Search
View in English

SSC सामान्य ज्ञान

  • भारतीय मानसून को कौन से कारक प्रभावित करते हैं?

    भारत में वायु प्रणाली के मौसमी उलट–फेर को अरब व्यापारियों ने 'मानसून' नाम दिया था। भारत के मानसून को प्रभावित करने वाले कारकों में स्थल व जल के गर्म व ठंडे होने की दर में अंतर, अंतरा उष्णकटिबंधीय अभिसरण क्षेत्र का विस्थापन, मेडागास्कर के पूर्व में उच्च दाब वाले क्षेत्र की उपस्थिति, तिब्बत के पठार का गर्म होना, पूर्वी जेट धारा का प्रवाह व एल-निनो की घटना आदि शामिल हैं |

    Mar 10, 2016
  • भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

    भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना 28 से 30 दिसंबर 1885 के मध्य बम्बई में तब हुई जब भारत की विभिन्न प्रेसीडेंसियों और प्रान्तों के 72 सदस्य बम्बई में एकत्र हुए| भारत के सेवानिवृत्त ब्रिटिश अधिकारी एलेन ओक्टोवियन ह्युम ने कांग्रेस के गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी|

    Nov 30, 2015
  • सातवाहन का युग

    सातवाहन राजवंश भारत में 230 BC  के लगभग अस्तित्व में आया और आंध्रा प्रदेश में धरानिकोटा और अमरावती से महाराष्ट्र में जुन्नार और प्रतिष्ठान तक फैला | यह साम्राज्य 450 साल तक रहा  जोकि लगभग 220 AD  है | वास्तव में सातवाहन ने मौर्य साम्राज्य के दास के तौर पर शुरुआत की और इनके पतन के बाद दक्षिण भारत में स्वाधीन साम्राज्य के रूप में उभरे |

    Sep 4, 2015
  • मौर्य राजवंश

    चौथी सदी BC में नन्दा के राजाओं ने मगध राजवंश पर शासन किया और यह राजवंश उत्तर का सबसे ताकतवर राज्य था | एक ब्राह्मण मंत्री चाणक्य जिसे कौटिल्य / विष्णुगुप्त ने नाम से  भी जाना गया ने मौर्य परिवार से चन्द्रगुप्त नामक नवयुवक को प्रशिक्षण दिया | चन्द्रगुप्त ने अपने सेना का अपने आप संगठन किया और 322 BC  में नन्दा का तख़्ता पलट दिया |

    Sep 2, 2015
  • मौर्य युग के पूर्व विदेशी आक्रमण

    भारतीय उप-महाद्वीप के दो प्रमुख विदेशी आक्रमण, 518 ई.पू. में ईरानी आक्रमण और 326 ई.पू. में मकदूनियाई आक्रमण थे। इन दो आक्रमणों ने इंडो ईरानी व्यापार और वाणिज्य को बढ़ावा दिया। ईरानी लेखकों ने खरोष्ठी लिपि की शुरूआत की जिसे बाद में अशोक के कुछ शिलालेखों में प्रयोग किया गया। इस लिपि में अरबी की तरह दांये से बांये की तरफ लिखा जाता था।

    Aug 31, 2015

Just Now