Search
  1. Home
  2. विज्ञान
View in English

विज्ञान

  • लवण: अवधारणा, गुण और उपयोग

    लवण एक आयोनिक यौगिक है जो अम्ल और क्षार के उदासीनीकरण प्रक्रिया (neutralization reaction) का परिणाम है। यह कैटायनों (सकारात्मक चार्जड आयनों) और आयनों (ऋणात्मक आयनों) के संबंधित संख्याओं के द्वारा बना है इसलिए इसका उत्पाद इलेक्ट्रिकली उदासीन (electrically neutral) अर्थार्त बिना कोई चार्ज के होता है। इसमें लवण कितने प्रकार का होता है और कहा उपयोग में आता है के बारें में अध्ययन करेंगें |

    Jan 31, 2017
  • महत्वपूर्ण दवाओं एवं रसायनों की सूची

    ड्रग्स (दवा) वह पदार्थ है जो रोगों के लक्षणों को दूर करता है या रोगों की रोकथाम करता है| इनका निर्माण या उत्पादन न केवल औषधीय पौधों जैसे-लहसुन, एलोविरा और तुलसी आदि से किया जाता है बल्कि कार्बनिक संश्लेषण के माध्यम से भी किया जाता है| इस लेख में हम कुछ महत्वपूर्ण दवाओं के बारे में चर्चा कर रहे हैं|

    Jan 25, 2017
  • मानव पाचन तंत्र: अंग, कार्य और कैसे यह काम करता है

    मनुष्य में पोषण मानव पाचन तंत्र के माध्यम से होता है| इसमें आहार नली (alimentary canal) और उससे संबद्ध ग्रंथियां (glands) होती हैं| मनुष्य के पाचन तंत्र में पाए जाने वाले विभिन्न अंग इस क्रम में होते हैं– मुंह, ग्रासनली/ भोजननली (Oesophagus), पेट, छोटी आंत और बड़ी आंत | इस लेख में मनुष्य के भीतर पाए जाने वाले मानव पाचन तंत्र में शामिल विभिन्न चरणों, ग्रंथियों का अध्ययन करेंगे |

    Jan 24, 2017
  • शीशे के प्रिज्म के माध्यम से प्रकाश का अपवर्तन

    जब प्रकाश की एक किरण शीशे के प्रिज्म में प्रवेश करती है, तब यह दो बार मुड़ती है। पहले जब यह शीशे के प्रिज्म में प्रवेश करती है और दूसरा जब यह प्रिज्म से बाहर आती है। ऐसा इसलिए क्योंकि प्रिज्म की अपवर्तित सतहे एक दूसरे के समानांतर नहीं होती हैं। इसके अलावा, प्रकाश की किरण प्रिज्म के माध्यम से गुजरने पर अपने आधार की ओर झुकती है। कैसे शीशे के प्रिज्म के माध्यम से प्रकाश का अपवर्तन होता है के बारे मे अध्धयन करेंगें|

    Jan 21, 2017
  • जैव विज्ञान: आविष्कार और खोज की सूची

    समकालीन दुनिया में जीव विज्ञान के जबरदस्त विस्तार जैसे कि सेल (cell) बायोलॉजी, तंत्रिका विज्ञान (Neuroscience) और विकासवादी ( Evolutionary) जीव विज्ञान से होने वाले विभिन्न आविष्कारों और खोजों से न केवल जीवन जीने की प्रक्रिया एवं गुणवत्ता में सुधार आया है बल्कि जीवन जीने की प्रत्याशा भी बढ़ी है। इस लेख में जैविक विज्ञान में आविष्कार और खोजों की पूरी सूची प्रदर्शित की गई है|

    Jan 20, 2017
  • रक्त : संरचना और कार्य

    रक्त लाल रंग का तरल पदार्थ होता है जो हमारे शरीर में संचारित होता है | यह लाल रंग का इसलिए होता है क्योंकि इसकी लाल कोशिकाओं में हीमोग्लोबिन नाम का लाल रंग पाया जाता है| इस आर्टिकल में रक्त, उसकी संरचना और कार्य के बारें मे अध्धयन करेंगे |

    Jan 20, 2017
  • ब्रह्मांड: तारे, सूरज, क्षुद्रग्रह संक्षेप में

    ब्रह्मांड का व्यास कम से कम 10 अरब प्रकाश वर्ष है जिसमें एक विशाल संख्या मे आकाशगंगाएँ हैं और प्रत्येक आकाशगंगा में लाखों अरबों की संख्या में तारे मौज़ूद हैं। हमारा मूल ग्रह पृथ्वी और सौर मंडल भी ऐसी ही अनेक आकाशगंगा में से एक का हिस्सा है| इसमें सभी आकाशगंगा, क्षुद्रग्रह, सौर प्रणाली और उल्का भी शामिल हैं। सभी भौतिक द्रव्य और अंतरिक्ष को मिलाकर एक पूरा ब्रह्मांड बना है। इस आर्टिकल में ब्रह्मांड: तारे, सूरज, क्षुद्रग्रह के बारे मे संक्षेप में पढेंगें|

