मुद्रा और बैंकिंग

View in English
  • क्या मुद्रा स्फीति हमेशा ही अर्थव्यवस्था के लिए ख़राब होती है?

    मुद्रा स्फीति का मतलब बाजार में वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों में लगातार वृद्धि से होता हैं. मुद्रा स्फीति की स्थिति में मुद्रा की कीमत कम हो जाती है क्योंकि उपभोक्ताओं को बाजार में वस्तुएं खरीदने के लिए अधिक कीमत चुकानी पड़ती है. ऐसी स्थिति में यह सवाल उठता है कि क्या मुद्रा स्फीति सभी लोगों और अर्थव्यवस्था के लिए लाभकारी है या नही?

  • जानें भारत में 200, 500 और 2000 रुपये का एक नोट कितने रुपये में छपता है?

    भारत में नोट छापने का एकाधिकार यहाँ के केन्द्रीय बैंक अर्थात भारतीय रिज़र्व बैंक के पास है.  भारतीय रिज़र्व बैंक पूरे देश में एक रुपये के नोट को छोड़कर सभी मूल्यवर्गों (denominations) के नोट छापता है. रिज़र्व बैंक ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट में बताया है कि 200 रुपये के एक नोट को छापने की लागत 2.93 रुपए, 500 रुपये को छापने की लागत 2.94 रुपए और 2000 रुपये का एक नोट छापने के लिए 3.54 रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं.

  • RBI द्वारा किस प्रकार पूरे देश में करेंसी का वितरण किया जाता है?

    करेंसी चेस्ट या "मुद्रा तिजोरी" की स्थापना बैंक नोट के वितरण को सुचारू रूप से चलाने हेतु RBI ने की है. करेंसी चेस्ट खोलने के लिए RBI,बैंकों की चुनिन्दा शाखाओं को अधिकृत करती है. इन करेंसी चेस्ट में RBI के द्वारा बैंक नोटों का भंड़ारण किया जाता है. करेंसी चेस्ट अपने पास के क्षेत्र में आने वाले अन्य बैंक की शाखाओं को बैंक नोट की आपूर्ती करता है.

    Nov 24, 2017
  • RBI के नियमों के अनुसार फटे पुराने नोट कैसे और कहाँ बदलें?

    यदि आपके पास पुराने और फटे हुए कागज के नोट रखे हुए हैं तो आप इन नोटों को किसी भी वाणिज्यिक बैंक में जाकर बदल सकते हैं. सबसे सुविधाजनक बात यह है कि जिस बैंक में आप ये नोट बदलने जा रहे हैं उसमे आपका बचत खाता या कोई और खाता होना जरूरी नही है. रिज़र्व बैंक (RBI) के नियमों के कारण कोई भी बैंक आपके फटे-पुराने नोट बदलने से इनकार नहीं कर सकता है.

    Nov 24, 2017
  • नोटबंदी का एक साल: फायदे और नुकसान का विस्तृत आकलन

    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 8 नवम्बर 2016 को पूरे देश में 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को चलन से बाहर कर दिया था. इस नोटबंदी के बाद पूरे देश में अफरातफरी मच गयी थी. इस लेख में हमने इस नोटबंदी के देश को हुए फायदे और नुकसान के बारे में बताया है.

    Nov 21, 2017
  • व्यावसायिक बैंकों द्वारा ऋण का सर्जन किस प्रकार किया जाता है?

    इस लेख में माध्यम से आप यह जानेंगे कि किस प्रकार व्यावसायिक बैंक छोटी छोटी बचतों के माध्यम से एक बहुत बड़ी राशि जमा कर लेते हैं और इस जमा को अन्य लोगों को उधार देकर बहुत सा लाभ कमाते हैं. यह लेख बैंकों की उधार देने की प्रक्रिया को भी बताता है.

    Nov 21, 2017
  • 14वें वित्त आयोग की क्या सिफरिशें हैं और इसका गठन क्यों किया जाता है?

    भारतीय संविधान के अनुच्छेद 280 में वित्त आयोग की स्थपाना की व्यवस्था की गयी है. इसका गठन 5 वर्षों के लिए भारत के राष्ट्रपति द्वारा किया जाता है. अब तक 13 वित्त आयोग गठित किया चुके हैं और वर्तमान में 14 वें वित्त आयोग का कार्यकाल (2015-2020) चल रहा है. 14 वें वित्त आयोग का गठन रिज़र्व बैंक के पूर्व गवर्नर Y.V. रेड्डी की अध्यक्षता में किया गया है.

    Nov 14, 2017
  • रिज़र्व बैंक को 200 रुपये का नया नोट क्यों छापना पड़ा है?

    भारत सरकार से अनुमति मिलने के बाद भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने घोषणा की है कि वह 25 अगस्त को 200 रुपये का नया नोट जारी करेगी. इस नोट को जारी करने के पीछे सरकार का मुख्य तर्क यह है कि इस नोट से लोगों को लेनदेन में आसानी होगी और उन्हें फुटकर कराने के लिए इधर उधर नही भटकना पड़ेगा और बिना जरुरत का सामान भी नही खरीदना पड़ेगा.

    Aug 25, 2017
  • रेपो रेट क्या है और इसमें कमी आने से EMI में कमी कैसे आ जाती है?

