जानें बजट के बारे में 11 रोचक तथ्य

क्या आपको पता है कि पहली बार बजट कब पेश किया गया था या बजट डॉक्युमेंट की प्रिंटिंग कहां होती है? यदि आपका उत्तर नहीं है तो आइए इस लेख में हम उपरोक्त प्रश्नों के अलावा बजट से संबंधित 11 रोचक तथ्यों का विवरण दे रहें हैं जिससे आपको बजट को समझने में और आसानी होगी.
Created On: Feb 4, 2020 12:45 IST
Modified On: Feb 4, 2020 12:46 IST

आसान श्ब्ब्दों में कहें तो बजट, सरकार की आय और व्यय का लेखा होने के साथ-साथ सरकार द्वारा किये जाने वाले विकास कार्यों के लिए एक रोडमैप होता है. इसी बजट में यह बताया जाता है कि सरकार किस मिनिस्ट्री को कितना रुपया दे रही है?

बजट के बारे में 11 रोचक तथ्य

1. बजट से संबंधित दस्तावेजों की छपाई की प्रक्रिया शुरू होने से ठीक पहले नॉर्थ ब्लॉक में एक भव्य 'हलवा समारोह' का आयोजन किया जाता है। इस समारोह में वित्त मंत्री द्वारा बजट से संबंधित सभी मंत्रियों और अधिकारियों के बीच हलवा वितरित किया जाता है।
Halwa ceremony
Image source: Trak.in
2. बजट डॉक्युमेंट की प्रिंटिंग वित्त मंत्रालय के बेसमेंट में की जाती है। इस प्रिंटिंग प्रेस में लगभग 100 लोगों को बजट पेश होने से एक सप्ताह पहले पूरी जांच-पड़ताल करके भेजा जाता है और बजट प्रिंट होने तक इन लोगों को वहीं रूकना होता है|
3. भारत में सबसे अधिक बार बजट पेश करने वाले वित्त मंत्री मोरारजी देसाई थे| उन्होंने 10 बार बजट पेश किया था| मोरारजी देसाई ने दो बार 1964 और 1968 में अपने जन्मदिन के अवसर पर 29 फरवरी को बजट पेश किया था|
Morarji Desai
Image source: Dreaming
4. 1973-74 के बजट को भारत का “ब्लैक बजट” कहा जाता है, क्योंकि 1973-74 के दौरान बजट घाटा 550 करोड़ रूपये था|

भारत के वित्त मंत्रियों की सूची

5. आर वेंकटरमण और प्रणव मुखर्जी भारत के ऐसे दो वित्त मंत्री रहे हैं जिन्होंने बाद में भारत के राष्ट्रपति के रूप में भी काम किया है|
Pranav Mukharji
Image source: IndiaWires
6. भारत में पहली बार कॉर्पोरेट टैक्स की शुरूआत 1987 के बजट में राजीव गांधी के द्वारा की गई थी|
Rajiv Gandhi
Image source: Iloveindia
7. शब्द "अंतरिम बजट" का प्रयोग पहली बार “आर. शन्मुखम चेट्टी”  के द्वारा 1948-49 के अपने बजट भाषण में किया गया था| इसके बाद से छोटी अवधि के बजट के लिए अंतरिम बजट शब्द का प्रयोग किया जाने लगा|
8. जनवरी की शुरुआत से मीडिया को वित्त मंत्रालय से दूर कर दिया जाता है, ताकि कोई भी बजट संबंधी खबर मीडिया में लीक न कर सके। इस दौरान वित्त मंत्रालय की पूरी सुरक्षा की जिम्मेदारी इंटेलिजेंस ब्यूरो के पास होती है|
9. भारत में 7 अप्रैल, 1860 को ईस्ट-इण्डिया कम्पनी द्वारा ब्रिटिश क्राउन के अंतर्गत पहला बजट पेश किया गया था। भारत में बजट पेश करने वाले पहले वित्त मंत्री “जेम्स विल्सन” थे|
10. साल 2000 तक शाम 5 बजे ही बजट पेश किया जाता था लेकिन वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने 2001 में बजट पेश करने के समय में बदलाव कर इसे सुबह 11 बजे कर दिया| उस समय से हर बार सुबह 11 बजे ही बजट पेश किया जाता है| शाम 5 बजे बजट पेश करने की परम्परा की शुरूआत “सर बेसिल ब्लैकेट” द्वारा साल 1924 में शुरू की गई थी|
Yashwant Sinha
Image source: Rediff.com
11. आजादी के बाद भारत के पहले वित्त मंत्री “आर. शन्मुखम चेट्टी” ने 26 नवंबर 1947 को शाम 5 बजे पहला बजट पेश किया था| स्वतंत्र भारत का पहला बजट केवल 7 महीने (15 अगस्त, 1947 से 31 मार्च 1948 तक) के लिए ही पेश किया गया था|

GST बिल क्या है, और यह आम आदमी की जिंदगी को कैसे प्रभावित करेगा?

