1. Home
  2. GENERAL KNOWLEDGE
  3. परीक्षापयोगी सामान्य ज्ञान
  4. राज्य लोक सेवा सामान्य ज्ञान

राज्य लोक सेवा सामान्य ज्ञान

View in English
  • साम्प्रदायिक अधिनिर्णय और पूना समझौता

    सांप्रदायिक अधिनिर्णय ब्रिटिश भारत में उच्च जातियों,निम्न जातियों,मुस्लिमों,बौद्धों,सिखों,भारतीय ईसाईयों,आंग्ल-भारतियों,यूरोपियों,और अछूतों (जिन्हें अब दलितों के रूप में जाना जाता है) के लिए पृथक निर्वाचक मंडल की व्यवस्था प्रदान करने के लिए लाया गया था| इसे ‘मैकडोनाल्ड अवार्ड’ के रूप में भी जाना जाता है| देश में लगभग सभी जगह जनसभाएं आयोजित की गयीं ,मदनमोहन मालवीय,बी.आर.अम्बेडकर और एम.सी.रजा जैसे विभिन्न धडों के नेता सक्रिय हो गए| इसका अंत एक समझौते के रूप में हुआ जिसे ‘पूना समझौता’ के रूप में जाना गया|

    Jun 3, 2016
  • मानव विकास

    बड़ा या अधिक उन्नत बनने के लिए विकास एक गुणात्मक और मात्रात्मक प्रक्रिया का संयोजन है| 'प्रगति' और 'विकास' नए शब्द नहीं हैं, लेकिन समय की अवधि के साथ परिवर्तन के संदर्भ में देखें जाते हैं| विकास एक मात्रात्मक और मूल्य तटस्थ है जिसका मतलब है कि यह एक सकारात्मक या नकारात्मक परिवर्तन हो सकता है जबकि प्रगति का एक गुणात्मक परिवर्तन हमेशा सकारात्मक मूल्य है|

    Jul 26, 2016
  • दुनिया के सबसे बड़े झीलों की सूची

    झील, पानी का वह स्थिर भाग है जो चारो तरफ से भू-क्षेत्र से घिरा होता है। ज्यादातर झीलों का निर्माण ग्लेशियर के द्वारा होता है, जबकि कुछ झीलों का निर्माण नदी घाटियों को बांधों द्वारा अवरुद्ध करने के कारण भी होता है l यहां, हम दुनिया के सबसे बड़े झीलों की सूची दे रहे हैं जो पाठकों के सामान्य ज्ञान को बढ़ाने में सहायक होंगे l

    Jul 24, 2017
  • मगध साम्राज्य के उदय एवं विकास का संक्षिप्त विवरण

    मगध साम्राज्य की उत्पत्ति उस समय हुई थी जब 6ठी शताब्दी ईसा पूर्व से 4थी शताब्दी ई.पू. तक चार महाजनपद मगध, कोशल, वत्स और अवंती एक-दूसरे के ऊपर वर्चस्व स्थापित करने के लिए संघर्ष में लगे हुए थे| अंततः मगध उत्तर भारत में सबसे शक्तिशाली और समृद्ध साम्राज्य के रूप में उभरा| यहाँ हम मगध साम्राज्य के उदय एवं विकास का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत कर रहे हैं जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है|

    Nov 4, 2016
  • भारत में शहरों का कार्यात्मक वर्गीकरण

    कार्यों के आधार पर भारतीय शहरों और कस्बों को मोटे तौर पर इन आधारों पर बांटा जा सकता है - प्रशासनिक कस्बे और शहर, औद्योगिक कस्बे, परिवहन शहर, वाणिज्यिक कस्बा, खनन शहर, गैरीसन कस्बा छावनी, शैक्षिक शहर, धार्मिक और सांस्कृतिक शहर|

    Nov 4, 2016
  • रेग्युलेटिंग एक्ट, 1773

    बंगाल के कुप्रशासन से उपजी परिस्थितियों ने ब्रिटिश संसद को ईस्ट इंडिया कंपनी के कार्यों की जाँच हेतु बाध्य कर दिया| ब्रिटिश संसद ने पाया कि भारत में कंपनी की गतिविधियों को नियंत्रित करने की जरुरत है और इसी जरुरत की पूर्ति के लिए 1773 ई. में रेग्युलेटिंग एक्ट पारित किया गया| यह एक्ट भारत के सम्बन्ध प्रत्यक्ष हस्तक्षेप हेतु ब्रिटिश सरकार द्वारा उठाया गया पहला कदम था |इस एक्ट का उद्देश्य व्यापारिक कंपनी के हाथों से राजनीतिक शक्ति छीनने की ओर एक कदम बढाना था|

    Nov 16, 2015
  • भारतीय चट्टानों का वर्गीकरण

    भारत में पृथ्वी के सभी भूवैज्ञानिक कालों में निर्मित चट्टानें पायी जाती हैं| भारत में पायी जाने वाली चट्टानों को उनके निर्माण क्रम (प्राचीन से नवीन) के आधार पर क्रमशः आर्कियन, धारवाड़, कडप्पा, विंध्यन, गोंडवाना, दक्कन ट्रेप, टर्शियरी व क्वार्टनरी क्रम की चट्टानों में वर्गीकृत किया गया है|

