Search

भारत में क्रिकेट मैच रेफरी, अंपायर और पिच क्यूरेटर को कितनी सैलरी मिलती है?

BCCI अनुबंधित क्रिकेट खिलाडियों को चार श्रेणियों में रखता है A+, A, B और C.  अब A+ ग्रेड में आने वाले खिलाड़ी को हर साल 7 करोड़ रुपये, A ग्रेड वाले खिलाड़ी को 5 करोड़ रुपये और B ग्रेड वाले को पूरे साल में 3 करोड़ रुपये दिए जायेंगे. प्रशासकों की समिति ने पांच जोनल क्यूरेटर के वेतन को दुगुना करते हुए 12 लाख रुपये प्रतिवर्ष कर दिया है. आइये जानते हैं कि अंपायर, मैच रेफरी को हर मैच के लिए कितने रुपये मिलते हैं.
Apr 10, 2019 12:20 IST
Curator, Umpire and Match Refree

क्रिकेट के शौक़ीन लोगों में से लगभग सभी लोग जानते हैं कि क्रिकेटर को हर मैच के लिए कुछ मैच फीस मिलती है लेकिन बहुत से क्रिकेट के शौक़ीन लोग यह नहीं जानते हैं कि जो स्टाफ मैच नहीं खेलता हैं लेकिन ये लोग क्रिकेट खेलने वाले लोगों की मदद करते हैं. इन लोगों में मुख्य रूप से शामिल हैं; अंपायर, मैच रेफरी, क्यूरेटर, स्कोरर और वीडियो एनालिस्ट. ये लोग प्रति मैच के हिसाब से फीस और डेली अलाउंस पाते हैं.

जानें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की जिम्मेदारियां क्या होती हैं?

आइये इस लेख में जानते हैं कि अंपायर, मैच रेफरी, क्यूरेटर, स्कोरर और वीडियो एनालिस्ट को कितनी सैलरी मिलती है.

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की ओर से बनी प्रशासकों की समिति ने किसी भी मैच के आयोजन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले सपोर्टिंग स्टाफ की सैलरी को अप्रैल 2018 में दुगुना कर दिया था. ध्यान रहे कि इन सपोर्टिंग स्टाफ को मिलने वाली फीस को 2012 से नहीं बढ़ाया गया था.

ज़ोनल क्यूरेटर को मिलने वाली सैलरी:

किसी भी मैच में पिच किस तरह की होगी, किस प्रकार के गेंदबाजों को मदद करेगी इन सब सवालों का जवाब पिच के क्यूरेटर के पास होता है. अर्थात क्यूरेटर उस व्यक्ति को कहा जाता है जो कि क्रिकेट की पिच को तैयार करता है.

प्रशासकों की समिति ने पांच जोनल क्यूरेटर के वेतन को प्रति वर्ष 6 लाख रुपये से बढाकर दुगुना करते हुए 12 लाख रुपये कर दिया है. इसके साथ ही सहायक क्यूरेटर को मिलने वाली सैलरी को 4.2 लाख रुपये से बढ़ाकर 8.4 लाख रुपये कर दिया है.

अंपायर को मिलने वाली सैलरी:

BCCI के पास 105 रिज़र्व अंपायर हैं जिनमें सबसे अच्छे 20 अंपायर को “टॉप 20” अंपायरों की श्रेणी में भी रखा गया है. सभी अंपायरों के वेतन में वर्ष 2012 से वृद्धि नहीं हुई थी. इस वृद्धि के पहले इन अंपायर को प्रतिदिन 20,000 रुपये मिलते थे लेकिन अब इनकी फीस को बढाकर दुगुना (40,000 रु.) कर दिया गया है. टॉप 20 अंपायरों को एक T20 मैच के लिए अब 20,000 रुपये मिलेंगे जो कि पहले 10 हजार रुपये था.

बकाया के 85 अंपायरों को एक T20 मैच के लिए 15,000 रपये मिलेंगे और वनडे और टेस्ट मैच के लिए मैच फीस को दुगुना करके 15,000 से 30,000 रुपये कर दिया गया है.

इसके अलावा अंपायरों को मिलने वाले डेली अलाउंस को भी 750 रुपये से बढ़ाकर 1500 रुपये कर दिया गया है.