    Jan 19, 2017
  • मानव नेत्र और उसके दोष

    मानव आँख, पारदर्शी जीवित पदार्थ से बने एक प्राकृतिक उत्तल लेंस के माध्यम से प्रकाश के अपवर्तन पर काम करती है और हमें, हमारे आसपास की चीजों को देखने के लिए सक्षम बनाती है। इस आर्टिकल में हम देखेंगे कि कैसे आँख कार्य करती हैं, हमें रंग कैसे दीखते हैं, कैसे आँख के दोषों को दूर किया जाता है आदि|

    Jan 18, 2017
  • मानव परिसंचारण तंत्र / वाहिका तंत्र : संरचना, कार्य और तथ्य

    मनुष्यों और अन्य पशुओं का परिसंचारण तंत्र अंगों का वह तंत्र होता है जो शरीर के भीतर सामग्रियों के परिवहन का जिम्मेदार होता है| इसमें हृदय, धमनियां, नसें, केशिकाएं और रक्त होते हैं | हृदय रक्त को बाहर की तरफ धक्का देने वाले पंप के रूप में काम करता है| धमनियां, नसें और केशिकाएं नली या ट्यूब की तरह काम करती हैं जिनसे होकर रक्त प्रवाहित होता है| मनुष्य के शरीर में तीन प्रकार की रक्त वाहिकाएं होती हैं– धमनियां, नसें और केशिकाएं | अब हम परिसंचारण प्रणाली के सभी अंगों को विस्तार से समझेंगे |

    Jan 18, 2017
  • एसिड (अम्ल): संकल्पना, गुण और उपयोग

    एसिड पानी में घुलनशील यौगिक होता है| स्वाद में खट्टा और लिटमस पेपर को लाल रंग का करने एवं क्षार से प्रतिक्रिया कर लवण बनाने में सक्षम होता है और किसी पदार्थ के साथ पानी के घोल में मिलने पर हाइड्रोजन आयन मुक्त करता है| इसमें हम एसिड (अम्ल) की संकल्पना, गुण और उपयोग के बारें में अध्ययन करेंगें |

    Jan 17, 2017
  • पीएच (pH) स्केल की संकल्पना और महत्व

    1909 में जलीय घोल के एच+ आयन की सांद्रता बताने वाले डेनमार्क के बायोकेमिस्ट एस.पी.एल. सोरेनसन (S.P.L Sorenson) ने एक स्केल बनाया जिसे पीएच (pH) के रूप में जाना जाता है| किसी भी घोल का पीएच (pH) एक संख्या होता है जो उस घोल की अम्लता या क्षारता के बारे में बताता है| इस आर्टिकल में पीएच (pH) स्केल की संकल्पना और महत्व के बारे में बताया गया है |

    Jan 13, 2017
  • धातुः गुण और प्रतिक्रिया श्रृंखला

    धातु वैसेतत्व होते हैं जो इलेक्ट्रॉन खोते हैं और कैटाइअन (cation) देते हैं | आवर्त सारणी में, ये तत्व बाईं तरफ और बीच में रखे जाते हैं | इसके अलावा सबसे बाईं ओर रखे गए तत्व सर्वाधिक धात्विक गुणों वाले होते हैं | इस आर्टिकल में धातु के गुण और प्रतिक्रिया श्रृंखला के बारे में बताया गया है |

    Jan 13, 2017
  • क्या आप जानतें हैं कि 20 छोटे चांदों से मिलकर बना है अपना चांद

    सौर मंडल के अन्य ग्रहों की तुलना में, हमारा एकमात्र चमकता हुआ ग्रह चंद्र है। चांद की उत्पत्ति हमेशा से ही रहस्यों से भरी रही है | वैज्ञानिक कई समय से लगातार इससे जुड़े रहस्यों का पता लगा रहें है और इसी क्रम मे इसरायल के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि मौजूदा चांद की उत्पत्ति 20 छोटे चांदों से हुई है | इस आर्टिकल में हम कुछ इन तथ्यों पर नज़र डालेंगे |

    Jan 12, 2017
  • मेसेन्टरी: मानव शरीर का 79वां अंग

    मानव शरीर एक जटिल संगठन है जिसके विभिन्न अंगों एवं उसके कार्यप्रणाली के संबंध में समय-समय पर वैज्ञानिकों द्वारा नए-नए खोज होते रहे हैं| इन खोजों के द्वारा हमें नई-नई बिमारियों एवं उससे बचने के उपाय की जानकारी मिलती है| हाल ही में एक आयरिश वैज्ञानिक ने मानव पाचन तंत्र में एक नए अंग “मेसेन्टरी” की खोज की है| इस लेख में हम इस नए अंग एवं मानव पाचन तंत्र के अन्य अंगों का संक्षिप्त विवरण दे रहे हैं|

    Jan 5, 2017
  • भारत की 13 प्रमुख मिसाइलें, उनकी मारक क्षमता (Range) एवं विशेषताएं

    वैज्ञानिकों के कई वर्षों के अथक प्रयास के बाद आज भारत मिसाइल तकनीक के मामले में विश्व के अग्रणी देशों के साथ खड़ा है| आज भारत के पास ऐसी मारक क्षमता वाली मिसाइलें हैं जिससे दुश्मन देश थर्राते हैं| इस लेख में हम भारत के विभिन्न मिसाइलों और उनकी मारक क्षमता (Range) एवं विशेषताओं का विवरण दे रहे हैं|

    Jan 4, 2017