    Apr 1, 2016
  • सिंधु नदी प्रणाली

    सिंधु नदी प्रणाली दुनिया की सबसे बड़ी नदी घाटियों में से एक है जो 11, 65,000 वर्ग किलोमीटर (भारत में यह 321, 289 वर्ग किलोमीटर) के क्षेत्रों की  यात्रा करती  है और इसकी  कुल लंबाई 2,880 किमी (भारत में 1,114 किमी) है । इंडस को सिंधु के रूप में भी  जाना जाता है। यह तिब्बत में कैलाश पर्वत  श्रंखला से बोखार-चू नामक ग्लेशियर (4164 मीटर) के पास तिब्बती क्षेत्र में से निकलती है ।

    Aug 12, 2016
  • अरावली पर्वतमाला

    अरावली भारत के पश्चिमोत्तर भाग में स्थित वलित पर्वतमाला है,जोकि उत्तर-पूर्व से दक्षिण-पश्चिम दिशा में लगभग 1100 किमी. की लंबाई में विस्तृत है| अरावली पर्वतमाला विश्व के सर्वाधिक प्राचीन वलित पर्वतों में से एक है| माउंट आबू में स्थित ‘गुरुशिखर’ इसकी सर्वोच्च चोटी है|

    Apr 14, 2016
  • शिवाजी

    सत्रहवी सदी के प्रारंभिक वर्षों में जब पूना जिले के भोंसले परिवार ने स्थानीय निवासी  होने का लाभ उठाते हुए अहमदनगर राज्य से सैनिक व राजनीतिक लाभ प्राप्त किये तो एक नई लड़ाकू जाति का उदय हुआ जिसे ‘मराठा’ कहा गया. उन्होंनें बड़ी संख्या में मराठा सरदारों और सैनिकों को अपनी सेनाओं में भर्ती किया.शिवाजी शाह जी भोंसले और जीजा बाई  के पुत्र थे. शिवाजी का पालन-पोषण पूना में उनकी माता और एक योग्य ब्राह्मण दादाजी कोंडदेव के देख-रेख में हुआ था.

    Nov 16, 2015
  • विश्व की प्रसिद्ध स्थानीय हवाओं की सूची

    स्थानीय हवाओं की उत्पत्ति मूल रूप से दिन के समय में ताप के संवहन, सतह के असमान रूप से गर्म एवं ठंडा होने, गुरूत्वाकर्षण और हवाओं के अधोप्रवाह (downdrafts) के कारण होती हैl यहां, हम विश्व की प्रसिद्ध स्थानीय हवाओं की सूची दे रहे हैं जो न केवल विभिन्न परीक्षाओं के इच्छुक लोगों के सामान्य ज्ञान को बढ़ाएगा बल्कि सामान्य पाठकों के लिए भी लाभकारी होगाl

    Aug 9, 2017
  • एल निनो का सिद्धांत

    पूर्वी प्रशांत महासागर में पेरू तट से लगभग 80 किलोमीटर की दूरी पर सामान्य दिनों में पेरू की ठंडी जलधारा बहती है। कालांतर में इसमें बदलाव हो जाता है।ठंडी के बदले उष्ण जलधारा का आविर्भाव हो जाता है जिसके कारण जलवायु में प्रतिकूल प्रभाव देखने को मिलता है जिसको एलनिनो कहा जाता है। इसमें समुद्री सतह का तापमान बहुत बड़ी भूमिका निभाता है जिसका प्रभाव पूरे विश्व की जलवायु पर पड़ता है।

    Aug 9, 2017
  • प्राचीन भारतीय राजवंश और उनके योगदान का संक्षिप्त विवरण

    भारत का इतिहास बहुत व्यापक है जो कई राजवंशों के उत्थान और पतन का गवाह रहा है| यहाँ हम "प्राचीन भारतीय राजवंश और उनके योगदान” का संक्षिप्त विवरण दे रहे हैं जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है|

    Nov 21, 2016
  • उदारवादी

    उदारवादियों ने 1885-1905 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पर अपना प्रभुत्व बनाये रखा| वे थे तो भारतीय लेकिन वास्तव में अपनी पसंद,बुद्धि,विचार और नैतिकता के मामले में ब्रिटिश थे|वे धैर्य,संयम,समझौतों और सभाओं में विश्वास रखते थे| ए.ओ.ह्यूम,डब्लू.सी.बनर्जी,सुरेन्द्रनाथ बनर्जी,दादाभाई नैरोजी,फिरोजशाह मेहता,गोपालकृष्ण गोखले,पंडित मदन मोहन मालवीय,बदरुद्दीन तैय्यब जी,जस्टिस रानाडे,जी.सुब्रमण्यम अय्यर आदि राष्ट्रीय आन्दोलन के प्रथम चरण के नेता थे|

    Nov 21, 2016
  • प्राचीन जनपद एवं महाजनपदों की सूची

    जनपद और महाजनपद काल 600 ईस्वी पूर्व की राज्यव्यवस्था का प्रतिनिधित्व करते हैंl कुछ महत्वपूर्ण आर्थिक परिवर्तनों के कारण महाजनपद काल के उभरने की प्रक्रिया की शुरूआत हुई थी और इसके परिणामस्वरूप इस अवधि में सामाजिक-राजनीतिक घटनाक्रम में बदलाव देखने को मिलता हैl इस लेख में हम प्राचीन जनपद और महाजनपदों की सूची दे रहे हैं जिससे आपको प्राचीन शासनशैली और तानाशाही स्थिति की बेहतर समझ प्राप्त होगीl

    Apr 18, 2017
Jagran Play
रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश
ludo_expresssnakes_ladderLudo miniCricket smash

Just Now