T-20 मैच को छोड़कर प्रति दिन के लिए वेतन वृद्धि इस प्रकार है;

पद

नयी सैलरी

पुरानी सैलरी ( 2012)

वृद्धि

  टॉप 20 अंपायर

40,000

20,000

20,000

  अन्य सभी अंपायर

30,000

15,000

15,000

  मैच रेफरी

30,000

15,000

15,000

  स्कोरर

10,000

5,000

5,000

  सीनियर वीडियो एनालिस्ट

15,000

7,500

7,500

 असिस्टेंट वीडियो एनालिस्ट

10,000

3,000

7,000

मैच रेफरी को मिलने वाली फीस:

बीसीसीआई के पास 58 रेफरी हैं जो कि प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेलने वाले पूर्व खिलाड़ी है. T-20 मैचों के अतिरिक्त इन लोगों को मिलने वाली फीस भी 15,000 रुपये प्रतिदिन से बढ़ाकर 30,000 रुपये प्रतिदिन कर दी गयी है. T-20 मैचों के मामले में, यह फीस 7,500 रुपये से बढ़ाकर 15,000 रुपये प्रति मैच कर दिया गया है.

मैच रेफरी को मिलने वाली फीस के अतिरिक्त प्रतिदिन मिलने वाले भत्ते को भी 750 से बढ़ाकर 1500 (आउटस्टेशन मैच रेफरी को) और लोकल मैच रेफरी के लिए डेली अलाउंस को 500 रुपये से बढ़ाकर 1000 रुपये कर दिया गया है.

T-20 मैच के लिए नई सैलरी इस प्रकार है;

पद

नयी सैलरी

पुरानी सैलरी (2012)

वृद्धि

टॉप 20 अंपायर

20,000

10,000

10,000

अन्य सभी अंपायर

15,000

7,500

7,500

मैच रेफरी

15,000

7,500

7,500

स्कोरर

5,000

2,500

2,500

सीनियर वीडियो एनालिस्ट

7,500

3,750

3,750

असिस्टेंट वीडियो एनालिस्ट

5,000

1,500

3,500

मैच स्कोरर को मिलने वाली मैच फीस:

बीसीसीआई के पास 153 रजिस्टर्ड स्कोरर हैं. यह व्यक्ति मैच के आंकड़ों को एकत्र करता है जैसे यह बताता है कि किस खिलाड़ी ने कितने रन और विकेट लिए हैं, कितने मैच खेले हैं इत्यादि.

अब इनको मिलने वाली फीस को बढ़ाकर 5000 रुपये प्रति दिन से बढ़ाकर 10000 रुपये कर दिया गया है. एक T20 मैच के लिए इनको अब 5,000 रुपये मिलेंगे. यदि मैच रेफरी आउट ऑफ़ स्टेशन का है तो उसको डेली अलाउंस के तौर पर 1,500 रुपये और लोकल के मैच रेफरी के लिए 1000 रुपये तय किया गया है.

cricket scorer

वीडियो एनालिस्ट की फीस:

वीडियो एनालिस्ट का काम अपनी और विपक्षी टीम के मैच का वीडियो एनालिसिस करे और बताये कि किस टीम के किस गेंदबाज और बल्लेबाज की क्या कमियां और स्ट्रेंग्थ है और टीम को किस तरह की रणनीति के साथ मैच खेलना चाहिए.

बीसीसीआई ने 185 वीडियो एनालिस्ट की फीस को भी बढ़ा दिया है. अब सीनियर वीडियो एनालिस्ट की फीस को बढ़ाकर 15 हजार रुपये प्रतिदिन कर दिया गया है जबकि असिस्टेंट वीडियो एनालिस्ट की फीस को बढ़ाकर प्रतिदिन 10 हजार रुपये कर दिया गया है.

T-20 मैच के लिए सीनियर वीडियो एनालिस्ट की फीस को 7,500 रु. प्रति मैच और असिस्टेंट वीडियो एनालिस्ट की फीस को 5000 रु. प्रति मैच कर दिया गया है. मैच फीस के अलावा इन दोनों लोगों के डेली अलाउंस के तौर पर 1500 रु. (आउटस्टेशन रेफरी के लिए) और 1000 रुपये (लोकल रेफरी के लिए) कर दिया गया है.

तो इस प्रकार आपने पढ़ा कि भारत का क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड, क्रिकेट खेलने वाले खिलाडियों के अलावा इस खेल से जुड़े अन्य लोगों को भी एक फिक्स्ड सैलरी देता है. उम्मीद है कि यह आर्टिकल क्रिकेट के शौक़ीन लोगों के ज्ञान को बढ़ाने में सफल होगा.

जानें भारतीय क्रिकेटरों को कितनी सैलरी मिलती है?

क्रिकेट मैचों में गेंदबाजों की गति को कैसे मापा जाता है?

Loading...