    “रेपो रेट वह दर है जिस पर कमर्शियल बैंक भारतीय रिज़र्व बैंक से कर्ज लेते हैं.”जब रिज़र्व बैंक रेपो रेट में कमी करता है तो कमर्शियल बैंकों को रिज़र्व बैंक से मिलने वाला लोन सस्ता हो जाता है इस कारण सामान्य जनता को भी सस्ती दरों पर लोन मिल जाता है और जिन लोगों ने ये सभी प्रकार के लोन पहले से ही लिए हुए हैं तो उनके द्वारा बैंक को दी जाने वाली मासिक क़िस्त या EMI में कमी आ जाती है.  

    Aug 9, 2017
  • जानें कैसे आपके ATM पर 5 लाख रुपये तक का दुर्घटना बीमा मिलता है?

    सभी बैंक अपने हर ग्राहक को ATM जारी करने के साथ-साथ 25 हजार रुपये से लेकर 5 लाख तक का बीमा उपलब्ध कराता है. इस बीमा में विकलांगता से लेकर मौत होने पर भी मुआवजे का प्रावधान है. लेकिन एक कडवी सच्चाई यह है कि लगभग 99% ATM धारकों को इस योजना का पता ही नही है जबकि इस योजना को शुरू हुए कई साल हो चुके हैं.

    Aug 3, 2017
  • मुद्रा के बारे में 7 ऐसी बातें जो आप शायद ही जानते हो

    यह बात तो एक निर्विवाद सच है कि बिना अर्थ के कोई तंत्र नही होता है, इसी कारण रुपये की अनुपस्थिति में किसी भी दुनिया की कल्पना भी नही की जा सकती है. जब रुपये का अविष्कार नही हुआ था तब मनुष्य ने वस्तु विनिमय व्यवस्था का सहारा लिया और जब वस्तु विनिमय व्यवस्था की कमियों के कारण मनुष्य की जरूरतें पूरी होने में बाधा आने लगी तब मुद्रा का अविष्कार किया गया था. इस लेख में मुद्रा के अविष्कार से लेकर उसके बारे में अन्य 7 रोचक बातों का वर्णन किया गया है.

    Jul 12, 2017
  • भारत में बजट पेश करने की प्रक्रिया क्या है?

    भारतीय संविधान का ‘अनुच्छेद 112’ कहता है कि भारत के वित्त मंत्री द्वारा प्रति वर्ष संसद में बजट पेश किया जाना चाहिए | बजट को ‘वार्षिक वित्तीय विवरण‘ के नाम से भी जाना जाता है| NDA सरकार का चौथा आम बजट वित्‍तमंत्री अरुण जेटली 1 फरवरी 2017 को संसद में पेश करेंगे। इस लेख में बजट तैयार करने की प्रक्रिया के बारे में बताया गया है|

    Feb 1, 2018
  • रेल बजट को आम बजट में जोड़ने से क्या फायदा होगा?

    अभी हाल ही में मोदी कैबिनेट ने साल 1924 से अलग से पेश किए जा रहे रेल बजट को आम बजट के साथ पेश करने की मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही पिछले 92 साल से चली आ रही 'अलग से रेल बजट' पेश करने की पंरपरा समाप्ती हो जाएगी। अब जब 1 फ़रवरी को वित्त  वर्ष 2017-18 का बजट वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा पेश किया जायेगा तो उसमे रेल बजट की चर्चा भी होगी | आइये इस लेख में यह जानने का प्रयास करते हैं कि इस कदम से भारतीय रेल को क्या फायदा होगा |

    Jan 12, 2017
  • शैडो बैंकिंग क्या होती है और यह अर्थव्यवस्था को कैसे प्रभावित करती है?

    'शैडो बैंकिंग' शब्द 2007 में 'पॉल मैकक्लिली' ने अमेरिकी गैर-बैंक वित्तीय संस्थानों के संदर्भ में दिया थाl शैडो बैंकिंग से तात्पर्य गैर-बैकिंग वित्तीय कम्पनियों (NBFCs) द्वारा बैंकों जैसी सेवाएं देने से होता है जिससे ऐसी कम्पनियां नियामक कार्रवाइयों की परिधि से भी बाहर रहती हैं। ऐसी कम्पनियां अधिकांशत: निवेशकों और कर्जदारों के बीच बिचौलिए का काम करती हैं। उदाहरण: निवेश बैंक, म्यूचुअल फंड और हेज फंड l

    Apr 20, 2017
  • भारत में नये नोटों को छापे जाने की क्या प्रक्रिया होती है

    भारतीय रिजर्व बैंक को भारत का केन्द्रीय बैंक भी कहा जाता है | यह संस्था भारत की सबसे बड़ा मौद्रिक प्राधिकरण (monetary authority) है| भारतीय रिजर्व बैंक 2 रुपये से लेकर 2000 रुपये तक के नोटों को छापती है| एक रुपये के नोट को छापने और सिक्कों के बनाने का अधिकार भारतीय रिजर्व बैंक के पास नही है बल्कि वित्त मंत्रालय के पास है |  

    Mar 7, 2017
Jagran Play
रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश
ludo_expresssnakes_laddergolden_goalquiz_master

Just Now