जानें सरकार हर वर्ष बजट क्यों पेश करती है?

भारत में हर वर्ष फरवरी महीने में केन्द्रीय वित्‍तमंत्री द्वारा आम बजट पेश किया जाता है| इस बजट में केन्द्र सरकार की आय और व्यय का वार्षिक लेखा-जोखा होता है| लेकिन क्या आपको पता है कि पहली बार बजट कब पेश किया गया था या अबतक सबसे अधिक बार किस वित्त मंत्री ने बजट पेश किया है या बजट डॉक्युमेंट की प्रिंटिंग कहां होती है? यदि आपका उत्तर नहीं है तो आइए इस लेख में हम उपरोक्त प्रश्नों के अलावा बजट से संबंधित 11 रोचक तथ्यों का विवरण दे रहें हैं जिससे बजट के संदर्भ में आपकी समझ और भी विकसित होगी|

बजट के बारे में 11 रोचक तथ्य

1.  बजट से संबंधित दस्तावेजों की छपाई की प्रक्रिया शुरू होने से ठीक पहले नॉर्थ ब्लॉक में एक भव्य 'हलवा समारोह' का आयोजन किया जाता है। इस समारोह में वित्त मंत्री द्वारा बजट से संबंधित सभी मंत्रियों और अधिकारियों के बीच हलवा वितरित किया जाता है।

Image source: Trak.in

2. बजट डॉक्युमेंट की प्रिंटिंग वित्त मंत्रालय के बेसमेंट में की जाती है। इस प्रिंटिंग प्रेस में लगभग 100 लोगों को बजट पेश होने से एक सप्ताह पहले पूरी जांच-पड़ताल करके भेजा जाता है और बजट प्रिंट होने तक इन लोगों को वहीं रूकना होता है|

3. भारत में सबसे अधिक बार बजट पेश करने वाले वित्त मंत्री मोरारजी देसाई थे| उन्होंने 10 बार बजट पेश किया था| मोरारजी देसाई ने दो बार 1964 और 1968 में अपने जन्मदिन के अवसर पर 29 फरवरी को बजट पेश किया था|

Image source: Dreaming

4. 1973-74 के बजट को भारत का “ब्लैक बजट” कहा जाता है, क्योंकि 1973-74 के दौरान बजट घाटा 550 करोड़ रूपये था|

भारत के वित्त मंत्रियों की सूची

5. आर वेंकटरमण और प्रणव मुखर्जी भारत के ऐसे दो वित्त मंत्री रहे हैं जिन्होंने बाद में भारत के राष्ट्रपति के रूप में भी काम किया है|

Image source: IndiaWires

6. भारत में पहली बार कॉर्पोरेट टैक्स की शुरूआत 1987 के बजट में राजीव गांधी के द्वारा की गई थी|

Image source: Iloveindia

7. शब्द "अंतरिम बजट" का प्रयोग पहली बार “आर. शन्मुखम चेट्टी”  के द्वारा 1948-49 के अपने बजट भाषण में किया गया था| इसके बाद से छोटी अवधि के बजट के लिए अंतरिम बजट शब्द का प्रयोग किया जाने लगा|

8. जनवरी की शुरुआत से मीडिया को वित्त मंत्रालय से दूर कर दिया जाता है, ताकि कोई भी बजट संबंधी खबर मीडिया में लीक न कर सके। इस दौरान वित्त मंत्रालय की पूरी सुरक्षा की जिम्मेदारी इंटेलिजेंस ब्यूरो के पास होती है|

9. भारत में 7 अप्रैल, 1860 को ईस्ट-इण्डिया कम्पनी द्वारा ब्रिटिश क्राउन के अंतर्गत पहला बजट पेश किया गया था। भारत में बजट पेश करने वाले पहले वित्त मंत्री “जेम्स विल्सन” थे|

10. साल 2000 तक शाम 5 बजे ही बजट पेश किया जाता था लेकिन वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने 2001 में बजट पेश करने के समय में बदलाव कर इसे सुबह 11 बजे कर दिया| उस समय से हर बार सुबह 11 बजे ही बजट पेश किया जाता है| शाम 5 बजे बजट पेश करने की परम्परा की शुरूआत “सर बेसिल ब्लैकेट” द्वारा साल 1924 में शुरू की गई थी|

Image source: Rediff.com

11. आजादी के बाद भारत के पहले वित्त मंत्री “आर. शन्मुखम चेट्टी” ने 26 नवंबर 1947 को शाम 5 बजे पहला बजट पेश किया था| स्वतंत्र भारत का पहला बजट केवल 7Jagranjosh महीने (15 अगस्त, 1947 से 31 मार्च 1948 तक) के लिए ही पेश किया गया था|

GST बिल क्या है, और यह आम आदमी की जिंदगी को कैसे प्रभावित करेगा?

 

Get the latest General Knowledge and Current Affairs from all over India and world for all competitive exams.
Comment (0)

Post Comment

3 + 0 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.