, 2019
  • छत्तीसगढ़: एक नजर में

    छत्तीसगढ़ का गठन 1 नवम्बर, 2000 को पूर्वी मध्य प्रदेश के छत्तीसगढ़ी भाषा बोलने वाले 16 जिलों को अलग कर किया गया था। यह मध्य भारत में स्थित है और क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का दसवां सबसे बड़ा राज्य है जिसका क्षेत्रफल 136,904 वर्ग किमी. (52,199 वर्ग मील) है । जनसंख्या की दृष्टि से यह भारत का सोलहवां सबसे बड़ा राज्य है जिसकी कुल जनसंख्या 2.5 करोड़ है। यह लौह अयस्क व विद्युत् उत्पादन के मामले में भारत के अग्रणी राज्यों में से एक है । इसकी गणना भारत के सबसे तेजी से विकसित हो रहे राज्यों में की जाती है।

    Dec 13, 2018
  • बिहार का प्राचीन इतिहास

    बिहार का प्राचीन इतिहास का विस्तार मानव सभ्यता के आरंभ तक है। साथ ही यह सनातन धर्म के आगमन संबंधी मिथकों और किंवदंतियों से भी संबद्ध है। यहां, हम 'प्राचीन बिहार के इतिहास' पर पूर्ण अध्ययन सामग्री दे रहे हैं जो उम्मीदवारों को बीपीएससी और अन्य राज्य स्तर की परीक्षाओं जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल होने की राह को आसान कर देगा।

    Dec 6, 2018
  • भारत में 111 राष्ट्रीय जलमार्गों की सूची

    प्रधानमन्त्री मोदी द्वारा 12 नवंबर, 2018 को हल्दिया-वाराणसी राष्ट्रीय जलमार्ग -1 को चालू किया गया था. राष्ट्रीय जलमार्ग अधिनियम, 2016 के अंतर्गत भारत सरकार ने देश में राष्ट्रीय जलमार्ग (एनडब्ल्यू) के रूप में 111 जलमार्ग घोषित किए हैं. जलमार्ग के द्वारा परिवहन अन्य साधनों की तुलना में सस्ता पड़ता है. जलमार्गों के माध्यम से परिवहन की लागत लगभग प्रति टन 1.06 रुपये प्रति किलोमीटर है जबकि राजमार्ग के माध्यम से प्रति टन 2.5 रुपये प्रति किलोमीटर की लागत आती है.

    Nov 28, 2018
  • इनलैंड वॉटरवे टर्मिनल क्या है और इससे भारत को क्या फायदे होंगे?

    वाराणसी-हल्दिया नैशनल वॉटर-वे 1 देश का पहला इनलैंड वॉटरवे (नदी मार्ग) टर्मिनल है. इस टर्मिनल के माध्यम से 1620 किलोमीटर लंबे वॉटरवे से गंगा के जरिए वाराणसी से कोलकाता के हल्दिया के बीच माल ढुलाई आसान होगी. अर्थात इस जल मार्ग के माध्यम से अब मालवाहक जहाजों की मदद से सामान को लाने और ले जाने में आसानी होगी.

    Nov 15, 2018
  • अंडमान की जारवा जनजाति के बारे में 19 रोचक तथ्य

    जारवा जनजाति, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह की 6 आदिवासी जनजातियों में से एक है. जारवा जनजाति का सम्बन्ध नेग्रिटो समुदाय की जनजाति से है. वर्तमान में यह जनजाति मध्य अंडमान के पश्चिमी भाग और दक्षिण अंडमान के इलाके में रहती है. इस जनजाति का अस्तित्व पिछले 55 हजार सालों से बना हुआ है लेकिन अब इस जनजाति के केवल 380 लोग ही बचे हैं.

    Nov 5, 2018